बुधवार, 9 अगस्त 2017

मीना और मधु ( फिल्म जगत की लोकप्रिय अभिनेत्रिओं के जीवन की त्रासदपूर्ण कथा )


                                                          मीना  और मधु
                                (  फिल्म जगत की  लोकप्रिय अभिनेत्रिओं के जीवन   की  त्रासदपूर्ण  कथा )



                                         मीना और मधु थी ,
                                        फिल्म जगत की  अद्वितीय सुंदरियां .
                                        महान अदाकारा  वोह, जिनके ,
                                       कदम चूमती थी  सारी  दुनिया.


                                        अभिनय कुशलता ऐसी  हर ,
                                         पत्थर दिल को  पिघला दे.
                                        बड़े-बड़े कला मर्मज्ञों से भी ,
                                        अपना लोहा मनवा  दे.


                                         रूप -लावन्य ऐसाकीउनके समक्ष ,
                                        स्वर्ग की अप्सराएँभी पानी भरें.
                                       ऐसी शोखी ,ऐसी दिलकश अदा ,
                                        की कुदरत भी  उनको सजदा करे .


                                         दौलत ने नवाज़ा जिन्हें  बेशुमार ,
                                         और एशो -इशरत ने  पलकें बिछायी .
                                         कामयाबी ने  आसमां  पर बिठाया ,
                                          खुशियाँ  जीवन पर  छाई .


                                        मगर  दुनिया ने  तो इन्हें  सफलता केशीर्ष पर देखा,
                                        क्या कभी  क़दमों के निशान  उनके देखे? .
                                        संघर्षों से गुज़रते हुए पथरीले रास्तों से चोट खाए,
                                        उनके  लहू-लुहान  पैरों के ज़ख्म  किसने देखे ?


                                       यह किसने जाना की परिवार की जिम्मेदारियों ने ,
                                        कैसे उनका  मासूम बचपन  छीन  लिया.?
                                         वोह शिक्षा-दीक्षा,  खेल-कूद,मौजमस्ती ,
                                         वोह रूठना-मानना ,बाल-हठ  सब छीन लिया.


                                          पिता की  कठोरता  ,तंगदिली व्  स्वार्थी प्रवर्ती ने ,
                                         मासूम कलियों को घुट-घुट कर जीने पर मजबूर किया.
                                         प्यार ,ममता, लाड की छत्र-छाया के बदले ,
                                         जीवन-संघर्षों की कड़ी -धुप में  जलने पर महबूर किया.


                                         आखिरकार समय गुज़रता गयाजैसे-जैसे ,
                                         उनकी कठोर मेहनत रंग लायी .
                                         आत्मसात किया पिता के सपनो को ,
                                          कामयाबी  . शोहरत कदम चूमने को आई .


                                         परिवार का बोझ उतरा तो  उनकी ,
                                         जान  में जान  आई .
                                          बहुत जी दूसरों के लिए अब तक,
                                         मगर अब अपने लिए जीने की बारी आई.


                                         सोचा था इन्होने की चलो ! बचपन  ना जी सकी ,
                                          तो जवानी को ही जी लेंगे.
                                          जो ना  मिला प्यार व् अपनापन ''अपनों ''  से ,
                                          अपने जीवन-साथी /प्यार में ढूंढ  लेंगे.


                                           मगर कितनी भोली थी यह ललनाएं ,
                                           इतना भी समझ न सकी.
                                           प्यार कोई इनसे करेगा  या इनकी दौलत /शोहरत से ,
                                           यह  हकीक़त पहचान ना सकी .


                                           यह वोह ज़हरीली दुनिया है जहाँ,
                                           जहाँ कोमल भावनाओं की कोई कद्र नहीं,
                                          जब तक  है रूप ,जवानी, दौलत-शोहरत,
                                          सब तुम्हारे हैं. इनके छीन जाने पर कोई किसी का नहीं.


                                           सच्चे प्यार की आरजू औ उम्मीद में ,फिर भी ,
                                            इन्होने  सब कुछ लुटा दिया .
                                           जो मिला इन्हें पहले'' अपना''बनाया ,
                                            और  फिर इन्हें भुला दिया.


                                            आये थे जो उनके जीवन में ज़ाहिर है के ,
                                            सच्चे प्रेमी /हमराज़ नहीं थे.
                                            वोह तो हे मात्र परवाने , जलती शमों को ,
                                            बुझा  कर चले गए.
                                           
                                            
                                       
                                           फिर वही कहानी ,फिर वही फ़साना ,
                                           बचपन का दोहराया गया.
                                            फिर वही घुटन,संताप, दर्द ,उपेक्षा , अपमान ,
                                            से उनका अंजाम लिखा गया.


                                            करोड़ों दिलों पर राज करने वालीये अप्सराएँ,
                                            अपने  ''देवताओं '' द्वारा  छली गयी.
                                             छूने से भी डरती थी जिन्हें  गरम हवा भी ,
                                           वो  वेह्शियों द्वारा प्रताड़ित  की गयी.


                                             आखिर जब देख ली  ''इस '' दुनिया की,
                                              असली सूरत ,तो  वो मासूम टूट से गईं .
                                              त्याग कर सब झूठे रिश्ते ,तन्हाई का दामन थामा ,
                                             और श्वेत वस्त्र धारण कर जोगन सी वोह बन गयी.


                                              बिना  किसी से शिकवा -शिकायत किये ,
                                              वोह  दुनिया का सारा ज़हर पी गईं .
                                               मधु और मीना नाम की फ़रिश्ते सी  नारियां ,
                                              बदले में प्यार ,ममता , नेकियाँ लुटाकर ,
                                              खुद मौत को गले लगा गईं . 
                                               
                                               जुदा हो गयी सदा -सदा के लिए हमसे वह ,
                                                भला यह कोई उम्र थी जाने की? .
                                                अभी तो और सफलता के शिखर को छूना बाकी था,
                                               अभी और लुटाने थे खजाने  अपनी अदाकारी औ हुस्न के ,
                                                पूछती है ''अनु ''  तुमसे ,ऐसी क्या जल्दी थी जाने की.
                                          
                                               फ़रिश्ते के रूप में इंसान थीं तुम ,
                                               मुश्किल है तुम्हारे गुणों का  व्यख्यान करना.
                                               मेरा  ह्रदय मगर चाहता है सदा ,
                                               तुम  प्यार की देवियों को प्रणाम करना.