सोमवार, 27 मार्च 2017

लौट आओ गोरैया ..(कविता)

                              लौट आओ  गोरैया ....! (कविता) 

                            

                                  लौट आओ ना  गौरैया !  तुम्हें देखने को 
                                  तरस  गए  हैं  मेरे  व्याकुल  नयन .
                                  कानों  ने भी तो  बड़े दिनों से  नहीं सूने ,
                                  तुम्हारे  मीठे -मीठे रसीले  बैन .


                                   अब  आ भी  जाओ  ना  की  तुम्हारे  बिना,
                                    सुनी -सुनी  है कब से  अटरिया  मेरी   .
                                   आंगन  भी  सूना   है  सुन चिड़िया !
                                    सामने आये  तो लूंगी  बलैया  तेरी .
                     
                                  
                                   रूठ  गयी  है  क्या  ?  या कहीं खो गयी ?
                                  जो दिखती नहीं  घर की छत व्  मुंडेरों पर.
                                  खिडकियों पर ,दरवाज़ों पर  नहींदिखती ,
                                   ना ही दिखती है गलियारे व् चौबारों पर.
                                 

                                   रोज़ ही दीवारों पर रखती हूँ दाना-पानी ,
                                   तू देख  तो सही आकर  अब भी  रखा है. 
                                    तेरे लिए  तो  आज  मैने  खीर -पूड़ी ,
                                     और  हलवा  भी  तेरे  लिए  रखा है. 


                                    अब आ भीजा   न मेरी  नन्ही  सहेली ! 
                                     मत कर आनाकानी ,और न ही सता. 
                                     आकर चुग ले  अपना  दाना-पानी ,
                                      जो  तेरे लिए  बड़े प्यार से मैंने रखा. 



                                     तू तो  मेरी अपनी सी थी , ओ चिडिया !,
                                     ची ची  करके  हर सुभह मुझे  जगाती  थी.
                                     दाना-पानी खत्म हो जाने पर  तू   ,
                                    चोंच से खाली बर्तन को टक -टकाती  थी .


                                    हाय ! बहुत याद  आता  है मुझे चहचहाना .
                                    सारे  घर -आँगन में  यहाँ -वहां फुदकना, 
                                    दानों के ढेर से दाना चुगना ,और पानी पीना ,
                                    तेरा सांवला -सलोना रूप लगता था लुभावना .


                                    कहाँ  है  तेरा  घोंसला  ,ओ नन्ही  गोरैया !
                                    और  तेरे नन्हे -नन्हे  बच्चे है  कहाँ ?
                                    बहुत वर्षों  से  नहीं देखा  तेरा घर-संसार ,
                                    बता  तूने अपना  बसेरा  बसा लिया है कहाँ ?



                                    तू क्या गयी ,के मेरे घर की रौनक चली गयी ,
                                    यूँलगे अपने परिवार की प्यारी सदस्य कहीं चली गयी.
                                    अब  आ भी  जा मेरी प्रिय सहेली ,यूँ हठ मत कर ,
                                    अब बता भी  दे ना !   क्यों  तू रूठ के  चली  गयी ?


                                  देख  ! चाहे कुछ भी हो  तू ज़यदा देर रूठी नहीं रह सकती ,
                                   कभी तो तुझे लौट  के  जल्दी आना  होगा .
                                  तेरी -मेरी   गहरी दोस्ती को  तुझे हर हाल में निभाना होगा.
                                    लौट  आओ  गोरैया ! के तुम्हें  आना होगा.   ....