मंगलवार, 28 फ़रवरी 2017

विद्या (कविता)

                                                         विद्या को  ना मलिन करो.. (कविता)
                                

                           जगत पिता  ब्रहमा  के कर कमलों  से ,
                           वीणावादिनी  की वीणा के स्वरों  से ,
                           निकली है सरिता सी  निर्मल, म्रदुल विद्या .
                           बहती  आ  रही है  सदियों से  यह ,
                           सरल,  मगर बेहद गंभीर यह ,
                            ज्ञान-ध्यान व् विज्ञान की  अजस्र विद्या .
                            रंग-भेद ,जाति-पांति और सम्प्रदाय ,
                            सारे  बन्धनों को तोड़  यह जाए ,
                           होती है  स्वतंत्र ,निष्पक्ष स्वभाव  की विद्या .
                            राह में  हो  चाहे  जितनी  दुर्गम घाटियाँ ,
                            भ्रष्टाचार ,बईमानी ,कुटिल राजनीतियाँ ,
                            सारी  बुराईयों को अपने संग बहा ले जाए विद्या .
                            समय  व् हालातों  के  कारण  ,
                            बदलते हुए साम्राज्यों के कारण ,
                           टूटी बेशक मगर  लुप्त नहीं हुई  जीवनदायिनी विद्या .
                           ज्ञान ,विज्ञानं व्  कला ,
                            साहित्य ,  वाणिज्य  ,चिकित्सा ,
                            या युद्ध-कला .
                            ऐसे अनेक  धाराओं  में  बंट गयी  विद्या.
                             भारत -भूमि  के विकास  में,
                             जन-जन के  उद्धार में .
                              सदा सहयोगिनी  रही है और रहेगी  यह  विद्या .
                              इस सरिता  सी निर्मल धारा  में,
                              इस  अथाह तल की  गहरायी में,
                               जो जितना  डूबा  उसी को   प्राप्त  हुई  यह विद्या .
                               जो हो जिज्ञासु प्रवृति  का ,
                                जिसमें भाव हो  पूर्ण  समर्पण का ,
                                उसी  सच्चे  मानव  को समर्पित होती है विद्या.
                                सांसारिक ज्ञान ,आकाशीय ज्ञान,
                                आत्म ज्ञान  ,ब्रह्म ज्ञान ,
                                 सभी  से परिपूर्ण  करती है यह विद्या.
                                  मानवता  का   पाठ पढ़ाकर ,
                                  अन्य  प्राणियों व् प्रकृति से प्रेम बढाकर ,
                                  मनुष्य को  संत बनाती  है  यह संस्कारी  विद्या .
                                  मेरी  विनम्र प्रार्थना  है  तुमसे,
                                  आज  के  भटके हुए  युवाओं से ,
                                  तुम  इस सरिता  रुपी विद्या  को ना  मलिन करो.
                                  ना घोलो  ज़हर  मेरे वतन  में ,
                                  गद्दारी ,व्  अलगाववादीता का ,
                                 इसके  शिक्षा -संस्थानों  रुपी मंदिरों को  ना   दूषित  करो.