गुरुवार, 29 सितंबर 2016

ऐ वतन ! (ग़ज़ल )


                                      वतन  !  

            
                      तेरे  हाथों  की लकीरों से  बदनसीबी  को मिटा देंगें,                                         देकर  अपना  लहू  तेरी  तकदीर  हम  संवार  देंगे 

          लगा है जो  दाग  तेरी  पेशानी  पर  उसे भी हम ,                                                        उस  दाग  को भी  जड़  से  हम मिटा  देंगे
         तेरी आँखों से बहते इन आंसुओं की  कसम ,                                                             अब न तुझे रोने देंगे ,तेरे  सारे आंसू  हम पी लेंगें ,                    
         तेरा  हुस्न जवानी ना लौटा  दे  जब तक  तुझे,                                                       हम  तब तक  चैन से दम भी ना ले सकेंगे

        घात लगाकर  जो  बैठे है  दुश्मन  घेर के खड़े,                                                            ऐसे  दुश्मनों को  हम  नाकों  चने चबवाएंगे 

        चाहे  हम  किसी भी  जाति.धर्म और प्रांत केवासी ,
        हम एक  थे  ,  हम  एक  हैं  और हम  एक रहेंगे


रविवार, 11 सितंबर 2016

कशमकश -ऐ- जिंदगी (ग़ज़ल)

                    कशमकश -ए-जिंदगी (ग़ज़ल) 

                            उफ़  ! कितनी  कशमकश  है जिंदगी  में  ,
                            गर आ  जाये  ऐसे में मौत  तो  क्या   हो  ? 
                   
                          
                            कमज़र्फ  दुनिया  औ  मतलबी  सब  रिश्ते ,
                            काश कोई  तो  मिले ऐसा   जो सच्चा   हो  .

                     
                            क्या   है  मेरी  हस्ती ? मैं  हूँ भी   या नहीं   हूँ,
                           क्या  फर्क पड़ता है ,जिसे किसी  ने पूछा ना हो .     


                           तकदीर   ने ढाए  जिसपर  सातम पे सितम ,
                           इतना  रोये  ,शायद  ही  कभी  दामन सुखा हो .   


                           बस  !   अब तोड़  भी डालो  सांसो  की डोर को ,
                            इल्तजा है मेरी खुदा  से  ,गर वोह  भी  रूठा  ना हो ,

हे कान्हा ! बता तू कहाँ है ? (कविता)

                ऐ कान्हा  ! बता तू  कहाँ  है  ?  (कविता)

            

                        हे कान्हा   ! बता  तू   कहाँ  है  ? ,
                        तेरे लिए ये  दिल  परेशां है .  


                        कहाँ  -कहाँ  नहीं   तलाश  किया  तुझे ,
                        मंदिर -मस्जिद या  गुरूद्वारे  में  तुझे , 
                       कहाँ  है  तेरा ठिकाना ? रहता  तू जहाँ  है.....


                        पर्वत  की कन्दराएँ या यमुना  के किनारे ,
                       बाग़-बगीचों में  या  खडा  कदम्ब  के सहारे ,
                       प्रकृति  के  किस छोर  में  तू   रवां  है  ?......


                         बच्चों  में  मासूमियत  रह  कहाँ गयी  ,
                         इंसानों   में  इंसानियत  रह कहाँ गयी  ,
                         ऐसे में असम्भव है  की  मिले तू यहाँ .....

           
                            
                          काली  रात  सा अँधेरा  है संसार   में ,
                          कहाँ से   पायुं  रौशनी  अंधकार  में ,
                          कौन सी  ऐसी  जगह  मिलेगा  तेरा निशा.......



                          तू गर  मेरे  दिल में  है  तो  एहसास करवा, 
                          मानसिक  पीड़ा  से   मुझे   निजात  दिलवा, 
                           मेरी रूह  को रोशन  कर  हो जा  जलवा नुमां........


                          या तो  अपना  वायदा  निभा  ,या मुझे मुक्ति  दे , 
                          इन अंधेरों  से  लड़ने  की  या    मुझे शक्ति  दे ,
                           कहीं  ऐसा न  हो तेरी  बेरुखी  ले ले  मेरी  जां.....