गुरुवार, 11 अगस्त 2016

मुझे भारत कह के पुकारो न..... ( भारत का दर्द ) कविता

           मुझे  भारत  कह कर  पुकारो ना  .....(  कविता)  

 

                  मत  पुकारो  मुझे  तुम  India,
                  मुझे  मेरे नाम  से पुकारो  न  ,
                 निहित  है जिसमें  प्यार व्  अपनापन ,
                 मुझे भारत  कह कर  पुकारो  ना.  


                  तुमने कभी  जाना ?  की मुझे  क्या भाता  है ,
                   तुमने तो समझा मुझे  बस   ज़मीं  का टुकडा  .
                   मैं   हूँ   इसके  अतिरिक्त  भी  बहुत  कुछ ,
                    मगर यह तुम्हारी समझ में  कहाँ आता है. !
                    मुझे  एक बार  तो समझने  की  कोशिश  करो न........



                    जो मुझे   जानते थे ,समझते  थे , 
                    वो  तो   ना जाने  कहाँ चले गए ,
                     छिडकते  मुझपर  अपनी जान ,
                    मेरे  वो प्रेमी  कहाँ खो  गए  ?  
                    तुम भी  उनकी तरह  मुझे प्रेम करके  दिखाओ  ना......


                    मेरे  आन-बान -शान  की  खातिर  जिन्होंने  ,
                    दुश्मनों  के समक्ष   तलवारें  अपनी  निकल ली  ,
                     मेरी   जिंदगी  के लिए  मेरे   वीर  सपूतों  ने ,
                    ज़िंदगियाँ  अपनी  मुझपर निसार  कर दिन. ...
                     क्या तुम लिख सकते हो  बलिदान की नयी गाथा ? ,बताओ  ना ......


                     इतराता  था  कभी  मैं   अपनी सुदरता  और   संपन्नता  पर  ,
                    अपनी  सभ्यता  ,संस्कृति व् आदर्शों  पर मुझे  मान  था.
                     मेरे  गौरव शाली इतिहास , एकता-अखंडता  और   ,
                     विद्वता /ज्ञान -विज्ञान  का पुरे  विश्व   में  बड़ा सम्मान  था.
                     खो चुका  हूँ  जो   तुम्हारी  वजह से  ,मुझे   फिर से  सब   लौटा दो  ना.....


                      तुम तो  वो चिराग  हो  निकले  हे  आज के मानव  !
                      जो अपना ही  घर  फूंक देता  है .
                       नित नए    जघन्य  अपराध   कर  ,खून-खराबा कर ,
                        अपनी  मातृभूमि को   शर्मिन्दा  करता   है  ,
                        नहीं देखा  जाता मुझसे   अब और  ,  अब कृपया  बस भी करो ना....


                        जाने   क्यों   तुम   ज़मीर  की  क्यों नहीं  सुनते ,
                        तुम तो  अब    खुदा की  भी  नहीं   सुनते ,
                         किस्से   करूँ  मैं  गुहार  ,थक गया हुआ  याचना  करते .
                          एक बार   तो   वास्तव   में मानव    बन जाओ  .
                          एक बार  तो तुम मुझे मेरे नाम से  पुकार लो ,
                           कसम   से   ! मुझे   बड़ा   आनंद   मिलेगा.
                           तुम्हारे   लबों   पर   आयेगा   गर ''भारत ''नाम ,
                            तो दिल मेरा  भी  प्यार .ममता  से भर जाएगा.
                            कृपया  मुझे   भारत   कहकर   पुकारो ना....
                           
                             
                         

                  
                      
                   
               

शुक्रवार, 5 अगस्त 2016

मुझे तो सद्गुरु मिल गए ..... (भजन)

                मुझे  तो सद्गुरु  मिल गए ...... (भजन)


                बरसों  से  थी  दिल में  एक  तमन्ना  ,
                आज पूरा हुआ  वो मेरा  सुन्दर सपना ,
                मेरे तो  भाग  जग  गए .......
                मुझे  तो सद्गुरु मिल  गए......


                 सद्गुरु  की   हुई मुझपर  ऐसी कृपा-दृष्टि ,
                 मुझपर की  अपने  अपार स्नेह की वृष्टि ,
                  मेरे  सभी  पाप  धुल गए .......
                  मुझे तो  सद्गुरु  मिल गए......


                   भवसागर   से  मुझे  पार  उतारने केलिए  ,
                   मेरी जीवन-नईया को  खेने  के लिए  ,
                    मेरे  खेवनहार   वो बन गए.....
                    मुझे तो  सद्गुरु  मिल गए......


                     मुझे  माया   से   है   वोह   सदा बचाते ,
                      मुझे   सदा सु-मार्ग  भी वो   दिखलाते ,
                      मेरे   सच्चे मनमीत  बन गए....
                       मुझे  तो   सद्गुरु मिल गए  ........


                      झूठी  है   दुनिया  की धन-दौलत, 
                      किस  काम की  यह एशो-इशरत ,
                      उनका  दर्शन ,उनकी भक्ति  का मिली  मुझको , 
                      मुझे  तो   खजाने  मिल गए  ....
                        मुझे  तो  सद्गुरु मिल गए.....


                        अब गर  थाम लिया  है मेरा हाथ  सद्गुरु, 
                         तो यह हाथ  कभी मत छोड़ना ,
                        चाहे कैसे भी  हो  हालात या  बुरी  घडी ,
                         मेरा साथ  कभी मत छोड़ना ,
                         मेरे  तो तुम अब  हम सफ़र   बन गए  ......
                          मुझे तो  सद्गुरु  मिल  गये....
                    

गुरुवार, 4 अगस्त 2016

सब्र की इन्तेहा (ग़ज़ल )

                                  सब्र  की  इन्तेहा  (ग़ज़ल )  

           


                      हैवानियत  की   हदें पार  कर  चूका है  जहान,
                 ऐ  खुदा! तू मुझे  बता आखिर  ,तू   है  कहाँ ?
               

                 मौत  के  साये में हुई हर  जीस्त  खौफज़दा,
                 तुम देखो तो  सही  धर्म  और ईमान है कहाँ?  
               

                ईमान तो गुम हो गया  गुनाहों  के  अंधेरों में,
                ज़मीर है  बेबस , झूठ का  बोलबाला है यहाँ.
              

                खून  के  रिश्ते  या  दिलों  के रिश्ते  क्या हैं ?,
                खुदपरस्ती  ही  दिखती  है प्यार  है  कहाँ?
              

                हवाएं  हैं ज़हरीली, शोला बरसाए  आसमाँ  भी,
               दरिया-सागर  में  पानी नहीं, लहू  बह रहा यहाँ .
               

                 हम परेशां हाल  करते  हैं इंतज़ार  कयामत का,
                 हमें  है देखना  तेरी  सब्र की  इन्तेहा  है  कहाँ ! 


                

               

                

               
               

                  

                

                 

                  

हमें तो काम है....... (भजन)

                                      हमें  तो काम है ..... (भजन)  

                 
                       हमें  तो काम  है   सद्गुरु  से ,
                      हमें दुनिया  से    क्या  लेना. 
                      उसी  का नाम  सदा जपना, 
                      उसी के ध्यान  में मग्न रहना . 


                      यह  जग  है वन  काँटों  का  ,
                      सारा  जंजाल  माया  का. 
                       जब  वोह  है खेवन हार ,
                       तो भवसागर  से   क्या डरना.....
                        हमें  तो ........

                       
                       है  दुनिया  के बदरंग  चेहरे ,
                       चेहरों  के ऊपर कई  चेहरे ,
                        हमारा  तो सुन्दर सलोना  वोह,
                        मेरे  सद्गुरु    का क्या  कहना .......
                        हमें  तो........


                         दुनिया  की तो  झूठी  प्रीत  है,
                         यहाँ कौन किसी का  मीत  है,
                       सभी  है स्वार्थ  से भरे  रिश्ते ,
                        बस  सद्गुरु  ही है  हमारा  अपना .....
                       हमें तो  ........


                      गर   है  संसार  से   बचना  ,
                      काल  और  चौरासी  से  बचना, 
                      तो   क्यों ना  जुटाएं  सद्कर्मों का खजाना ......
                      हमें  तो .........


                      यह जीवन  है  जिसकी  अमानत ,
                      चलो  जमा करें  सद्कर्मों की  दौलत ,
                      मिलन  की  घडी  जब आये   मनमीत से ,
                      अपने  प्राण-प्यारे  को  है   रिझाना. .....
                      हमें  तो .......