गुरुवार, 26 मई 2016

दिल -ऐ-साज़ (ग़ज़ल)


    74 ,  दिल –ऐ-साज़

  

 छेड़ा जो किसी ने साज़ कहीं,                                               दिल में होने लगी झंकार कहीं

रूह को करार क्या मिल गया,                                               आरजुओं ने अंगडाई ली कहीं

ख़्वाबों की दुनिया में आई बहार,                                         शुरू हुआ इश्क-ऐ-फ़साना कहीं

जिंदगी ज़ख्मों से आज़ाद हुई,                                          दर्द –ओ –गम मिट गए कहीं 

एक आवाज़ का ही जादू,                                             बन बैठा वो मेरा रहबर कहीं

मिला है और ना ही मिलेगा,                                                            वो बैठा है दूर छुपकर कहीं                                                  

कई सदियों का फासला है,                                           कभी मिटेगा भी या नहीं

आखिर यह कैसा बंधन है?                                             ता-उम्र जो टूट सकता नहीं  

‘’अनु’’पूछती है बारहा खुदा से,                                                क्या इश्क की होती इन्तेहा कहीं?