रविवार, 18 दिसंबर 2016

मर्यादा (कविता)

                                 मर्यादा  (   कविता ) 

                                आज  की   आधुनिक  बालाओ  ने  ,
                               जबसे   सर  से  चूनर  हटा दिया .
                               समाज  ने  मर्यादा का  भी  तब से ,
                               नामो -निशान   इसका मिटा  दिया .


                                पाश्चात्य  रंग  में  रंगी  यह  तितलियाँ .
                                पहनती  हैं  आधे -अधूरे   लिबास  .
                               अपनी  संस्कृति /सभ्यता की अवहेलना करें ,
                               कहाँ  रह   गयी  इनमें  शर्म और लिहाज़ .

                              
                              न  नमस्कार ,ना प्रणाम  न  आदाब ,
                              इन्हें  लगता  है चरण-वंदना  भी  आजाब .
                             अंग्रेजी  के hai , helloऔर bye कहती है ,
                              अभिवादन का यही दस्तूर  है  इनका  जनाब .


                               कहती  है  यह खुद  को  आधुनिक  नारी ,
                                शिक्षित ,स्वतंत्र  और  प्रगति शील .
                                मगर  अधिकारों  के साथ  कर्तव्यों को न समझे ,
                                ऐसी  है  स्वार्थी  और   दम्भी  यह बुध्धिशील .


                                क्या इसे  कहते हैं   आधुनिकता ?
                                के संस्कार  और शिक्षा  में  कोई सामजस्य  नहीं.
                                जुड़ना  तो चाहती  है  देश  के विकास के   साथ,
                                 मगर उसकी  सभ्यता /संस्कृति  के  प्रति  आदर नहीं.


                                इतिहास  गवाह  है  की  भारतीय महान  नारियों ने ,
                                सदा  अपनी शालीनता  और सादगी  से  सम्मान  पाया,
                                 समाज  की मर्यादाओं  का  ध्यान  में रखकर  भी ,
                                 खुद  को देश  की विकास की मुख्य-धारा  में  शामिल किया.


                                  लज्जा  है नारी  का  आभूषण और  स्वाभिमान है  घूँघट ,
                                  आत्म-विश्वास और  आत्म-सम्मान है उसका अस्त्र .
                                   अपनी  देवीय शक्ति  को पहचानो  हे  नारायणी !
                                   अपनी  आत्म-शक्ति  को बनाओ  तुम  शस्त्र .


                                   याद रखो  हे  आधुनिक  बालाओ  !
                                   तुम्हीं  ने   समाज  में  मर्यादा रखनी है. 
                                   घूँघट  ना सही  ,कोई पर्दा  भी  ना सही   मगर ,
                                    आँखों  में  ,आचरण  में तो   शर्म  रखनी  है.


                                    तुम  रहोगी  मर्यादा  में  तभी तो ,
                                    पुरुषों  को  भी  मर्यादा   में  रहना  सीखा  पाओगी .
                                     खुद के  साथ-साथ  अपनी  जाति को   भी ,
                                     समाज  में  उच्च स्थान  दिलवा पाओगी .
                                      
                                   
                                   
                                
                                

                                


                             
                               
                              
                              

शुक्रवार, 25 नवंबर 2016

इब्तदा –ऐ- इन्कलाब (विपक्षी राजनीतिक दलों की ओर कटाक्ष)

(विपक्षी  राजनीतिक दलों की ओर  कटाक्ष)

   इब्तदा –ऐ- इन्कलाब

                    

                      लो वो तो वतन में नया इन्कलाब ले आये,                         अजी! आप क्यों सरश्के गम में नहा आये   

                     क्या छुपा रखा था आपने भी कोई खजाना,                          उठाया जब नकाब आपका होश ठिकाने आये

               रियाया का हक मारकर उसी पर हुक्म चलाना,                            सच कहे तो आप अब तक गुंडा गर्दी करते आये  

              हम जान चुके हैं तुम्हेंअब बंद करो नुक्ताचिनियाँ,                           तुम्हारे सभी गुनाह अब हमारी नज़र में है आये  

                 दूसरों पर उंगली उठाना तो बहुत आसां है जनाब!                         पसीने छुट गए आपके जब खुद कटघरे में आये

                   उनका है ५६ इंच का सीना औ उसमें मजबूत इरादे,                     सही मायनो में ऐसे इंसान ही इतिहास बनाते आये 

                 अब यही लिखेंगे हमारे प्यारे वतन की नयी तकदीर,                       वरना आप जैसे कमजर्फ तो अब तक इसे लूटते आये

                ‘’अनु’’ को नाज़ है अपने वज़ीर-ऐ-आजम मोदी जी पर,                    उनकी सलामती की खातिर खुदा से दुआ हम कर आये  

 

 

शनिवार, 5 नवंबर 2016

रफ़ी गाता कम था रोता ज़ायेदा था ... ( कविता )

       रफ़ी  गाता  कम था  ,रोता  ज़ायेदा   था.  ...(कविता )

    
                    

     
                   रफ़ी   गर गाना   कम गाता  था  ,
                   तो ३६ ००००  से अधिक   गीत  किसने गाये  ?  
                    विभिन्न   भाषायों  में,  विभिन्न  भावो  में  ,
                   विभिन्न  अंदाजों   में   गीत   किसने   गाये ?  
                   
                   रफ़ी   गर  गाना  कम  गाता था  ,तो
                   हमें  दिल के तारों   को   झनझनाया   किसने ? ,
                  हमें  प्रेरणादायक  गीत सुना कर  जीना   सिखाया किसने ? 

                   रफ़ी   गर कम गाता  था ..
                  मुहोबत भरे   रोमानी गीत  गाकर  बेदिलों  को मुहोबत किसने   सिखाई ?
                   बच्चों  के लिए  ममता  से भरकर   उन्हें   लोरी भी  किसने   सुनाई ? 
                   और   अनगिनित   बाल-गीत  किसने   सुनाये  ?  


                   रफ़ी गर गाता  कम था  तो  ,
                    हमारे   दिल में   देश-भक्ति   किसने जगाई  ?
                     बर्फीली  पहाड़ियों  के  बीच   जाकर   हमारे बहादुर  फौजियों  को  , 
                      वीर  -रस   भरे  गीत   गाकर   किसने  उनका होंसला  बढाया ?  



                    रफ़ी गर गाता कम  था  तो ,
                    देशवासियों  को   भाषा - रंग-भेद  , जात पात  ,और मजहब  से  
                     ऊपर उठकर    इक इंसान   बनने   की प्रेरणा  किसने दी  ?  
                  ''   तू हिन्दू  बनेगा  ना  ,मुसलमान  बनेगा  ,
                      इंसान की  औलाद  है  इंसान बनेगा '' ..  किसने गया ? 
.



                      रफ़ी   गर  गाता  कम  था  तो,
                      भजन  और  कव्वाली  गाकर    हैं   खुदा और  ईश्वर  से जोड़ा किसने ?  
                       ''मन  तडपत  हरि दर्शन  को  आज '' ,गाकर  हरि -दर्शन  करवाया किसने ? 


                     
                       और  भी   कई  इंसानी ज़ज्बातों  से भरे  गीत ,
                        कुछ रोमानी  ,और कुछ  मस्ती भरे  गीत  ,
                         कुछ  दर्द भरे  तो कुछ गंभीर   जीवन- के फलसफे  से भरे गीत  ,
                          रफ़ी  ने नहीं  गाये   तो किसने गाये  ,बोलो  !  

                   
                              
                           माँ सरस्वती  की सच्ची  सेवा  ,साधना  और तपस्या   ,
                            का  उसे भरपूर वरदान  मिला . 
                             भारतवासियों  के ह्रदय  में प्यार और आदर ,
                              और   भारत सरकार से  राष्ट्रीय   सम्मान  मिला  .
                               जिसे   वह    संगीत   का पुजारी  कहीं   से खरीद  कर   नहीं  लाया . 
                                अपनी मेहनत ,लगन  ,  त्याग   ,  समर्पण  ,और सच्ची  निष्ठा  
                               से   है उसने   सब   कमाया.  


                                 जिसे कहते हैं  हम रफ़ी  ,वोह  हमारा   दोस्त  है ,
                                 हमारा   रहनुमा  ,हमारा गुरु  ,हमारा  खुदा   है. 
                                  हाँ   वोह रोता  था  ,  बहुत रोता  था   ,  जार-जार  रोता  था  , 
                                  मगर   अपने दिल  में,  चुपके  से .तन्हाई  में .
                                   हम   चाहने वालों   पर  लुटाता  था  अपनी  मीठी मुस्कान ,
                                   मगर  अपने गम  छुपाता   था दिल की  गहरायी  में .


                                  रफ़ी  रोता  बहुत  था ,तुम्हारी  फ़िल्मी दुनिया की अँधेरी  कडवी  
                                   सच्चाई   देखकर .
                                 ''  देखी   ज़माने   की यारी  .बिछड़े  सभी  बारी  -बारी ''  ,किसने  सुनाया  ?

                                                                  
                                    रफ़ी   रोता था  दुनिया   की दिखावटी  प्रीत  को देखकर ,
                                    तभी   कहता था  ''यह महलों  ,यह तख्तों  ,यह ताजों की दुनिया  ,,,
                                    यह इन्सान के दुश्मन  ,समाजों की दुनिया  ....
                                     यह दौलत  के भूखे रिवाजों  की दुनिया  ,
                                     यह दुनिया अगर मिल   भी जाये  तो क्या है ! ''  

                                    रफ़ी रोता था  नारी  के दर्द  को  महसूस कर 
                                    शैतानो  के   हाथ बिक  रही  नन्ही  कलियों  को  देखकर 
                                     वोह  दर्द में डूब जाता था.ऐसे में
                                    '' जिन्हें नाज़   है हिन्द पर वोह कहाँ  है  ?''  किसने गया ?


                                     भारतीय  सैनिकों  की    मौत पर भी   वोह    बहुत रोया.  
                                    '' कर चले हम फ़िदा  जानो-तन  साथियों  किसने  गया था. ?''


                                       ससुराल   में सुखी  रहे हर   बेटी  ,यह  दुआएं  किसने दी ?
                                         और वोह  हर    बेटी   के दर्द  में   भी बहुत  रोया  ,
                                           जब-जब  ससुराल  में उसने  दुःख उठाये .
                                        '' बाबुल  की दुआएं  लेती जा  ,जा तुझको सुखी संसार   मिले  ."  
                                         यह    गीत गाकर हर बाबुल  के दिल की आवाज़  बना वोह  ...



                                           रफ़ी   बहुत रोता  था  ,क्योंकि   वोह   एक इंसान  था.
                                            रफ़ी  हर दिल की  धड़कन  था , उनका करार था.
                                            रफ़ी   एक   मासूम सा  भोला  सा फ़रिश्ता था.
                                             उसके जैसे   नगीने  सदिओं  में   जन्म  लेते हैं  ,
                                             वोह एह कोहिनूर  था.

                                    
                                             रफ़ी   तानसेन  और बैजू-बावरा   का   प्रतिरूप  था.
                                              रफ़ी   बहु-प्रतिभा शाली  और   सर्व-गुण संपन्न  था,
                                              उसे तुम समझोगे   क्या  ,तुम उसके बराबर   बिलकुल नहीं.  .
                                              तुम हो उसके   क़दमों की धूल  के बराबर भी नहीं.
                                              उस अनमोल  हीरे को  तुम  आंको   इतनी तुम्हारी   औकात  नहीं. 
                                             
                                             
                                    
                                               चाँद   पर गर तुम  थूकने   की कोशिश  करोगे  ,
                                                तो अपना ही मुंह   गंदा करोगे.
                                               उठाई   गर हमारे   खुदा   पर उंगली ,
                                                 तो  हम क्या ,ज़माने की  नज़र से भी  गिरोगे.


                                     
                                  
                               
                           
                                  
                          
                       
                  
                      

                     


                    

गुरुवार, 20 अक्तूबर 2016

क्या हम मात्र वोट हैं ? (कविता)

               क्या   हम   मात्र   वोट  हैं  ?  (कविता)  

                      क्या  हम  मात्र   वोट  हैं?  
                     जीते  -जागते  इंसान   नहीं, 
                      प्रयोग  करते हो  बस  हमारा ,
                    जैसे हमारी  कोई पहचान  नहीं 


                      तुम हमें  खरीद सकते  हो  ,
                      और बेच  भी सकते हो तुम
                     वस्तु  ही  तो  है  हम  तुम्हारे  लिए ,
                    जो चाहे  हमारा  कर सकते हो तुम .


                    कहने   को तो  प्रजातंत्र  हमने   बनाया ,
                    और  हमारे   लिए  है  यह    प्रजातंत्र .
                     मगर   नोटों  की राजनीती   में  भैया !,
                     प्रजातंत्र   की आड़   में  चलता है   षड्यंत्र  .


                    कैसा   विकास  और कहाँ  का विकास !,
                    सब   तुम्हारा  ही   बिछाया  हुआ जाल  है, 
                   हमें  गरीबी   रेखा  से   ऊपर  उठाओगे तुम !
                   तुम्हारी  नामचीन  योजनायें  बस जंजाल  है.


                    करते   हो   ५  साल  के   अनगिनित   वायदे  ,
                  और  फिर  सबकुछ  भुला  देते  हो  .
                   मतलब   निकल  जाने  के  बाद  ,
                  तुम   हमें  कहाँ   पहचान   पाते    हो  ?


                  तुम्हारे   घर   और दफ्तर  के चक्कर   लगाते ,
                  हो जाते   हैं   हम   बहुत परेशान  .
                   मगर  तुम्हें   कहाँ  है   फुर्सत  और   परवाह ?
                  की सुन सको  हमारी  तकलीफों  का बखान .



                  तुमने   तो हमें   समझा है  कठपुतली  ,
                   इसीलिए  हमारी  भावनाओं  से खेलते हो  तुम,
                  दिखाकर  पहले  बड़े-बड़े  सपने  ,
                  जगाकर   नित  नवीन    आशाएं  ,
                  फिर   इन्हें   अपने क़दमों  तले   रोंदते   हो  तुम ,



                  अपने   वोट   की   खातिर   तुम  चाहे  ,
                  जितना   ईमान से   गीर   सकते हो  .
                  भाषा,  जाति ,धर्म  और   क्षेत्र  के  नाम  पर  ,
                  तुम   हम जनता  को  परस्पर   लडवा  सकते हो, 


                  तुम्हारे   सफ़ेद   कपड़ों  की तह   में  ,
                 छुपी  होती  है  तुम्हारी काली   करतूतें  .
                  सज्जनता  का सिर्फ  नकाब  ओढे  रहते  हो ,
                  कोई  कैसे  जाने  तुम्हारी  असलियतें  !  



                  जानते  है  हम  तुम्हारे  दिल  में  खोट है.
                   हम है  कमजोर   और असहाय  प्रजा  ,
                   हम तो   तुम्हारे लिए  मात्र  वोट   हैं.
                     


                  


                    

               
                   


                     

गुरुवार, 13 अक्तूबर 2016

कुछ तो शर्म करो .... (कविता)

                              कुछ   तो शर्म  करो ......  (कविता) 

                                अरे ओ  देश  के  नेताओ  और  अभिनेताओ  !  
                                तुम्हें   शर्म   नहीं  आती   है   क्या  ?  
                                मीडिया  में   छाये   रहने   के लिए  ,
                                 हथकंडे  अपनाते  हो क्या  -क्या  . 
                                 

                                कभी   बचकानी   हरकतें   करते हो  ,
                                तो कभी  देते हो  बेतुके  ,भड़कीले  बयान  ,
                                मकसद   है सिर्फ   लोकप्रियता  हासिल करना  ,
                                भले   ही  धूल   में  मिल जाये   तुम्हारा ईमान  .
                                ज़मीर कहीं  बेच   आये  हो   क्या  ?


                              बदजुबानी  में तुम्हारा  कोई  सानी   नहीं,
                              अमर शहीदों  , महापुरुषों  पर उठाते  हो उंगलियाँ,
                               त्याग  ,बलिदान  ,और  कर्मठता  से  भरे
                             हमारे बहादुर  सैनिकों   पर कसते  हो  फब्तियां  .
                             तुम्हें   हम सज्जन   कह सकते हैं  क्या ...?


                              देश में रहते हो  शान   से  , देश  का खाते  हो  ,
                              और   देश से   प्यार  तुम्हें  तनिक  भी नहीं,
                               हमारे  दुश्मनों   से हाथ  मिलाते हो  तुम  ,
                                 तुममें   देशभक्ति   ज़रा सी भी  नहीं.
                               गद्दार   हो तुम  ,और तुम्हें हम  कहें क्या ?


                              जितनी   आज़ादी   तुम्हें   यहाँ   मिली  ,
                              और कहीं  हासिल  करके   दिखाओ  ,तो जाने ,
                              जितना प्यार और सम्मान  तुम्हें  हमने  दिया ,
                              और कहीं  से   पाकर दिखाओ  ,तो जाने  .
                               एहसान -फरामोश   हो तुम  ,और कहें  क्या.?


                               कोई गरज   नहीं   हमारे  बहादुर  सैनिकों   को ,
                               तुम जैसों  को  अपनी  देशभक्ति  का सबूत  देने की.
                               अलबता  तुम हो  जाओ  तैयार  ,अब तुम्हारी  बारी  है ,
                               अपनी  देशभक्ति का सबूत  देने  की.
                                पता तो चले  कुर्बानी   होती है  क्या  !


                                नहीं है  ना तुममें ! इतना  साहस  ,इतनी निडरता ,
                               जो  रणभूमि   में  अपना  रक्त   बहा सको  ?
                                तो इतनी   शर्म  ही कर लो .  गर
                                देश के प्रति  निष्ठा  ही  रख   सको  .
                                देश को  तुम्हारी  वजह  से   शर्मिंदा  न  होना पड़े .
                                इतना   एहसान   कर सकते हो  इस पर  क्या  ?                 
                            


                                

गुरुवार, 29 सितंबर 2016

ऐ वतन ! (ग़ज़ल )


                                      वतन  !  

            
                      तेरे  हाथों  की लकीरों से  बदनसीबी  को मिटा देंगें,                                         देकर  अपना  लहू  तेरी  तकदीर  हम  संवार  देंगे 

          लगा है जो  दाग  तेरी  पेशानी  पर  उसे भी हम ,                                                        उस  दाग  को भी  जड़  से  हम मिटा  देंगे
         तेरी आँखों से बहते इन आंसुओं की  कसम ,                                                             अब न तुझे रोने देंगे ,तेरे  सारे आंसू  हम पी लेंगें ,                    
         तेरा  हुस्न जवानी ना लौटा  दे  जब तक  तुझे,                                                       हम  तब तक  चैन से दम भी ना ले सकेंगे

        घात लगाकर  जो  बैठे है  दुश्मन  घेर के खड़े,                                                            ऐसे  दुश्मनों को  हम  नाकों  चने चबवाएंगे 

        चाहे  हम  किसी भी  जाति.धर्म और प्रांत केवासी ,
        हम एक  थे  ,  हम  एक  हैं  और हम  एक रहेंगे


रविवार, 11 सितंबर 2016

कशमकश -ऐ- जिंदगी (ग़ज़ल)

                    कशमकश -ए-जिंदगी (ग़ज़ल) 

                            उफ़  ! कितनी  कशमकश  है जिंदगी  में  ,
                            गर आ  जाये  ऐसे में मौत  तो  क्या   हो  ? 
                   
                          
                            कमज़र्फ  दुनिया  औ  मतलबी  सब  रिश्ते ,
                            काश कोई  तो  मिले ऐसा   जो सच्चा   हो  .

                     
                            क्या   है  मेरी  हस्ती ? मैं  हूँ भी   या नहीं   हूँ,
                           क्या  फर्क पड़ता है ,जिसे किसी  ने पूछा ना हो .     


                           तकदीर   ने ढाए  जिसपर  सातम पे सितम ,
                           इतना  रोये  ,शायद  ही  कभी  दामन सुखा हो .   


                           बस  !   अब तोड़  भी डालो  सांसो  की डोर को ,
                            इल्तजा है मेरी खुदा  से  ,गर वोह  भी  रूठा  ना हो ,

हे कान्हा ! बता तू कहाँ है ? (कविता)

                ऐ कान्हा  ! बता तू  कहाँ  है  ?  (कविता)

            

                        हे कान्हा   ! बता  तू   कहाँ  है  ? ,
                        तेरे लिए ये  दिल  परेशां है .  


                        कहाँ  -कहाँ  नहीं   तलाश  किया  तुझे ,
                        मंदिर -मस्जिद या  गुरूद्वारे  में  तुझे , 
                       कहाँ  है  तेरा ठिकाना ? रहता  तू जहाँ  है.....


                        पर्वत  की कन्दराएँ या यमुना  के किनारे ,
                       बाग़-बगीचों में  या  खडा  कदम्ब  के सहारे ,
                       प्रकृति  के  किस छोर  में  तू   रवां  है  ?......


                         बच्चों  में  मासूमियत  रह  कहाँ गयी  ,
                         इंसानों   में  इंसानियत  रह कहाँ गयी  ,
                         ऐसे में असम्भव है  की  मिले तू यहाँ .....

           
                            
                          काली  रात  सा अँधेरा  है संसार   में ,
                          कहाँ से   पायुं  रौशनी  अंधकार  में ,
                          कौन सी  ऐसी  जगह  मिलेगा  तेरा निशा.......



                          तू गर  मेरे  दिल में  है  तो  एहसास करवा, 
                          मानसिक  पीड़ा  से   मुझे   निजात  दिलवा, 
                           मेरी रूह  को रोशन  कर  हो जा  जलवा नुमां........


                          या तो  अपना  वायदा  निभा  ,या मुझे मुक्ति  दे , 
                          इन अंधेरों  से  लड़ने  की  या    मुझे शक्ति  दे ,
                           कहीं  ऐसा न  हो तेरी  बेरुखी  ले ले  मेरी  जां.....
                          
         

गुरुवार, 11 अगस्त 2016

मुझे भारत कह के पुकारो न..... ( भारत का दर्द ) कविता

           मुझे  भारत  कह कर  पुकारो ना  .....(  कविता)  

 

                  मत  पुकारो  मुझे  तुम  India,
                  मुझे  मेरे नाम  से पुकारो  न  ,
                 निहित  है जिसमें  प्यार व्  अपनापन ,
                 मुझे भारत  कह कर  पुकारो  ना.  


                  तुमने कभी  जाना ?  की मुझे  क्या भाता  है ,
                   तुमने तो समझा मुझे  बस   ज़मीं  का टुकडा  .
                   मैं   हूँ   इसके  अतिरिक्त  भी  बहुत  कुछ ,
                    मगर यह तुम्हारी समझ में  कहाँ आता है. !
                    मुझे  एक बार  तो समझने  की  कोशिश  करो न........



                    जो मुझे   जानते थे ,समझते  थे , 
                    वो  तो   ना जाने  कहाँ चले गए ,
                     छिडकते  मुझपर  अपनी जान ,
                    मेरे  वो प्रेमी  कहाँ खो  गए  ?  
                    तुम भी  उनकी तरह  मुझे प्रेम करके  दिखाओ  ना......


                    मेरे  आन-बान -शान  की  खातिर  जिन्होंने  ,
                    दुश्मनों  के समक्ष   तलवारें  अपनी  निकल ली  ,
                     मेरी   जिंदगी  के लिए  मेरे   वीर  सपूतों  ने ,
                    ज़िंदगियाँ  अपनी  मुझपर निसार  कर दिन. ...
                     क्या तुम लिख सकते हो  बलिदान की नयी गाथा ? ,बताओ  ना ......


                     इतराता  था  कभी  मैं   अपनी सुदरता  और   संपन्नता  पर  ,
                    अपनी  सभ्यता  ,संस्कृति व् आदर्शों  पर मुझे  मान  था.
                     मेरे  गौरव शाली इतिहास , एकता-अखंडता  और   ,
                     विद्वता /ज्ञान -विज्ञान  का पुरे  विश्व   में  बड़ा सम्मान  था.
                     खो चुका  हूँ  जो   तुम्हारी  वजह से  ,मुझे   फिर से  सब   लौटा दो  ना.....


                      तुम तो  वो चिराग  हो  निकले  हे  आज के मानव  !
                      जो अपना ही  घर  फूंक देता  है .
                       नित नए    जघन्य  अपराध   कर  ,खून-खराबा कर ,
                        अपनी  मातृभूमि को   शर्मिन्दा  करता   है  ,
                        नहीं देखा  जाता मुझसे   अब और  ,  अब कृपया  बस भी करो ना....


                        जाने   क्यों   तुम   ज़मीर  की  क्यों नहीं  सुनते ,
                        तुम तो  अब    खुदा की  भी  नहीं   सुनते ,
                         किस्से   करूँ  मैं  गुहार  ,थक गया हुआ  याचना  करते .
                          एक बार   तो   वास्तव   में मानव    बन जाओ  .
                          एक बार  तो तुम मुझे मेरे नाम से  पुकार लो ,
                           कसम   से   ! मुझे   बड़ा   आनंद   मिलेगा.
                           तुम्हारे   लबों   पर   आयेगा   गर ''भारत ''नाम ,
                            तो दिल मेरा  भी  प्यार .ममता  से भर जाएगा.
                            कृपया  मुझे   भारत   कहकर   पुकारो ना....