बुधवार, 23 दिसंबर 2015

मैं पशेमा हूँ ..... ( ग़ज़ल)

                           मैं  पशेमां   हूँ  ...... (ग़ज़ल) 

                      प्यारी  बिटिया  दामिनी (ज्योति सिंह )  को समर्पित एक ग़ज़ल ) 

                           
                             क्या  कहूँ मेरी  बेटी  !  मैं बहुत परेशां  हूँ ,
                            मिल ना  सका  तुझे इन्साफ ,मैं  पशेमां  हूँ . 

                             
                           तेरे  गम  से  मेरा  गम  ऐ  लाडो ! जुदा  नहीं,
                          तेरे  अश्को -आहों  में लहू की मानिद रवां हूँ .



                          तेरी   दर्द  भरी  चीखें  अब भी  मैं  सुनती हूँ ,
                          जाने  ज़माना  क्यों  हो  रहा बेहरा ,हैराँ  हूँ . 
                         
                         इन  सियासत दारों  को  तो अपनी पड़ी  है ,
                         इन्हें तो शर्म नहीं ,  मगर मैं शर्मिन्दा  हूँ .


                         उस  वेह्शी /दरिन्दे को इतनी   हिफाज़त  ! 
                        अंधा कानून है  यह  और   मैं  क्या  कहूँ ?
                          
                          
                        हरे  रह गए  तेरे  ज़ख्म , और   रूह   बेचैन ,
                        जो ना  सिल सका  में वोह तेरा चाक दामां  हूँ .    



                         तनहा -तनहा  से  तेरे  माता-पिता , गमगीन ,
                         टूटे  हुए  ,बिखरे हुए अरमानो  को  लिए देख रही हूँ. 



                         खवाब   तो तूने  भी  देखे  थे  बेशुमार , ऐ दुखतर !,
                         मैं  तेरे  अधूरे ,टूटे हुए   ख्वाबो  का   आईना  हूँ  .



                          ऐसे   बेइंतेहा  ज़ुल्म  आखिर  कब तक सहेगी  बेटियां ?
                         आज  हर इंसा  के दिल से उठता  मैं  एक सवाल  हूँ .


                        मौजूदा  हालात  से  परेशां  होकर  पूछती है '' अनु ''
                      कहाँ  है  खुदा ! लौट आ !उससे करती  मैं  गुजारिश  हूँ .
                         

रविवार, 20 दिसंबर 2015

माँ तो माँ होती है ... (कविता)

                       माँ   तो   माँ   होती    है  ....  (कविता ) 

                                       
                                 माँ   तो   बस  माँ   ही होती है ,
                                 क्या   सगी ,क्या सौतेली .
                                 मगर  यह समझता  है कौन ,
                                 वोह  है एक अनबुझ पहेली . 




                                 कैसा  है यह आधुनिक समाज ,
                                 बदला  है  बेशक रहने का  सलीका .
                                 मगर  विचारों  से  ना बदला समाज,
                                 है वही  संकुचित  सोच  ,वही तरिका .



                                माँ   ही तो  होती  है  वोह  भी ,
                                जो  प्रतिपल  संतान की फ़िक्र करती है, 
                                त्याग  ,तपस्या की  मूर्ति बन , 
                                जो  बस  संतान के लिए  जीती  है .


                             
                                 लेकिन   उसके  प्रेम  और  बलिदान को ,
                                  जग में  समझता  है  कौन ?
                                  काँटों का ताज  पहनकर  सर   पर ,
                                  अंगारों  पर चलती है रहकर ,मौन . 



                                   वोह  पुरे करती  है  अपने  सारे फ़र्ज़ ,
                                  और  उठाती  है ज़िम्मेवारियों  का  बोझ .
                                   मगर  इसके बदले  पाती  है  उपेक्षा ,अपमान ,
                                   और   समझी  जाती  है  स्वजनों पर बोझ .



                                     क्रोध  और   नाराज़गी को बयान करे कैसे ,
                                     यदि  करे तो  बदनाम हो  जाये .
                                     ''ऐसी  ही होती है सौतेली माँ ''  ताना  वोह सुने ,
                                      उसे   ज़माने  भर के कटाक्ष  सुनाये  जाए . 



                                      उसकी डांट -फटकार ,नाराज़गी के परोक्ष में ,
                                       छुपी  होती है सगी माँ  सी ही संतान के लिए भलाई .
                                       जन्म   नहीं दिया  अपने गर्भ  से तो क्या ,
                                       संतान  के  दिल से  तार  से  तार तो है उसने मिलायी . 




                                        उसके  अरमानो   और  सपनो  का   ,
                                        केंद्र -बिंदु  होती  है  उसकी  संतान .
                                        हर   माँ  कीतरह  अपनी  ख़ुशी ,और  प्यार ,
                                         उनपर लुटाना  चाहती है  यह  माँ .



                                           सौतेली   माँ   जितनी  भी  हो  सुशील  ,
                                          संस्कारी ,सुशिक्षित और  गुणवान .
                                         मगर है तो वोह  कोल्हू  बैल , निर्गुणी ,
                                         और   सबके  लिए   प्राणी एक अनजान .


                                       
                                          हां   प्रभु  ! हां  प्रभु  !   , कैसा लिखा  तूने  \भाग्य ,
                                          सौतेली  माँ  का तमगा पहनाया , नहीं दिया  सौभाग्य . 
                                           कान्हा  जैसी  सन्तान देकर इसको  भी ,
                                           प्रदान करते  माता यशोदा  जैसा   सौभाग्य .