रविवार, 23 अगस्त 2015

टूटे हुए ख्वाब ... (ग़ज़ल )


                                         टूटे  हुए  ख्वाब ... (ग़ज़ल )   

                                              




       अपने  हर ख्वाब  को टूटते  हुए  मैने  देखा है,

          हर  चेहरे  के पीछे  छुपी  हकीक़त को  देखा है .
      
        गुनाह   चाहे  किसी ने  भी  क्यों  ना किये हों ,
         मगर सर  सिर्फ  अपना  ही झुकता  देखा   है.
     जिससे  भी  की उम्मीद  वफ़ा की,प्यार की,
       उसे  ही दुश्मनी  निभाते  हुए हमने  देखा है.
        
      होते  होंगे  कुछ खुशनसीबों  पर  खुदा  के करम,
                हमने  तो  उसे  बस अपने पर  सितम करते  देखा है .
         
          उफ़ ! यह  बेशुमार गम  और  बेमतलब सी जिंदगी ,
         अपने ही  अरमानो  को  दफ़न  होते हमने   देखा है.
        
             इस पर  भी  रफ़ीक कहते  है  खुश रहो,मुस्कराओ तो !
          हालातों  पे रोने  से क्या कोई गम गलत होता है !    

गुरुवार, 20 अगस्त 2015

हे राजीव ! तुम्हें नमन! ( कविता)

                              भूतपूर्व  प्रधानमंत्री   स्व श्री  राजीव-गाँधी  जी   के जन्म-दिवस  पर  विशेष 

                          हे   राजीव !  तुम्हें नमन (कविता) 

                                   
       
                                        हे  राजीव  ! तुम्हे  नमन ,
                                        आज  ह्रदय में  महका  है पुन : 
                                        तुम्हारी  यादों का चमन .


                                         इस गुलिस्ताँ -ऐ- वतन का  हर ,
                                        फूल  और  कली  तुम्हारा  पता  पूछे  है .
                                         कैसे हो ? ,कहाँ  हो  ?  क्यों  चले गए तुम ,
                                         जाने कितने  सवाल  पूछे  है. 


                                         नवयुग  की पहचान  तुम थे , 
                                         थे  आधुनिक भारत के स्वप्न-दृष्टा .
                                         थमाकर  कंप्यूटर व् लैपटॉप ,हमें 
                                         डिजिटल  वर्ल्ड  से  जोड़ा  रिश्ता .

                    

                                      गाँव -गाँव  ,और शहर -शहर  में, 
                                     विज्ञान , प्रोधोगीकी व्  नविन  तकनिकी  .
                                     जन-जन  की  आर्थिक  उन्नति  हेतु ,
                                     देश  के चहुंमुखी  विकास  ,रक्षा  की नयी  तकनिकी


                                     अपना   बुध्धिकौशल , अपना  अपूर्व  ज्ञान ,
                                    अपना  सम्पूर्ण  जीवन  देश पर  वार दिया.
                                     आया जब  इम्तेहान  कुर्बान होने का,
                                     तो  मौत  के सामने  खुद को हार  दिया.


                                     हे  निष्कपट ,निश्छल  प्यारी  सोम्य मूर्ति ,
                                     तुम्हारी  भोली  ,मीठी  मुस्कान  कैसे  पायेंगे /
                                     तुम्हारे  सद्गुणों  ,तुम्हारी  महानता ,
                                     और तुम्हारे  योगदान को कैसे  भूल पायेंगे ?


                                     तुमने  पा लिया  स्थान  ईश्वर   के चरणों में,
                                      मगर  ह्रदय  में हमारे  तुम  सदा  वास करोगे .
                                     बदले  जितने भी  युग,  और  देश की  सरकारें,
                                      देश  या विदेश ,जन-जन की यादों  में  तुम  रहोगे.
                                   

                                      तुम्हारे  जन्म दिवस  पर ,
                                      इस   पुण्य  दिवस  पर ,
                                       हे राजीव ! तुम्हें कोटि-कोटि  नमन.

बुधवार, 12 अगस्त 2015

मंजिल की तलाश (कविता)

                              मंजिल  की तलाश (कविता) 

                     
                              मंजिल की  गर  तलाश   है  साथियों ,
                              रुको मत ! बस  कदम  बढाते  चलो .
                              मगर  पथ  पर  गिरे  असहायों को भी ,
                               उठाकर  अपने साथ  ले कर चलो .  


                                                                  माना  की  राहें  हैं  तुम्हारी   कांटो से भरी ,
                                                                  पगडण्डीयां  है  घने  तिमिर  से  भरी ,
                                                                 होंसले  कर  बुलंद   निराशाओं  में भी , 
                                                                 आशाओं  का  दीप  जलाते  चलो .
                          
                     
                      दिल में हो लगन  यदि  सच्ची ,
                      तो पत्थर भी पिघल जाते हैं.
                      हो  बुलंद  हिम्मत  इंसान की ,
                      तो   तारे  ज़मीं  पर उतर आते हैं.
                     आत्म-विश्वास की धार को तेज कर के चलो .
                                  
                                                                             
                                                                 कौन  सी  ऐसी  चीज़ है दुनिया में  दुर्लभ ,
                                                                 इंसा  कर ठान  ले  तो सब-कुछ है सुलभ .
                                                                 सिकंदर ने तो जीता था  हिंसा  से जहां को .
                                                                 तुम भी  प्रेम से  जीत  सकते हो  जहां को .
                                                                 जोत से जोत नेह  की  दिलों में जलाते  चलो. 

            
          वो  जवानी  जवानी नहीं  जो देश पर ना मिटे, 
          इसकी  आन की  खातिर  कोई  सर   ना कटे .
          जवानी  तो वोह  है  जो जान  कुर्बान   करे, 
          इसके  सदके हर हसरत औ अरमान   करे. 
          मिटाकर खुदी को  देश की  शान बढाते चलो .
                                                                           

                                                                 देश  की  खुशिया  व्  समृद्धि  है दौलत हमारी ,
                                                                 इसकी  तरक्की  में ही तरक्की  है हमारी  ,
                                                                इसके नाम  को ,आन  को  शिखर पर पहुंचाना  ,
                                                                सही  मायेने  में  मंजिल  यही है  हमारी .
                                                               अपने वतन को  ही अपनी  जिंदगी मानते  चलो. 
                                                                             
                                                                             

सोमवार, 10 अगस्त 2015

एक इल्तजा क़ज़ा से ..... (ग़ज़ल)

               एक इल्तजा  क़ज़ा से ..... ( ग़ज़ल ) 

                     कहीं  से कुछ  तो  इशारा  मिल जाये ,
                     ऐ  सितमगर  तकदीर  !   जो   तेरा .


                     मैं   क़ज़ा  से  करुँगी  इल्तजा   के  ,
                    थाम   ले  अब    वोह दामन  मेरा .


                    खुश्क  है   लब  और  जिंदगी   भी  ,
                   आबे-हयात नहीं  मुझे  ज़हर देदो  .
              
               
                  मेरी  उम्मीदों  की  शम्मा  लडखडा   रही है,
                  ना भरा  हो जी  ,दुश्मनों ! तो बढ़ा दो अन्धेरा  .
                 

                  जी में  यह आता है की  कहीं  खो  जायुं  मैं ,
                  खाक हो जाये जिस्म ,मिट जाये वजूद सारा .


                 अब   बस  बहुत थक चुकी  हूँ  मैं  मेरे रफीको !
                 नींद  आ रही  है  मुझे  कफ़न  ओढ़ा  दो  ज़रा .


                  
                  

                       

जिंदगी के हादसे (ग़ज़ल)

                    जिंदगी   के हादसे  (ग़ज़ल) 


                            हादसों   से   भरे  इस  जहान   में , 
                           जिंदगी  जिन हालातों  से गुज़रती  है. 

                          
                          हर सु  बेचैनी , तड़प  और कई फिक्रें ,
                          कब  दो  घडी  सुकून  से  बैठती   है.  

 
                         क्या ,कब  ,कैसे ,क्यों, किसलिए ? 
                         ज़हन  में सवालों  की झड़ी रहती है. 


                       पैरों तले  ज़मीं  नहीं ,आसमा है  दूर ,
                       सहारा  न मिले खुदा  का तो रोती है. 


                      एक हसीं  खवाब  जो  हो गया बेवफा ,
                      याद  में जिसके मेरी  रूह  तड़पती   है. 


                     जिंदगी  है बेमुरव्वत ,और बेवजह तो फिर ,
                     लाश की तरह  अनु  इसे क्यों  ढोती  है  ?    

शनिवार, 8 अगस्त 2015

मेरी हमराज़ , मेरी ग़ज़ल (गज़ल)

                    मेरी  हमराज़  ,मेरी ग़ज़ल (ग़ज़ल ) 

                                मेरी  ग़ज़ल  है  अफसाना  मेरे  दर्दो -गम का ,
                                महसूस करुँगी  जो मैं  वही  तो बयां  करेगी  .

                               यह हमनशी  है मेरे जार-जार बहते अश्कों की , 
                              लब जो  ना कह सकेंगे ,तो  इनकी जुबां बनेगी .


                              मेरे दिल के टुकड़े  हुए और  हुआ खुद्दारी का खून ,
                             जो है आँखों देखा , उसी सितम की दास्ताँ  कहेगी.


                             मेरे अरमानो  का जनाज़ा  निकला कितनी  धूम से ,
                             फिर  खोयी  मैं  जिस गुमनामी में वोह जहां  देखेगी.  

                             मैने जब नहीं देखी कोई ख़ुशी अपनी  जिंदगी में, 
                            तो  ज़ाहिर है  मसर्रतों  के जाम यह भी कैसे पीयेगी ?

                            मेरी ग़ज़ल है हमराज़,  हमदर्द  और हमसफ़र मेरी ,
                            जो मेरी मय्यत के साथ और मेरे साथ ही ख़ाक होगी .

                            
                              

मुहोबत : खवाब या हकीक़त (ग़ज़ल)

                   मुहोबत  : ख्वाब  या हकीक़त (ग़ज़ल ) 

                                 
                          ऐ खुदा  !  तेरी  दुनिया में मुहोबत  बस एक खवाब है,
                          जिसका   एक अफसाना  किताबों  के सिवा कहीं नहीं, 
          
                          अश्कों  को  पोंछने वाले ,दर्द-ऐ-दिल  मिटाने वाले ,
                         हकीक़त  में होते हैं क्या ? हमने तो कभी देखा नहीं.


                          ख्वाबों  में ही  देखा  की  कोई  आया  हमें  थामने ,
                          मगर  जब आँख  खुली  तो  पाया कोई  भी नहीं. 


                         तड़पकर  रोये  अपने ही दामन  में मुंह छुपाकर,
                        क्या करें ! अश्क पोंछने को किसी का  दामन जो नहीं.  

शनिवार, 1 अगस्त 2015

हमें जीने दो .... (कविता)

                                        जीव -जंतुओं की करुण पुकार 

                            हमें  जीने दो ....(कविता) 

                                         हमें  जीने दो , हमें  जीने दो ,
                                         यह धरती  जितनी है तुम्हारी ,
                                         उतनी  ही हमारी  भी  ,
                                         इस धरती पर  हमें भी रहने  दो ....


                                        
                                         माँ  सामान  नदियों  को  मैला  कर दिया ,
                                        कुओं  व् तालाबों पर भी  हक  जमा लिया ,
                                         हम   क्यों पिए गंदे नाले का पानी ,
                                         हमारे लिए एक जलस्त्रोत तो  छोड़  दो ....


                                         अत्यधिक  वायु प्रदुषण  से  हवाएं हुई  ज़हरीली ,
                                         दम  घुट  रहा हमारा ,आँखें  हो गयी  पनीली ,
                                         श्वास  अवरुद्ध हो गए  तो  कैसे जीवित  रहेंगे ?
                                          दया  करो ! हमारी प्राण वायु  को  बक्श  दो ....


                                         जिन   वृक्षों  से  मिलते  थे ,फल-फुल, 
                                         ओषधि व्  घनी  ,शीतल  छाया ,तुम्हें ,
                                          वही  था छोटा सा  आशियाना  हमारा ,
                                         उन्हें मिटाने  का क्या अधिकार था तुम्हें ?
                                          अब हम  कहाँ  रहें  हमें जवाब दो ......

            
                                          हमारी  धरती  का गौरव थे यह उतंग पहाड़ ,
                                         बड़े  जीवों का  सुरक्षित  आश्रय थे यह पहाड़ ,
                                          डायनामेट  से  जिन्हें  तुमने  नष्ट  कर दिया ,
                                          वर्षा  करने  में  जो सहायक  थे यह पहाड़ .
                                          हम कहते हैं अब यह  बर्बादी बंद कर दो .....

                                          
                                          यह  विशाल  प्रकृति  ,और  इसके संसाधन ,
                                           इससे  प्राप्त फल-सब्जियां और  अन्न ,
                                          सब हथियाकर  भी  तुम्हारी  तृप्ति नहीं हुई ,
                                         तुम  हो कितनी स्वार्थी ,लालची , यह  बात लो मान .
                                           तुम्हारी  हद  कहाँ  तक  जाएगी ,यह बता दो .....

                                          
                                           तुमने तो प्राचीन काल से अब तक यह धर्म  बनाया,
                                           हम  बेजुबानो  का शिकार करना ,अपना कर्म  बनाया ,
                                         तुमने  छीना  हक हमसे  जीने का भी , और हमें पीडाएं दी, 
                                        जाने  क्यों  ! और  क्या सोचकर विधाता  ने तुम्हें इंसान बनाया . 
                                         अब   बस  भी करो , यह वहशियानापन  बंद कर दो ....


                                         सुनो  मानव !  यदि  तुम  ना मानोगे , तो 
                                        हमारी मूक आत्मा  की चीत्कार प्रभु तक  जाएगी .
                                         वोह देगा  तुम्हें  तुम्हारे गुनाहों की सज़ा ,
                                         यह सारी  दास्तान  दर्द भरी उसे सुनाई  जाएगी .
                                         जब हम  याचना करेंगे  उससे , हे प्रभु ! हमें इन्साफ दो....