सोमवार, 25 मई 2015

कुछ अनसुलझे प्रश्न ........ (कविता)

                            कुछ अनसुलझे  प्रश्न......... (कविता) 

                                 
                          जब  मात्र-सतात्मक   है   समस्त   सृष्टि   ,
                           धरती   है माता ,प्रकृति  है  माता ,
                          गंगा  मईया  व्  समस्त  नदियाँ  ,
                          वोह भी हैं अपनी  मातायें,  गौ  माता ,
                         निज  जननी .   और आदि  शक्ति 
                        करे  अपने विभिन्न रूपों  में  संचालित  समस्त सृष्टि ,
                         नारी   के  इन   दिव्य  व्  विस्तृत  रूपों  में  ,
                         इनके   दया  ,प्रेम  ,करुणा  , 
                          सहनशक्ति  ,सहजता ,
                        और   निस्वार्थ   सेवा   जैसे   अलौकिक  गुणों  में, ,
                         जब   समाहित   है  सम्पूर्ण  विश्व 
                          के सञ्चालन  की  शक्ति। 
                         यह  विश्वसनीय   और  प्रमाणिक 
                          तथ्य  है न की  असत्य ,
                        यदि   होता  शत-प्रतिशत  नारी  का 
                        शासन  समस्त  सृष्टि में ,
                        तो  सारे जगत  में होती शांति ,प्रेम , 
                         भाईचारे , सुख-  ऐश्वर्य  की  वृष्टि। 
                         ईश्वर  ने   तो   प्रकृति  व् आदि-शक्ति  के सहयोग  के लिए ,
                         किया  पुरुष  को    मनोनीत ,
                         और  उसे भी दी  असंख्य  शक्तियां ,
                         गुण -  बल से  किया  सम्मानित। 
                          तत्पश्चात   नारी  ने   भी   दिया 
                          उसे   अपने हर रूपों  में  सहयोग ,
                          आदर ,प्रेम  से  किया अपने जीवन  में समाहित। 
                          परन्तु  क्या हुआ ? 
                          पुरुष  तो भूल गया  अपना  स्थान,  कर्तव्य  व्   मर्यादा ,
                           और  स्वामी  बन गया  नारी का ,
                           और  अधिकार  में कर लिया  समस्त सृष्टि   को . 
                           अधिकार  उसने किया  तो क्या मगर उसने तो ,
                            नष्ट  कर दिया  ,कलंकित  कर दिया ,
                           धरा ,नदियाँ ,  गौ ,प्रकृति  अर्थात  समस्त सृष्टि  को. 
                          जिसका   परिणाम  हम   युगों  से देख रहे हैं ,
                          और   भविष्य में   भी  देखना   हमारी नियति है. 
                          यह  कैसा  न्याय ? 
                          पुरुष  के  एकाधिकार   ने है जन्म  दिया  पितृ-सत्तात्मकता को ,
                          सबला  , अत्यधिक  गुणवान व् आदि शक्ति का 
                          स्वरूप  होकर  भी  नारी  कहलाये,  
                         अबला , निर्गुणी।  अशक्त और  पुरुष  की  परिचायिका। 
                         अधर में डाल दिया  गया  मात्र- सत्तात्मकता  को .
                         कई   अनसुलझे  प्रश्न  है    हे प्रभु , तुम्हारे  समक्ष। 
                        यह जो परिस्थितियां   हैं  मेरे  समकक्ष ,
                         क्या कहूँ  मैं   तुम्हारी  न्यायमिति  को?   
                            
                                             

गुरुवार, 21 मई 2015

काश ...... ( कविता)

                           काश ------(कविता) 

                         

                   काश  ! कोई  हमें  बुलाता  आवाज़   देकर ,
                  और  अपने  पास  बैठता  हाथ  पकड़कर ,
                  जानने   को   वोह  हमारा हाल-ऐ-दिल ,
                 पूछता   हमसे  बेहद   ज़िद  कर-कर .
                  


                 काश  !   कोई   हमारी   नब्ज़  पकड़ कर ,
                 हमारी   तबियत  का जायजा   लेकर ,
                 पूछता  '' तुम  ठीक  तो  हो  , कैसा है हाल ? 
                  कह  दो सब !  मत  रखो  कुछ छुपाकर .


                 
                 काश   !   कोई  हमारी   पेशानी  पढ़कर ,
                 और कभी   आँखों में  गहरा झांक  कर .
                 पूछता   हमसे  हमारी  परेशानी  का सबब ,
                 हमारी  उदासी  की फ़िक्र  में रहता हर पहर .


                
                 काश   !   किसी  के  पास  होता  इतना  वक्त ,
                 बैठकर  हम घंटो  बतियाते   वक़्त-बेवक्त ,
                 कभी -रूठना - मनाना  ,कभी शिकवा-शिकायत .
                 पल   में  गुज़र  जाता   हर  उबायु  वक्त .



                  काश   !   हमारी   पलकों  की नमी   देखकर ,
                  रह  जाते  उसकी  आँखों  में  आंसू   थमकर  ,
                  हमारी  हँसी  औ  मुस्कान को  वापिस  पाने को ,
                  वोह   सदा    देता   जी-जान   एक   कर  .



                  काश  !   हमारी  हर   उम्मीदों  पर  खरा उतरकर,
                 हमारी  हर  ज़रूरत  को   तहे-दिल  से समझकर ,
                पूछता  हमसे  ''और बताओ  तुम्हारी   आरजू  क्या है ? 
                 अपनी  तमन्नाओ को  ज़ाहिर करो दिल खोलकर .'' 


               
                 काश  !   किसी को  होती  हमसे  इतनी  मुहोबत ,
                 अपने  गुस्से  औ  गुरुर को  कर  देता  रुखसत ,
                 हमारी   कमियों ,  कमजोरियों को ज़माने से छुपाकर ,
                 हमारे  फन  औ  खूबियाँ  को  देता  नयी  शक्ल- सूरत .


                   मगर   यह  सब तो हैं   ख्वाबों -ख्यालों  की बातें ,
                  ''काश  ''  तक ही तो   सिमटी  हैं  सारी  हसरतें ,
                   यह  कडवी   हकीक़त है ,ऐ  अनु ! इतना  समझ ले ,
                 इसी   उम्मीदी -नाउम्मीदी  में  जीती  हैं  तमाम  जिस्तें .
                  
              

बुधवार, 13 मई 2015

एक पत्र ईश्वर के नाम (कविता)

             एक   पत्र  ईश्वर  के नाम  (कविता) 

                             
                         हे   प्रभु  !कहो   तुम्हारा   क्या हाल है ,
                         तुम  कहाँ हो ?  हम  हो रहे  बेहाल हैं.


                        कहो  तुम्हारे  बैकुंठ  का मौसम  है कैसा ? 
                        इस मृत्युलोक में हर मौसम है ज़हर जैसा .


                       तुम्हारे वहां  तो होता होगा  नित आनंद ही आनंद ,
                       मगर   हम तो  हैं  रहते ग़मों  के पिंजरे  में  बंद .

                     
                       तुमने जो बनायीं   थी  दुनिया ,अब  वैसी  ना रही ,
                       इसकी खोज-खबर  लेने की  तुम्हें  भी  फुर्सत न रही .

 
                     कहाँ  हो तुम ,किधर  हो छुपे  हो ,कुछ  तो कहो ,
                     हमारी   हालत  पर प्रभु ! ध्यान   तो  कुछ धरो .


                      तुम्हारे  निरीह   अंश प्रकृति  व्   जिव-जंतु समस्त ,
                      समूल  नष्ट कर  मनुष्य रूपी दानव  होरहे   मस्त ,
                      

                      कब तक  और  करवाओगे   प्रतीक्षा ,
                       लोगे  और कितने  इम्तेहान ?  
                       तुम्हारे   विलंब  से  हे प्रभु !
                      हम हो रहे  हैं  बड़े परेशान .

                        
                      नित्य  नयी  विपदाओं  से  टूटकर  हार  कर  ,
                      लिखा   है  हमने तुम्हें  यह  पत्र ,
                       कृपया   प्रतिउत्तर   अवश्य देना  ,क्योंकि ,
                        वेदना  है हमारी यह नहीं  कोई मामूली  पत्र. 
                      

रविवार, 3 मई 2015

मेरी लाडली ( कविता )

                              मेरी   लाडली  (कविता) 

                                 फूलों   सी   प्यारी ,
                                 रंगों  सी  न्यारी ,
                                 मेरी  लाडली ......

                                नाज़ुक यह  कली,
                                बड़े   नाजों  से पली ,
                               मेरी लाडली .....

                              तितलियों   सी   चंचल ,
                              चुलबुली  और नटखट ,
                              मेरी लाडली ......


                              तू है मेरा सुंदर सपना ,
                              इस दिल का अरमान ,  
                              मेरी  जीवन पूंजी मेरी लाडली .....

                              
                             घर   की  तू रौनक ,
                            और हमारा  गौरव ,
                           मेरी  लाडली .......

                            
                           दुआ   करती  हूँ  ईश्वर से ,
                           सदा  हँसे  और  मुस्काए .
                           प्यारी  सी  मेरी रानी  बिटिया ,
                          पंछियों   की तरह चहचहाये .  
                          मेरी  लाडली ......


                          चिरंजीव  मनोज  के संग ,
                          मेरी  सौभाग्यवती सुनीता  ,
                          सदा  सुहागन  रहे  बनी जो  
                          इसकी  सहधर्मिणी परिणीता .
                           मुझे  भली  लगे  मेरी  लाडली .......