बुधवार, 1 अप्रैल 2015

बधाई हो ,बेटी हुई है .... ( कविता)

                                 '' बेटी  बचाओ  ,बेटी पढाओ  '' अभियान  हेतु  विशेष 

                       बधाई   हो  ,बेटी  हुई  है  .... (कविता) 

                                         
                                       
                                  उत्सव  भरा  दिन  हुआ  आज ,
                                  गाओ सब मिलकर मंगल गान। । 
                                 जिसकी  मधुर किलकारी  सुनकर ,
                                 हमारे  अधरों  पर खिली  मुस्कान। 
                                 ख़ुशी  ने  हमारे  दिल से  है कहा,
                                  बधाई   हो  ,बेटी  हुई  है..... 

                              
                                   कन्या -रत्न  की प्राप्ति  से  ,
                                  जीवन  में आई  खुशहाली। 
                                  नन्ही कली  के  आगमन से,
                                  ज्यों बगिया  में  छाई हरियाली। 
                                   डाल  के हर फूल ने हंस कर कहा ,
                                   बधाई  हो ,बेटी हुई  है। …… 


                                  सूना  था  आँगन  अबतक  मगर ,
                                  अब  होगी  पायल की रुनझुन। 
                                   नन्ही परी  के नन्ही कलायीओं  ,
                                  से होगी  चूड़ियों  की खन-खन। 
                                  खुशकिस्मती  ने  चहककर कहा ,
                                 बधाई  हो , बेटी  हुई  है।  …… 

                                  
                                  हमारी  आँखों  की  ज्योति वोह ,
                                  है  हमारे दिल का करार। 
                                 एक पल  भी  अच्छा न लगे ,
                                 जबतक  न ले उसे हम  निहार। 
                                  हमारी  चाहतों ने हमसे कहा ,
                                  बधाई हो ,बेटी हुई  है। …… 

                              
                                 उसकी मीठी तोतली बोली से 
                                 मानो  शहद  छलकता है। 
                                  सुनकर उसकी  हँसी को ,
                                  मन  ख़ुशी से झूम जाता है. 
                                  हमारा भाग्य  इतराकर कहता है ,
                                  बधाई हो ,बेटी  हुई  है.…। 

                                  यह  है  हमारी   नाज़ुक  कली,
                                  संभालना  होगा बड़ी नजाकत से.
                                  लग न जाए इसे किसी की नज़र ,
                                   बचाकर  रखना  होगा नफासत से. 
                                   हमारे प्यार व्  ममता ने हमसे कहा ,
                                   बधाई हो ,बेटी हुई है। …। 
               
                                   बेटों  से बेटी  कम  नहीं होती  हर लिहाज़ से ,
                                   बुद्धि -कला -कौशल या कोई भी खेल से ,
                                   वोह  है देवी  लक्ष्मी ,सरस्वती  स्वरूपा,
                                    और सुसज्जित  है नव दुर्गा की शक्ति से. 
                                    हम  है  एक बेटी  के माता- पिता ,
                                     हमारे  गौरव ने  शान से कहा.…… 
                                     बधाई  हो  ,बेटी हुई है.....