सोमवार, 5 जनवरी 2015

आप आये बहार आई ..... ( व्यंग्य कविता)

                            यह  काम वालियां (  मेहरी)  

                    आप   आये   बहार   आई  .........(  व्यंग्य कविता) 

                                  जब  ना   आये   वोह  काम पर ,
                                 तो   हम पर   आ जाती   आफत ,
                                 मगर   जब   आ जाये  वोह  ,
                                तो चेहरे  की बढ़  जाती है  रौनक .

                             
                                वोह  समझती   है  की   मैडम का ,
                                हाल  बहुत   अच्छा   है .
                               उसे   क्या   पता   की   उसके  ,
                               आने से  पहले   हमने  उसे  कितना कोसा  है..  


                              ''  अभी   तक  नहीं   आई ,
                                  कहीं  फिर छुट्टी  ना कर ले .
                                 कहीं   कोई गुज़र  गया ,
                                  या  कोई बीमार   न पड़ जाए। 
                                हे भगवान  ! कहीं वह खुद ,
                                बीमार ना  पड़ जाए। 
                                  या यूँ ही ! कहीं  नया कोई 
                                 छुट्टी  का बहाना   ना बना ले. ''

                                  
                                  उसका  क्या  है !  उसके  पास ,
                                 तैयार   रहती   है  कोई न कोई  कहानी। 
                                 आज   पति  से हो गयी  लड़ाई ,
                                 या सास   से हो गयी  बद -ज़बानी। 
                                 सूजा  हुआ   सा  मुंह ,
                                 और आँखों  में  आंसू लिए। 
                                 और   कभी   यूँ ही   उदासी  की ,
                                  चादर  सर पर    ओढ़े  हुए। 
                                   दिखाते   हुए  लाचारी। 
                                  उसे   देख कर हमारी  मानवता ,
                                    कह उठती  है  ''बेचारी ''. 


                                  पहले   तो मुंह   से निकलती है , हाय !
                                 फिर  उसे परोसी  जाती है चाय ,
                                  पहले जिसे करना चाहते थे काम से  बाहर ,
                                   अब वह बन  जाए  सहारा। 
                                  निचोड़  लेती है  हमारी  सभी  सहानुभूतियां ,
                                   जिससे करना चाहते थे किनारा। 

                                 
                                    सच  मानो तो यह  हमसे  ज़ायदा  ,
                                     होती है  सामाजित प्राणी। 
                                    हर दिल  को  वश करने माहिर ,
                                     और चलती -फिरती आकाशवाणी। 

                          
                                    है  तो  वो  अंगूठा -छाप , मगर  
                                    उसके   सामान्य -ज्ञान की  मत पुछिये. 
                                  किस गली ,शहर ,या  देश  में क्या हुआ ,
                                  जो   चाहे  पूछ लीजिए.
                                   

                                   इसके आने  से  घर की ,
                                   कायापलट  हो जाये।
                                  जो काम  लगते थे  भारी ,
                                  वह  एक क्षणमें  निपट  जाये.
                                   
                                 वह   ना आये   तो   एक मेहमान  भी  ,
                                 मुसीबत  लगता है।
                                  और यदि वह आ   जाए काम पर तो ,
                                 चाहे कोई  भी आये  ,कोई फर्क नहीं पड़ता है.

                               
                               वह चाहे  जैसी भी  हो ,
                               हमारे  मन को  भाये।
                               हम  पर चाहे  जो गुज़रे ,
                                मगर उसपर  कोई आंच ना आये ,
                               यही दुआ  करता है  हमेशा दिल.
                                देख कर  जिसे कह   उठता
                                आप  आईं ,बहार  आई.