बुधवार, 23 दिसंबर 2015

मैं पशेमा हूँ ..... ( ग़ज़ल)

                           मैं  पशेमां   हूँ  ...... (ग़ज़ल) 

                      प्यारी  बिटिया  दामिनी (ज्योति सिंह )  को समर्पित एक ग़ज़ल ) 

                           
                             क्या  कहूँ मेरी  बेटी  !  मैं बहुत परेशां  हूँ ,
                            मिल ना  सका  तुझे इन्साफ ,मैं  पशेमां  हूँ . 

                             
                           तेरे  गम  से  मेरा  गम  ऐ  लाडो ! जुदा  नहीं,
                          तेरे  अश्को -आहों  में लहू की मानिद रवां हूँ .



                          तेरी   दर्द  भरी  चीखें  अब भी  मैं  सुनती हूँ ,
                          जाने  ज़माना  क्यों  हो  रहा बेहरा ,हैराँ  हूँ . 
                         
                         इन  सियासत दारों  को  तो अपनी पड़ी  है ,
                         इन्हें तो शर्म नहीं ,  मगर मैं शर्मिन्दा  हूँ .


                         उस  वेह्शी /दरिन्दे को इतनी   हिफाज़त  ! 
                        अंधा कानून है  यह  और   मैं  क्या  कहूँ ?
                          
                          
                        हरे  रह गए  तेरे  ज़ख्म , और   रूह   बेचैन ,
                        जो ना  सिल सका  में वोह तेरा चाक दामां  हूँ .    



                         तनहा -तनहा  से  तेरे  माता-पिता , गमगीन ,
                         टूटे  हुए  ,बिखरे हुए अरमानो  को  लिए देख रही हूँ. 



                         खवाब   तो तूने  भी  देखे  थे  बेशुमार , ऐ दुखतर !,
                         मैं  तेरे  अधूरे ,टूटे हुए   ख्वाबो  का   आईना  हूँ  .



                          ऐसे   बेइंतेहा  ज़ुल्म  आखिर  कब तक सहेगी  बेटियां ?
                         आज  हर इंसा  के दिल से उठता  मैं  एक सवाल  हूँ .


                        मौजूदा  हालात  से  परेशां  होकर  पूछती है '' अनु ''
                      कहाँ  है  खुदा ! लौट आ !उससे करती  मैं  गुजारिश  हूँ .
                         

रविवार, 20 दिसंबर 2015

माँ तो माँ होती है ... (कविता)

                       माँ   तो   माँ   होती    है  ....  (कविता ) 

                                       
                                 माँ   तो   बस  माँ   ही होती है ,
                                 क्या   सगी ,क्या सौतेली .
                                 मगर  यह समझता  है कौन ,
                                 वोह  है एक अनबुझ पहेली . 




                                 कैसा  है यह आधुनिक समाज ,
                                 बदला  है  बेशक रहने का  सलीका .
                                 मगर  विचारों  से  ना बदला समाज,
                                 है वही  संकुचित  सोच  ,वही तरिका .



                                माँ   ही तो  होती  है  वोह  भी ,
                                जो  प्रतिपल  संतान की फ़िक्र करती है, 
                                त्याग  ,तपस्या की  मूर्ति बन , 
                                जो  बस  संतान के लिए  जीती  है .


                             
                                 लेकिन   उसके  प्रेम  और  बलिदान को ,
                                  जग में  समझता  है  कौन ?
                                  काँटों का ताज  पहनकर  सर   पर ,
                                  अंगारों  पर चलती है रहकर ,मौन . 



                                   वोह  पुरे करती  है  अपने  सारे फ़र्ज़ ,
                                  और  उठाती  है ज़िम्मेवारियों  का  बोझ .
                                   मगर  इसके बदले  पाती  है  उपेक्षा ,अपमान ,
                                   और   समझी  जाती  है  स्वजनों पर बोझ .



                                     क्रोध  और   नाराज़गी को बयान करे कैसे ,
                                     यदि  करे तो  बदनाम हो  जाये .
                                     ''ऐसी  ही होती है सौतेली माँ ''  ताना  वोह सुने ,
                                      उसे   ज़माने  भर के कटाक्ष  सुनाये  जाए . 



                                      उसकी डांट -फटकार ,नाराज़गी के परोक्ष में ,
                                       छुपी  होती है सगी माँ  सी ही संतान के लिए भलाई .
                                       जन्म   नहीं दिया  अपने गर्भ  से तो क्या ,
                                       संतान  के  दिल से  तार  से  तार तो है उसने मिलायी . 




                                        उसके  अरमानो   और  सपनो  का   ,
                                        केंद्र -बिंदु  होती  है  उसकी  संतान .
                                        हर   माँ  कीतरह  अपनी  ख़ुशी ,और  प्यार ,
                                         उनपर लुटाना  चाहती है  यह  माँ .



                                           सौतेली   माँ   जितनी  भी  हो  सुशील  ,
                                          संस्कारी ,सुशिक्षित और  गुणवान .
                                         मगर है तो वोह  कोल्हू  बैल , निर्गुणी ,
                                         और   सबके  लिए   प्राणी एक अनजान .


                                       
                                          हां   प्रभु  ! हां  प्रभु  !   , कैसा लिखा  तूने  \भाग्य ,
                                          सौतेली  माँ  का तमगा पहनाया , नहीं दिया  सौभाग्य . 
                                           कान्हा  जैसी  सन्तान देकर इसको  भी ,
                                           प्रदान करते  माता यशोदा  जैसा   सौभाग्य .
                                          
                                        
                                        
                                           


                                  

गुरुवार, 10 सितंबर 2015

यह अश्क जो बहते है ...... (ग़ज़ल)

                        यह  अश्क  जो बहते हैं ..... (ग़ज़ल)  

               


                        यह   अश्क   जो   बहते  है  इस तरह  ,
                       जिंदगी से  इनका   नाता  है इस तरह .


                     
                      जिंदगी  चाहे हालातों  से  ना उबर  पाए ,
                     अश्क अपना रास्ता  बनायेगे ही इसी तरह .


                      जज्बातों  की जहाँ  में  कोई कद्र नहीं   ,
                      अनदेखी  अश्कों  की होती है इस तरह .



                      तकदीर और ज़माने  के सताए  हुए हम ,
                       यह  बेवजह तो नहीं बहते  इस तरह .


                      अपने   अश्क  खुद पोंछने होते है'' अनु '',
                      ग़मों  को अपने  संभालो  किसी तरह .          
                             

बुधवार, 2 सितंबर 2015

तकदीर का फ़साना (ग़ज़ल)

                                  तकदीर  का फ़साना  (ग़ज़ल) 


                             जिंदगी  के साथ  शुरू  हुआ  जिसका  फ़साना  ,
                            मिली और बिछड़ी जो बचपन की सखी की तरह .


                            बचपन  से  जो  ख्वाब सजाये ,अरमान पाले ,
                            इसकी  बदौलत रूठ  गए  महबूब की  तरह .



                            हमें  किसी ने  ना समझा ,ना  हम  समझा पाए,
                          निभाते  रहे  मगर दुश्मनों  से भी  दोस्तों की तरह .



                          सूना  था  कभी  की हर मुसाफिर  की  मंजिल होती है,
                         हमारी मंजिल  का कोई निशाँ नहीं ,चलते रहेकिसी तरह .



                           ज़हन  की कशमकश  के सबब  दिखता  है सिर्फ अँधेरा ,
                           अपने दिल  में उम्मीद  की  शम्मा  जलाये किस तरह .


                          नाकामयाबी  से  भरी   उफ़  ! यह पुर कैफ  जिंदगी ,
                          खुशियाँ  हमारे  दर  पर आये तो आयें  किसतरह .



                           हमारी  आँखों  को अश्कों  का  दरिया  सा बना डाला ,
                           अब  भी भरा  नहीं इसका जी ,सताती है हमें हर तरह .



                         खुदा   है या नहीं, और  क्या  है उसकी  रहमत ,
                         बंदगी का फ़र्ज़ फिर भी  निभाते है किसी तरह .



                        गर मिल जाये  खुदा  तो  उससे  पूछेंगे  ज़रूर ,
                        क्यों भूल गया  हमें  एक भूले हुए  साथी कीतरह .



                        यह तकदीर  का फ़साना  और  कौन सुने  तेरे सिवा,
                        एक बार तो सुन  लो ,बस एक बार  मेहरबां  की तरह .


                          


                         


       

रविवार, 23 अगस्त 2015

टूटे हुए ख्वाब ... (ग़ज़ल )


                                         टूटे  हुए  ख्वाब ... (ग़ज़ल )   

                                              




       अपने  हर ख्वाब  को टूटते  हुए  मैने  देखा है,

          हर  चेहरे  के पीछे  छुपी  हकीक़त को  देखा है .
      
        गुनाह   चाहे  किसी ने  भी  क्यों  ना किये हों ,
         मगर सर  सिर्फ  अपना  ही झुकता  देखा   है.
     जिससे  भी  की उम्मीद  वफ़ा की,प्यार की,
       उसे  ही दुश्मनी  निभाते  हुए हमने  देखा है.
        
      होते  होंगे  कुछ खुशनसीबों  पर  खुदा  के करम,
                हमने  तो  उसे  बस अपने पर  सितम करते  देखा है .
         
          उफ़ ! यह  बेशुमार गम  और  बेमतलब सी जिंदगी ,
         अपने ही  अरमानो  को  दफ़न  होते हमने   देखा है.
        
             इस पर  भी  रफ़ीक कहते  है  खुश रहो,मुस्कराओ तो !
          हालातों  पे रोने  से क्या कोई गम गलत होता है !    

गुरुवार, 20 अगस्त 2015

हे राजीव ! तुम्हें नमन! ( कविता)

                              भूतपूर्व  प्रधानमंत्री   स्व श्री  राजीव-गाँधी  जी   के जन्म-दिवस  पर  विशेष 

                          हे   राजीव !  तुम्हें नमन (कविता) 

                                   
       
                                        हे  राजीव  ! तुम्हे  नमन ,
                                        आज  ह्रदय में  महका  है पुन : 
                                        तुम्हारी  यादों का चमन .


                                         इस गुलिस्ताँ -ऐ- वतन का  हर ,
                                        फूल  और  कली  तुम्हारा  पता  पूछे  है .
                                         कैसे हो ? ,कहाँ  हो  ?  क्यों  चले गए तुम ,
                                         जाने कितने  सवाल  पूछे  है. 


                                         नवयुग  की पहचान  तुम थे , 
                                         थे  आधुनिक भारत के स्वप्न-दृष्टा .
                                         थमाकर  कंप्यूटर व् लैपटॉप ,हमें 
                                         डिजिटल  वर्ल्ड  से  जोड़ा  रिश्ता .

                    

                                      गाँव -गाँव  ,और शहर -शहर  में, 
                                     विज्ञान , प्रोधोगीकी व्  नविन  तकनिकी  .
                                     जन-जन  की  आर्थिक  उन्नति  हेतु ,
                                     देश  के चहुंमुखी  विकास  ,रक्षा  की नयी  तकनिकी


                                     अपना   बुध्धिकौशल , अपना  अपूर्व  ज्ञान ,
                                    अपना  सम्पूर्ण  जीवन  देश पर  वार दिया.
                                     आया जब  इम्तेहान  कुर्बान होने का,
                                     तो  मौत  के सामने  खुद को हार  दिया.


                                     हे  निष्कपट ,निश्छल  प्यारी  सोम्य मूर्ति ,
                                     तुम्हारी  भोली  ,मीठी  मुस्कान  कैसे  पायेंगे /
                                     तुम्हारे  सद्गुणों  ,तुम्हारी  महानता ,
                                     और तुम्हारे  योगदान को कैसे  भूल पायेंगे ?


                                     तुमने  पा लिया  स्थान  ईश्वर   के चरणों में,
                                      मगर  ह्रदय  में हमारे  तुम  सदा  वास करोगे .
                                     बदले  जितने भी  युग,  और  देश की  सरकारें,
                                      देश  या विदेश ,जन-जन की यादों  में  तुम  रहोगे.
                                   

                                      तुम्हारे  जन्म दिवस  पर ,
                                      इस   पुण्य  दिवस  पर ,
                                       हे राजीव ! तुम्हें कोटि-कोटि  नमन.

बुधवार, 12 अगस्त 2015

मंजिल की तलाश (कविता)

                              मंजिल  की तलाश (कविता) 

                     
                              मंजिल की  गर  तलाश   है  साथियों ,
                              रुको मत ! बस  कदम  बढाते  चलो .
                              मगर  पथ  पर  गिरे  असहायों को भी ,
                               उठाकर  अपने साथ  ले कर चलो .  


                                                                  माना  की  राहें  हैं  तुम्हारी   कांटो से भरी ,
                                                                  पगडण्डीयां  है  घने  तिमिर  से  भरी ,
                                                                 होंसले  कर  बुलंद   निराशाओं  में भी , 
                                                                 आशाओं  का  दीप  जलाते  चलो .
                          
                     
                      दिल में हो लगन  यदि  सच्ची ,
                      तो पत्थर भी पिघल जाते हैं.
                      हो  बुलंद  हिम्मत  इंसान की ,
                      तो   तारे  ज़मीं  पर उतर आते हैं.
                     आत्म-विश्वास की धार को तेज कर के चलो .
                                  
                                                                             
                                                                 कौन  सी  ऐसी  चीज़ है दुनिया में  दुर्लभ ,
                                                                 इंसा  कर ठान  ले  तो सब-कुछ है सुलभ .
                                                                 सिकंदर ने तो जीता था  हिंसा  से जहां को .
                                                                 तुम भी  प्रेम से  जीत  सकते हो  जहां को .
                                                                 जोत से जोत नेह  की  दिलों में जलाते  चलो. 

            
          वो  जवानी  जवानी नहीं  जो देश पर ना मिटे, 
          इसकी  आन की  खातिर  कोई  सर   ना कटे .
          जवानी  तो वोह  है  जो जान  कुर्बान   करे, 
          इसके  सदके हर हसरत औ अरमान   करे. 
          मिटाकर खुदी को  देश की  शान बढाते चलो .
                                                                           

                                                                 देश  की  खुशिया  व्  समृद्धि  है दौलत हमारी ,
                                                                 इसकी  तरक्की  में ही तरक्की  है हमारी  ,
                                                                इसके नाम  को ,आन  को  शिखर पर पहुंचाना  ,
                                                                सही  मायेने  में  मंजिल  यही है  हमारी .
                                                               अपने वतन को  ही अपनी  जिंदगी मानते  चलो. 
                                                                             
                                                                             

सोमवार, 10 अगस्त 2015

एक इल्तजा क़ज़ा से ..... (ग़ज़ल)

               एक इल्तजा  क़ज़ा से ..... ( ग़ज़ल ) 

                     कहीं  से कुछ  तो  इशारा  मिल जाये ,
                     ऐ  सितमगर  तकदीर  !   जो   तेरा .


                     मैं   क़ज़ा  से  करुँगी  इल्तजा   के  ,
                    थाम   ले  अब    वोह दामन  मेरा .


                    खुश्क  है   लब  और  जिंदगी   भी  ,
                   आबे-हयात नहीं  मुझे  ज़हर देदो  .
              
               
                  मेरी  उम्मीदों  की  शम्मा  लडखडा   रही है,
                  ना भरा  हो जी  ,दुश्मनों ! तो बढ़ा दो अन्धेरा  .
                 

                  जी में  यह आता है की  कहीं  खो  जायुं  मैं ,
                  खाक हो जाये जिस्म ,मिट जाये वजूद सारा .


                 अब   बस  बहुत थक चुकी  हूँ  मैं  मेरे रफीको !
                 नींद  आ रही  है  मुझे  कफ़न  ओढ़ा  दो  ज़रा .


                  
                  

                       

जिंदगी के हादसे (ग़ज़ल)

                    जिंदगी   के हादसे  (ग़ज़ल) 


                            हादसों   से   भरे  इस  जहान   में , 
                           जिंदगी  जिन हालातों  से गुज़रती  है. 

                          
                          हर सु  बेचैनी , तड़प  और कई फिक्रें ,
                          कब  दो  घडी  सुकून  से  बैठती   है.  

 
                         क्या ,कब  ,कैसे ,क्यों, किसलिए ? 
                         ज़हन  में सवालों  की झड़ी रहती है. 


                       पैरों तले  ज़मीं  नहीं ,आसमा है  दूर ,
                       सहारा  न मिले खुदा  का तो रोती है. 


                      एक हसीं  खवाब  जो  हो गया बेवफा ,
                      याद  में जिसके मेरी  रूह  तड़पती   है. 


                     जिंदगी  है बेमुरव्वत ,और बेवजह तो फिर ,
                     लाश की तरह  अनु  इसे क्यों  ढोती  है  ?    

शनिवार, 8 अगस्त 2015

मेरी हमराज़ , मेरी ग़ज़ल (गज़ल)

                    मेरी  हमराज़  ,मेरी ग़ज़ल (ग़ज़ल ) 

                                मेरी  ग़ज़ल  है  अफसाना  मेरे  दर्दो -गम का ,
                                महसूस करुँगी  जो मैं  वही  तो बयां  करेगी  .

                               यह हमनशी  है मेरे जार-जार बहते अश्कों की , 
                              लब जो  ना कह सकेंगे ,तो  इनकी जुबां बनेगी .


                              मेरे दिल के टुकड़े  हुए और  हुआ खुद्दारी का खून ,
                             जो है आँखों देखा , उसी सितम की दास्ताँ  कहेगी.


                             मेरे अरमानो  का जनाज़ा  निकला कितनी  धूम से ,
                             फिर  खोयी  मैं  जिस गुमनामी में वोह जहां  देखेगी.  

                             मैने जब नहीं देखी कोई ख़ुशी अपनी  जिंदगी में, 
                            तो  ज़ाहिर है  मसर्रतों  के जाम यह भी कैसे पीयेगी ?

                            मेरी ग़ज़ल है हमराज़,  हमदर्द  और हमसफ़र मेरी ,
                            जो मेरी मय्यत के साथ और मेरे साथ ही ख़ाक होगी .

                            
                              

मुहोबत : खवाब या हकीक़त (ग़ज़ल)

                   मुहोबत  : ख्वाब  या हकीक़त (ग़ज़ल ) 

                                 
                          ऐ खुदा  !  तेरी  दुनिया में मुहोबत  बस एक खवाब है,
                          जिसका   एक अफसाना  किताबों  के सिवा कहीं नहीं, 
          
                          अश्कों  को  पोंछने वाले ,दर्द-ऐ-दिल  मिटाने वाले ,
                         हकीक़त  में होते हैं क्या ? हमने तो कभी देखा नहीं.


                          ख्वाबों  में ही  देखा  की  कोई  आया  हमें  थामने ,
                          मगर  जब आँख  खुली  तो  पाया कोई  भी नहीं. 


                         तड़पकर  रोये  अपने ही दामन  में मुंह छुपाकर,
                        क्या करें ! अश्क पोंछने को किसी का  दामन जो नहीं.  

शनिवार, 1 अगस्त 2015

हमें जीने दो .... (कविता)

                                        जीव -जंतुओं की करुण पुकार 

                            हमें  जीने दो ....(कविता) 

                                         हमें  जीने दो , हमें  जीने दो ,
                                         यह धरती  जितनी है तुम्हारी ,
                                         उतनी  ही हमारी  भी  ,
                                         इस धरती पर  हमें भी रहने  दो ....


                                        
                                         माँ  सामान  नदियों  को  मैला  कर दिया ,
                                        कुओं  व् तालाबों पर भी  हक  जमा लिया ,
                                         हम   क्यों पिए गंदे नाले का पानी ,
                                         हमारे लिए एक जलस्त्रोत तो  छोड़  दो ....


                                         अत्यधिक  वायु प्रदुषण  से  हवाएं हुई  ज़हरीली ,
                                         दम  घुट  रहा हमारा ,आँखें  हो गयी  पनीली ,
                                         श्वास  अवरुद्ध हो गए  तो  कैसे जीवित  रहेंगे ?
                                          दया  करो ! हमारी प्राण वायु  को  बक्श  दो ....


                                         जिन   वृक्षों  से  मिलते  थे ,फल-फुल, 
                                         ओषधि व्  घनी  ,शीतल  छाया ,तुम्हें ,
                                          वही  था छोटा सा  आशियाना  हमारा ,
                                         उन्हें मिटाने  का क्या अधिकार था तुम्हें ?
                                          अब हम  कहाँ  रहें  हमें जवाब दो ......

            
                                          हमारी  धरती  का गौरव थे यह उतंग पहाड़ ,
                                         बड़े  जीवों का  सुरक्षित  आश्रय थे यह पहाड़ ,
                                          डायनामेट  से  जिन्हें  तुमने  नष्ट  कर दिया ,
                                          वर्षा  करने  में  जो सहायक  थे यह पहाड़ .
                                          हम कहते हैं अब यह  बर्बादी बंद कर दो .....

                                          
                                          यह  विशाल  प्रकृति  ,और  इसके संसाधन ,
                                           इससे  प्राप्त फल-सब्जियां और  अन्न ,
                                          सब हथियाकर  भी  तुम्हारी  तृप्ति नहीं हुई ,
                                         तुम  हो कितनी स्वार्थी ,लालची , यह  बात लो मान .
                                           तुम्हारी  हद  कहाँ  तक  जाएगी ,यह बता दो .....

                                          
                                           तुमने तो प्राचीन काल से अब तक यह धर्म  बनाया,
                                           हम  बेजुबानो  का शिकार करना ,अपना कर्म  बनाया ,
                                         तुमने  छीना  हक हमसे  जीने का भी , और हमें पीडाएं दी, 
                                        जाने  क्यों  ! और  क्या सोचकर विधाता  ने तुम्हें इंसान बनाया . 
                                         अब   बस  भी करो , यह वहशियानापन  बंद कर दो ....


                                         सुनो  मानव !  यदि  तुम  ना मानोगे , तो 
                                        हमारी मूक आत्मा  की चीत्कार प्रभु तक  जाएगी .
                                         वोह देगा  तुम्हें  तुम्हारे गुनाहों की सज़ा ,
                                         यह सारी  दास्तान  दर्द भरी उसे सुनाई  जाएगी .
                                         जब हम  याचना करेंगे  उससे , हे प्रभु ! हमें इन्साफ दो....
  
                                         

बुधवार, 29 जुलाई 2015

फौजी (कविता)

                                  फौजी  (कविता) 

                                    

                                       भारत  माँ की  एक पुकार  पर,
                                      अपने  कर्तव्य  को  समझकर ,
                                       दुश्मनों  से  टक्कर लेने को ,
                                       वोह  रणभूमि  पर  उतर  जाता है.


                                       किसी  राज्य  में कोई खतरा हो ,
                                       प्राक्रतिक आपदाया  प्रकोप  हो ,
                                       सागर की गहरायी या आसमा की ऊँचाई
                                       वो  बेखौफ  जान पे  खेल जाता है .


                                       न्योछावर कर अपने सब अरमान,
                                       अपना  तन-मन -धन कर कुर्बान ,
                                      अपने  परिजनों , व् परिवार को  विस्मरण  कर ,
                                       अपने  बलिदान से  नाम  अमर कर जाता है.



                                        उसने  अमर शहीदों में  नाम  लिखवाया
                                       मरणोपरांत शौर्य सम्मान व् पुरस्कार पाया  ,
                                      आँखों में अश्क और ,दिल में  जुदाई का गम सही ,
                                     मगर  इससे उसके अपनों का सर  गर्व  से ऊँचा  होता है.


                                     उसके  परिवार  की  देखभाल  करना  का ,
                                     पत्नी या संतान को आत्म-निर्भर बनाने का  ,
                                     किसी तरह हो जैसे भी  हो आर्थिक सहायता का
                                     सरकार  द्वारा  वायदा किया जाता है.


                                      मगर  हकीकत में है कुछ और ही  बात ,
                                      चार दिन की चांदनी फिर अँधेरी   रात ,
                                      कैसी फिर आर्थिक सहायता ,और कैसी नौकरी ,
                                      उसके प्रियजनों  का सामना भ्रष्टाचार से होता है.



                                       तिरस्कार व् अपमान का घूंट पीकर ,
                                       पक्षपात और धोखे  को  सहकर ,
                                       समाज  में  ठोकरें खाते हुए उसके  प्रियजन को ,
                                       घोर गरीबी में  जीवनअपना  गुजारना   पडता  है.


                                       उसके बलिदान  का यह  कैसा  सम्मान ?
                                       इन्हीं  देशवासियों के लिए किया था बलिदान !
                                      वही  अब  उसके परिजनों के दुश्मन बने बैठे हैं,
                                      जिसकी  वजह से अपना देश भी उनको बेगाना  लगता है.


                                       कुर्बान  करता है  जब कोई  फौजी अपना जीवन ,
                                       तो रहता है उसके दिल में एक विश्वास ,और अरमान ,
                                     ''   मेरे जाने के बाद  मेरे प्रियजनों  की  देखभाल व् सम्मान ,
                                        करेगा  अवश्य  हर देशवासी और मेरा राष्ट्र महान ''.
                                        क्योंकि  उसको  बस एक  नहीं ,पूरा देश  परिवार सा लगता है.


                                                                               
                                          इसीलिए  हे देशवासियो ! तुमसे मेरी प्रार्थना  है,
                                          एक शहीद  ने अपना फ़र्ज़  निभाया  ,
                                          एक फ़र्ज़  अपना तुम  उसके लिए निभाओ ,
                                          सरंक्षण, सम्मान ,व् स्नेह  दो  उसके परिवार को ,
                                          जिसने  अपने प्राण गंवाकर भारत माँ की लाज को बचाया ,
                                           एक इंसान  होने  के नाते  हमारा  इतना फ़र्ज़ तो बनता है.
                                           
                                         
                                       

                                         

रविवार, 26 जुलाई 2015

अरे आतंकियों ... ( कविता )

                    अरे   आतंकियों  …  (  कविता  ) 

                         

                                 अरे   आतंकियो  !  
                                मेरे देश के  दुश्मनों !
                                तुम्हें नहीं पता की ,
                              किस  तरह  बे-मौत  मारे जाते हो  तुम ,
                             कोई  नहीं करने  आता अंतिम सस्कार। 

                              तुम्हें नहीं  पता  के, 
                              सड़कों  पर पड़ी  लाश  पर   तुम्हारी ,
                             आते-जाते  लोग  थूकते  हैं. 
                             गली  के  सारे  कुत्ते  लाश  को  तुम्हारी 
                            बेरहमी  से  नोच -नोच खाते   हैं. 
                            लाजिमी  है तुम्हारे  लिए यह  दुत्कार। 


                             तुम्हे  नहीं पता  ,के 
                             अपन्रे प्यारो  की जुदाई  क्या होती है ?
                             दर्द  ,संताप ,वेदना  क्या है ,
                            और पीड़ा  क्या होती  है ?  
                             हैवानियत जो रहती है सर पर सवार। 


                              तुम्हे   बस  इतना पता  है ,
                             की दौलत  कमानी  है ,चाहे जैसे भी। 
                             मासूम  व्  निर्दोष  इंसानों की हत्या  करनी है ,
                             दहशत  व् अशांति  फैलानी है ,चाहे जैसे भी। 
                             ईमान का क्या है ,हो जाये  तो हो जाये दागदार। 



                             तुम्हें  तो पता है  ,है ना !
                             तुम्हारा  नहीं  है  कोई परिवार। 
                             न अपने  और ना अपनों का प्यार। 
                             नहीं  है जब कोई ,तो इंसानियत  सिखाता  कौन?
                              तभी तो पड़े  तुम पर  ''ऐसे ''  निम्न  संस्कार। 


                            तुम्हें  नहीं पता तो तुम जान लो ,
                            खुदा  की नज़र  से  कितना गिर  चुके हो ,
                             अपनी  औकात  पहचान लो। 
                            तुम्हें  वेह्शी  कहना ,  वेह्शी  का  अपमान होगा  ,
                             तुम  तो  दानव  हो ,  इंसान  नहीं,
                             अपनी  घिनौनी / डरावनी  सूरत  
                              आईने  में देख  लो. 



                              व्यर्थ   है  तुमसे पूछना ,
                              की तुम्हें पता  है , 
                              तुम्हें  पता  लगाकर   करना भी क्या ?
                              क्योंकि  तुम्हें  वास्ता  है गोली ,बारूद ,
                              एटमी ,हथियारों  से। 
                               तुम्हारे  ज़ुल्म  के शिकार  बेबसों  की 
                                घायल  रूहों  और  आहों  से  तुम्हें  वास्ता  क्या ?
                                मगर  एक दिन   इन सबकी  बद-दुआओं  से  होगा ,
                                तुम्हारा  समूल नाश।  
                                 सुन लो  अरे  आतंकियो ,
                                  हो जाओ  खबरदार। 

                              
                             
                             

काश तुम रूबरू होते ... (ग़ज़ल)

                 काश  !तुम  रूबरू  होते ... (ग़ज़ल) 

                        
                  यूँ  तो हो जाता है दीदार ,तुम्हारी तस्वीर से मगर ,
                   क्या   लुत्फ़  होता  गर  तुम  हमारे   रूबरू होते .


                   एक   झलक  या   महज  तुम्हारा   साया   ही सही ,
                    कुछ  तो होता   हासिल , अरमान  अधूरे  न  होते .


                   वोह  मीठी सी  निगाह और वो तबस्सुम  तुम्हारा ,
                  हम भी  थे जिनके कायल ,हम पर मेहरबान होते .


                  हसरत  तुम्हारे  कदम बोसी की थी ,नवाज़ने  की ,
                  तुम्हारी  इबादत करते , तुम्हारे कद्रदानो में होते. 


                 तुमसे  गुफ्तगू -ऐ- आरजू  थी ,बस कुछ लम्हों की ,
                 मुलाकातों  के  वोह नगीने हमने संजो कर रखे होते. 


               तुम्हारी  बलाएँ  लेने को  खड़े होते  क़ज़ा के मुकाबिल ,
               तो  तुम्हारी  और  उस  गुस्ताख  के  इशारे  न होते.


               मगर  हाय  यह कम नसीबी  और  बेरहम  कुदरत ,
              आ गयी  हमारे दरम्याँ  , वर्ना  तुम हमारे रूबरू होते.
                   
                         

गुरुवार, 23 जुलाई 2015

जी चाहता है (ग़ज़ल)

                       जी चाहता है  ... (ग़ज़ल) 


                        जी चाहता  है....
                        कुछ  लम्हें  हम  तुम्हारे  साथ  गुजारें, 
                        सामने  हो  तुम ,और तुम्हारा दीदार करें, 


                      वक़्त  कुछ  ठहर  जाएँ  बस  यहीं पर, 
                      जिंदगी  के  नाम कुछ यादगार करें .


                      मेरे माहताब !तुम्हारी पाक़ रौशनी के सदके,
                     हम   अपनी  हस्ती  को न्योछावर   करें .

                     
                     कुछ  बातें -मुलाकातें हो ,और चलें  खतों के दौर ,
                     हम  -तुम अपने लफ़्ज़ों में एहसासों  को बयाँ करें . 


                    जी चाहता  है ,  हाँ !    जी चाहता  है हमारा ऐ  हमदम !,
                     के हम यह जिस्त और इसकी हर ख़ुशी तुम्हारे नाम करें . 
                  

बुधवार, 22 जुलाई 2015

तकरार (ग़ज़ल)

                        तकरार  (  ग़ज़ल )  

                      
                         हमसे  पूछते  है आप  , क्यों  करते  हो   प्यार ,
                         अपनी  अदाओं  से पूछिये  ,हमसे पूछते है क्या ?


                      नज़रों  से   जो  पिलाई  थी  क्या वोह  मस्ती थी !,
                     क्या  वोह  शराब   न थी ,हम बतलाएं   भी  क्या ? 



                    लूट कर  मेरा  करार  ,  आप तो   बेखबर हो गए ,
                    हम तो  गए जान से ,आप का  बिगड़ा भी क्या ? 


                    दिल  पर  तो  किसी का   जोर  कभी चलता नहीं ,
                   लाख  कोशिश  कर लीजिये और  आप करेंगे  क्या ?


                 आप मुलाक़ात  न कीजिये , मर्ज़ी  है  हुजुर आपकी  ,
                  मगर  ख्वाबों में  फिर भी लायेंगे , हमसे  रुठेंगे  क्या ? 


                 दुनिया हमें   दीवाना   कहे तो कहे ,कोई  परवाह  नहीं, 
                मगर  खुदा  से फिर भी आपको  मांगेंगे , इनकार करेंगे क्या ?
                    

रविवार, 19 जुलाई 2015

ईश्वर के नाम पत्र ,भाग -२ (कविता)

               ईश्वर  के नाम  पत्र  -  भाग-२  (कविता) 


                        

                       हे  ईश्वर  !   बोलो  तुम  कैसे  हो ?  
                       क्या हाल  है , क्या  बहुत व्यस्त हो ? 

                      मेरे  पत्र  का  जो  तुमने दिया नहीं  जवाब ,
                     क्या  खता  हो गयी  हमसे कहिये   जनाब .

                     हमने ज़िक्र-ऐ- हालात  धरती  का किया था.,
                     तुम्हारे  सामने  एक  फसाना  बयां किया था. .


                     ऐ  दुनिया बनाने  वाले कुछ  तो  परवाह  करो ,
                      इस  दुनिया  पर ,अपनी धरा पर  निगाह करो .


                     सब  कुछ  बदल  गया ,बदल गए दिन-रात ,
                     और  साथ बदल गयी इंसानों की  औकात .

                      इंसान  इसान  ना रहा , बन गया  शैतान ,
                      सुनोगे  जब  करतूत इसकी  होगे हैरान .

                       
                      धूर्त ,पाखंडी,  लालची ,  स्वार्थी और हिंसक ,
                       नहीं बची   इसमें  ज़मीर जैसी वस्तु  ,बेशक .


                      हाँ !  तुम्हारे  द्वारा  भेजा  हुआ  यह  रक्षक ,
                      मारकर  जिव-जंतुओं को बन गया  है भक्षक .


                      उसी  ने बिगाड़  डाला  धरती  का  सुंदर रूप ,
                      लुट-लुट कर इसके जेवर ,कर दिया  कुरूप .

                     
                      न रहे  हरे-भरे पेड़-पौधे , ऊँचे पर्वत निर्मल नदियाँ ,
                      न रहा स्वच्छ पर्यावरण और  न  रही हसीं वादियाँ  .

                      
                       अब   तुम्हीं  बताओ हे प्रभु  की तुम हो  कहाँ !
                        पहुंचेगी  कैसे तुम तक प्रार्थना ,तुम हो जहाँ .

                
                        गीता   में जो किया था वायदा , क्या तुम भूल गए, 
                      प्रकृति को बना कर तुम अपनी प्रकृति  को भूल गए. 


                        देखकर भी  वसुंधरा का हाल तुम्हें  रहम नहीं आ रहा , 
                        तमाशा देख रहे हो  ! फिर क्यों तुम्हें क्रोध नहीं आ रहा .


                       तुम्हारा  यह बर्ताव देखकर  हम बड़े  हैरान  है, 
                       उस पर पत्र का  जवाब ना देने पर  कुछ परेशान है. 


                        मगर  चाहे जो भी  हो  हम यूँ ना  मानेंगे ,
                        तुम्हारी  नज़रे -करम जब तक  ना होगी ,
                         हम  तुम्हें  अर्जियां  डालते  जायेंगे. 
                       

                         
                      

बुधवार, 15 जुलाई 2015

प्रकृति ने छेड़ा संगीत ( कविता)

                                   [   १९९४  में  आकाशवाणी  इंदौर  से  प्रसारित   कविता  ]

                                    प्रकृति   ने छेड़ा   संगीत  (  कविता )  

                                                                                       


       प्रकृति  ने  छेड़ा  एक   मधुर  संगीत  ,
        क्षितिज  में  गूंज उठा  एक प्रेम गीत .
                            
        तरु - मालिकाओं   में   हुई   सरसराहट  ,
        खग-वृन्दों   में भी हुई  चहचहाहट.

                                
                               सर-सरिता  की धवल  -धारा  लगी  बहने ,
                               मानो  चुपके  से   वह  लगी  कुछ   कहने . 


                               कुञ्ज -लता पुंजो  पर  बैठे  हुए मधुप वृन्द ,
                               सूना  रहे  हैं  वह  भी  जैसे  गान -वृन्द .


                               गहन  गिरी   के अंक  में   मेघों  का डेरा ,
                               कुछ  पल के लिए  मन  ने  उधर  हेरा .


                              उनके   गर्जन  में  उठती  सी  कभी  आरोह ,
                             और  शांत  हो जाये   तो   ज्यों   अवरोह .

             
                              अमूल  प्रपात   जो   बहता   हुआ अविरल ,
                              उसमें  उठता   हुआ  कल-कल ,छल -छल .


                             गरजते   हुए  मेघों  से  बरसती  बरखा  ने ,
                              भीगो   दिया  जद-चेतन को इस सखा  ने . 


                             टिप- टिप  करती   बुँदे ,औ  कलरव करती नदिया, ,
                              भवरों  की गुंजन  व्  श्याम  मेघों की  अंगडाईयां .

                              
                             मिला  रहे  हैं  यह सारे किसकी ताल में  ताल ,
                              किसके  नियंत्रण  में  है  यह मोहक सुरताल .


                              ढूढने  को  की वह  संगीतकार है कहाँ  ! ,
                             चल  पड़े उसी  दिशा पर मन ने  कहा जहाँ . 


                             चलते - चलते  पग   मेरे थम से  गए ,
                             सुनकर वीणा  की तान  जम से गए .


                              दृष्टि   घुमाकर  देखा  मैने  चारों ओर  ,
                              टिक  कर  रह गए  मेरे चक्षु  उस ओर .


                             दूर   किसी   कुटिया के  आँगन  में ,
                             देनदारों से  भरे  हुए  उस कानन  में. 


                             बैठा   था कोई भद्र  वीणा  कर में लेकर ,
                            सारा  भू-मंडल  झूम रहा था वशीभूत  होकर .    
                                       
                                
                             है यह  रचना  अवश्य   इसी   संगीतकार  की ,
                             छेड़ी   थी  जिसने वीणा से   तान  प्रेम-गीत की .