शुक्रवार, 22 अगस्त 2014

khudkushi (gazal)

                                  ख़ुदकुशी  (ग़ज़ल) 

                

                         कहने  लगी  है  अब   मुझसे  मेरी न-उम्मीदी ,
                         तू   हर  यक़ीन  से   मुंह  अपना   मोड़  ले। 

                         बंद  करदे सब दरवाज़े  और  खिड़कियां ,
                          गुस्ताख़  हवाओं को अंदर आने से रोक दे। 

                         कर ले  महफ़िल -ए -दुनिया  से  किनारा ,
                         तन्हाई  के  सागर में  खुद को   डुबो  दे। 

                         बंद  कर दिए  तक़दीर ने  कामयाबी के सब रस्ते ,
                         तो उन रास्तों  पर तू   दिवार खड़ी  कड़ी कर दे। 

                         हो गयी  है  इंतेहा  अब  जद्दोजहद और  कशमकश की ,
                         तू  अब अपने  अरमानो /ख्वाइशों  का गला   घोंट  दे। 

                         क्यों  देखा था  ऐसा ख्वाब ,जिसकी  तामील नहीं होनी थी ,
                         ख़्वाब होते  तो हसीन मगर  ज़हरीले ,यह  मान  ले. 

                         कुछ   कागज़   बर्बाद किये ,और  कई  कलमें  तोड़ीं ,
                         समझ लिया खुद को शायर ,अब दीवानगी छोड़ दे। 

                        मौत   से कहती  है  तू अब आ भी जा ,मगर वह आती नहीं ,
                      बिखेर कर अपने  दिल के टुकड़े कागज़ पर ख़ुदकुशी करले।
                              
                      रोती  है  रूह  ज़ार -ज़ार और आहें दर्द की भर-भर कर ,
                       जबन वह  भी  ना सुने  हरजाई ,तो पुकारना छोड़ दे.

           

मंगलवार, 5 अगस्त 2014

in hasraton se keh do... (gazal)

                        इन  हसरतों  से  कह दो। ....  (ग़ज़ल) 

                                 

                         इन  हसरतों  से   कह दो  की  न  मचलें   बेवज़ह ,
                         मैने  इन्हें  अक्सर  दिलों में  टूटते हुए देखा  है. 
              
                        बुझते   देखें हैं  ख़्वाब  चश्म-ओ-चिराग  की मानिंद ,
                        हर एक  अक्स धुएं  में  बदलते  हुए  देखा है। 
 
                        मुझे  नहीं  मालूम की क्या  होती है  ख़ुशी ?क्योंकी ,
                        तबसुम  को अपने मैने अश्क़ों  में बदलते देखा है. 
          
                      मेरा  दिल  ना हासिल कर सका ,थोड़ा सा भी  सुकून ,
                       ज़हन में अपने तूफान उठाते कशमकशों  को देखा है। 

                       बहारों  का  आगाज़ भी  न हो सका था की पा  लिया अंजाम ,
                       मैने अपनी  क़िस्मत को दरवाज़े  बंद करते हुए   देखा है। 

                       मेरी  आरज़ूएं ,ख्वाइशें कर कर  के मिन्नतें  खुदा से हार गयीं ,
                       मैने  ज़िंदगी को अब  तन्हाईओं  में  सिसकते हुए  देखा  है.. 

                       मैं   रिश्तों  की  डोर  को भी  मजबूती से ना  थाम  पायी सकी ,
                       मैने  दोस्ती /और प्यार को नफरत में  बदलते देखा है. 
                     
                      यह  बेचैन ,उलझी हुई सर्द आहें ,और  सांसों  पर पहरा ! 
                      अपनी  रूह को आज़ादी के लिए  तड़पते हुए देखा  है.