बुधवार, 30 जुलाई 2014

Rafi ki yaad maen ( kavita)

              अमर  गायक  स्व.   मुहम्मद  रफ़ी  साहब  की पुण्य तिथि पर विशेष 

                        रफ़ी  की याद  में। .......... (  कविता)

                       

                        क्या  थी  वह  बरसात  की रात ,
                        वह  तो थी  क़यामत की  रात।
                       ज़िंदगी और मौत के उस जंग में ,
                      क्यों  कज़ा की हुई  आखिर जीत?
                      टूट गयी  सांसों  की  क्यों  डोरी ?,
                      खामोश हुई आवाज़ ,सो गए गीत।
                     दर्द  का सागर  लहरा उठा यूँ के ,
                     अश्क़ों से भीग गयी बेजान-जीस्त।
                      बुझे हुए अरमानो  का कारवां  चला ,
                     मुसाफिर की करवाने खाक से मुलाक़ात।
                    एक सफर ख़त्म हुआ और  दूसरा  शुरू ,
                    इस मंज़िल पर आकर बढ़ गई  औक़ात।
                    इंसा  था वह उम्दा ,औ  फनकार ठ अज़ीम ,
                    कांटे हो या फूल ,सभी थे उसके  मीत।
                   देकर तबस्सुम अपना, ज़हर खुद पीता था ,
                  इस तरह ज़िंदगी को निभाने की सीखा गया रीत।
                  ज़माने  की हवा छू भी ना पायी  उसे ,
                 मासूम सा ,सलोना सा उस पर थी खुद की इनायत।
                यह  है उसकी  यादों का ३४ वां सावन ,
                मगर  बदले नहीं हम औ हमारे हालात।
                आज भी है वह  यादों में ,हमारे  दिल के क़रीब ,
                कभी न भुला सकेंगे ,जब तक है यह क़ायनात।  

मंगलवार, 29 जुलाई 2014

aaftab-e-mousiqi : Mohammed Rafi (gazal )

                अमर  गायक  स्व.  मुहम्मद  रफ़ी  साहब  की पुण्य -तिथि  पर विशेष 

                    आफ़ताब -ऐ- मौसीक़ी :  मुहम्मद रफ़ी (ग़ज़ल) 

                           

                           बंदा था  या  था  वह  युसूफ -जमाल ,
                          माहताब ज़मीं पर उतर आया हो जैसे। 
                          हाजी  था, नमाजी था थी खुदा सी शक्ल ,
                          जन्नत  का  कोई  फरिश्ता हो  जैसे। 
                         मौसीक़ी ही  थी उसकी सबसे बड़ी दौलत ,
                        उसका  दीन -ओ   ईमान    हो  जैसे। 
                         आवाज़  थी शरबती और गुलों सी रंगीली ,
                        जज़्बातों  के तमाम रंगों मैं ढली हो जैसे। 
                        इंसानियत जिसका मजहब-ओ -इबादत ,
                        कहाँ मिलेगा ऐसा उम्दा इंसान रफ़ी था जैसे। 
                        तभी तो रोइ थी खुदाई भी उसकी जुदाई पर,
                        ऑंसुओ की  सी  बरसात  पलकों से छलकी ऐसे। 
                        आज  है  वही रमजान का महीना और  ईद -मुबारक ,
                        मगर वह हरदिल-अज़ीज़  ,वह नूर-ऐ- चश्म ही नहीं ,
                       जिसके  बीना दिल हमारा टुकड़े-टुकड़े हुआ जाता है ऐसे। 
                         
                                               
                          

सोमवार, 21 जुलाई 2014

aesa ho sobhagy hamara (kavita)

                            ऐसा   हो  सौभाग्य  हमारा   (कविता)


                                         मनुष्य  बनूं   तो ,   सच्चा  सेवक  कहलायुं ,
                                         तेरे   आनंदपुर  के दरबार  में। 
                                        पशु  बनूं   तो  तेरी गाये   कहलायुं ,
                                        तेरे  आनंदपुर  की गौशाला  में। 
                                        वृक्ष  बनूं  तो  छाया  करूँ तुझपर ,
                                         तेरे  आनंदपुर  की   सड़कों  में। 
                                         मिटटी  बनूं  तो ,तेरे चरणो की धूलि कहलायुं ,
                                        तेरे आनंदपुर   की   धरती  में। 
                                         पानी  बनूं  तो  ,तेरे चरणो  को  धोयुँ नित्य ,
                                        तेरे आनंदपुर  के सरोवर  में। 
                                        पंछी  बनूं   तो  कोयल व् मयूर  बनूं ,
                                         कुहकूँ और  नाचूं  ,
                                        तेरे आनंदपुर  की बगिया  में। 
                                         बादल बनूँ  तो  सदा वर्षा  करूँ ,
                                        धानी  चुनर   बिछा दूँ ,
                                       तेरे  आनंदपुर की सभी  दिशाओं में। 
                                       नदिया  बनकर  लहरायुं ,
                                        तेरे आनंदपुर  के तट  में। 
                                        कुत्ता  या बिल्ली  बनूँ ,तो  संगत की जूठन खाकर ,
                                        अपना  भाग्य  मनायुं  ,
                                        तेरे  आनंदपुर  के दरबार  में।  
                                         जितने भी जनम  लूँ ,
                                         जिस भी  जून  में  जायुं ,
                                         अपने  निम्न -उच्च कर्म अनुसार ,
                                          बस तेरे  हैं  तेरे  कहलायें ,
                                           है तुझपर सौ जनम भी कुर्बान ,
                                           तेरी  सेवा  के लिए ,तेरी भक्ति के लिए ,
                                           बार-बार जनम लूँ ,
                                          तेरे आनंदपुर के दरबार में। 
         
                                       









शनिवार, 19 जुलाई 2014

qyamat ka din (gazal)

                                          मलेशियन विमान  दुर्घटना  पर विशेष 

                            क़यामत  का दिन (ग़ज़ल) 


                          इस  तरह  फलक  से  आ  गिरे ,
                         की फर्श पर  नमो-निशान न मिला। 
                         ठोकर मारी बेरहम  वक़्त  ने ऐसी ,
                       की आह  भरने का  मौका भी न मिला। 
                       बेशुमार  ज़िंदगीयां  हो गयी  फ़ना ,
                      कर  ना सके  कुछ भी शिकवा-गीला। 
                      रक्कासा बन मौत  झूमकर नाची ,
                     अपने क़दमों तले  मासूमों को दिया मिला। 
                      यह   क़यामत  पे क़यामत   तोड़ी किसने ,
                     किसकी साजिशों से  किसी का आशियाना जला ?
                     अमन  का  झूठा दवा करने वालो  सुनो ,
                     बंद  करो  यह  आपसी  दुश्मनी  का  सिलसिला। 
                    और  कितनी  बेगुनाहों की लाशें चाहिए  तुम्हें ? 
                     बनाने  को  इंसानियत  का  मक़बरा ,
                    वहशी  तो नहीं  हो तुम ,इंसान  ही हो न !
                    तुम्हें खुद ने इंसान  बनाया ,क्या यह दोगे उसे सिला ?  

शुक्रवार, 18 जुलाई 2014

ek prathna-patr modi ji ke naam . (kavita)

                  एक  प्रार्थना -पत्र मोदी जी  के नाम (कविता) 


                         आदरनिये मोदीजी !  आपको ,
                         हमारा  शत-शत   प्रणाम। 
                         दुआ करते है सारे विश्व  मेँ ,
                         फैले  आपका  यश  और  नाम। 

                        बहुमत से  जिताया  जब आपको ,
                        क्योंकि आपमें  दिखा   देश  का कर्णधार। 
                         इस  देश रुपी  भटकी हुई नाव की ,
                         अब आप ही  सम्भालो पतवार। 
        
                        उम्मीदें   है  आपसे हमें बेरशुमार ,
                        और   अटूट विश्वास है आप पर। 
                        देश  में अमन का शासन  होगा ,
                       और बहुमुखी विकास होगा इसका आधार। 
                      जाने कितने वर्षों  के  पश्चात ,
                      हम देशवासियों के भाग  है खुले। 
                      जो  आप हमें  एक आदर्श  ,
                     प्रधानमंत्री   के रूप मैं मिले। 

                    मोदी जी !  देश की इस धुंधली  तस्वीर को ,
                    विश्व  की दृष्टिमें पुनः  चमका दीजिये। 
                     पडोसी शत्रु देशों से  हमारे प्यारे भारत 
                    के  सम्मान  की  रक्षा  कीजिये। 

                   नारी की  अस्मिता व्  सुरक्षा ,
                    एक  प्रश्नचिन्ह बनी  हुई है। 
                  आम आदमी की ज़िंदगी भी ,
                     खतरे में  पड़ी हुई है। 

                    इस महंगाई  से हम इतने हैं त्रस्त ,
                     की  घर चलाना  हुआ मुश्किल। 
                    बिजली  और पानी बिना  भी ,
                     हमारा जीना हुआ  बोझिल। 

                   कानून  कमज़ोर व्  पुलिस 
                  प्रशासन  बेलगाम   हो गया  है। 
                  तभी तो जघन्य अपराधियों का  
                   होंसला बुलंद हो गया है। 
                    प्रिये  मोदी जी ! द्रवित ह्रदय से ,
                    हाथ जोड़कर करते हैं आपसे प्रार्थना। 
                    साम -दाम -दंड -भेद  अपनाकर , जैसे भी हो ,
                   यह बिगड़े हालात समाज के संभल लीजिये ,
                    कृपया  सुन लीजिए हमारी याचना।          
                      

kahan hai insaaf ? (kavita)

                      कहाँ   है इन्साफ  ?  (कविता) 


                                इन्साफ  की देवी  के तराज़ू  में नहीं   ,
                                न्यायधीश  की  फैंसले   मे  भी नहीं ,
                               वकीलों  के  बे बुनियाद सबूतों  से  फिर  
                               कहाँ मिलेगा  इन्साफ ?

                              पुलिस  के डंडे  में भी वह  दम नहीं ,
                              यदि  कुछ है भी  तो  सिर्फ  कमज़ोरों के लिए।
                             मूंछों का  ताव ,और आँखों  में क्रोध ,
                             जो भी  है  बस  पीड़ित व बेग़ुनाहों  के लिए।
                            ऐसे  में  कहाँ मिलेगा इन्साफ ?
                             
                            बदलें   चाहे  जितनी  सरकारें ,
                            कोई   भी आये , क्या कर लेगा?
                            नया  कानून बनाएगा ,पुराने बदलेगा ,
                            मगर इनका  सख्ती से पालन  कौन करायेगा ?
                            जनता को अपने हक़ का  ,
                            फिर कैसे मिलेगा इन्साफ ?           
                              
                            न्यायधीश   का जब  न रहा  ज़मीर ,
                            वकील भी बन गए  पैसो के पीर
                            पुलिस  की  बिगड़ गयी है छवि ,
                            अपने ईमान  से वह गए है गिर।
                            किस्से  करेगा  कोई शिकायत ,
                            और  किससे मांगेगा  इन्साफ  ?
                 
                             क़ानून  की सब  किताबें व्  दस्तावेज ,
                             सजा रहे  सिर्फ अमीरों व् रसूखदारों की सेज।
                             गरीबों ,मजबूर ,पीड़ित  की  बेगुनाही के सबूत ,
                            तो  कायल है दीमक भरी अलमारी या धूलभरी मेज।
                             सारी उम्र गुज़र जाये बेशक ,
                             मगर कभी न  मिलेगा  इन्साफ।

                             चांदी व् सोने से  ईमान को  तोलने  वाले ,
                              क्या  जाने किसी की  ज़िंदगी  की कीमत।
                              खुद  माँ -बहिन ,बेटी व् बहु वाले होकर ,
                              नहीं   जानते  किसी  गरीब की  इज़्ज़त।
                             अपराधियों  के साथ  जब  करेंगे  साठ -गांठ ,
                              तो  कैसे  मिलेगा इन्साफ ?
         
                             पशुओं   से  भी  ज़यदा  गिर  चुके है ,
                             मनुष्यता  ना रही  मानव -समाज में।
                              शराफत  और ईमान  मर चूका है अब ,
                              इन्साफ  की  क्या उम्मीद करना  इस समाज में ,
                               मर चूका  है  अब  इन्साफ।
                                 

शुक्रवार, 11 जुलाई 2014

muktak

                                  मुक्तक 


             देशवासियों   ज़रा  रखो  होंसला ,
             दिन  ज़िंदगी के ज़रूर  बदलेंगे। 
           लूटने वालों ने है अब तक  लूटा ,
            अब  बसाने वाले भी आयेगे। 
             बस थोड़ा सा और  सब्र करलो ,
            अच्छे दिन  शीघ्र ही आएंगे।  



           इंसान   की ज़िंदगी की बस इतनी सी है  दास्तान ,
          दो  घड़ी का मेला है और फिर सब   सुनसान। 
          छोटी  सी ज़िंदगी है और बेशुमार हसरतें ,तौबा !
         फानी है धोका है सब ,कहाँ समझता है  इंसान। 




       अरे   ओ  मेघा  ! कब  बरसेगा  रे तू।   
        क्या मुझे रुला कर ही  बरसेगा  तू। 
      अब आ भी जा ,मेरे जी को न तरसा ,
        लुंगी  तेरी  बलैयां अगर बरसेगा तू। 




     कौन सा  जतन करूँ ,करूँ कौन  उपाए। 
     तेरे बिन बरखा रानी ,कुछ न सुझाये। 
    तेरे  दर्शन को ऐसे तड़पूँ ,जैसे की मीन ,
    क्यों  तू मुझे एक बून्द के लिए तरसाये।

 
     दीपक   की  तो  प्रकृति  है  यही , ऊपर की   और   उठना ,
     यह तो हवाएँ हैं ऐसी  करती  मार्ग से  विचलित  बुझाने को।
    उसी तरह  आत्मा  की नियति है ,परमात्मा  का सानिध्य ,
     माया बहका  देती है उसे ,  चौरासी  के चक्र  में भटकने को।
     

रविवार, 6 जुलाई 2014

dharm kya hai ? (kavita)

                          धर्म  क्या  है? ( कविता) 

                                             
                                       इंसानों   को  इंसानों  से  लड़ना   सिखाये। 
                                       अभिमान  में आकर  ओरों  का खून  बहाए. 
                                        अपने -अपने  धर्मं-ग्रंथों का  प्रचार -प्रसार कर 
                                         खुद  को सबसे  ऊंचा   बताए. 
                                         अपनी  -अपनी  मंडली /मजलिस बनाकर ,
                                          दूसरों  के लिए  साजिश  रचाये। 
                                         मजहबी  तालीम देकर  अपने बच्चों को 
                                          दूसरे बच्चों से  दूर बैठाये. 
                                         एक ही  चमन  के  फूल होकर  ऐसी  दुर्भावना !
                                           एक ही  मंज़िल के मुसाफिर होकर ,
                                               यह कैसी  कटुता  ?  
                                            एक ही   पिता  की संतान होकर ,
                                              परस्पर यह कैसी शत्रुता ? 
                                          रास्ते   बेशक अलग-अलग  है अपने ,
                                           इबादत करने का ढंग  भी अलग है अपना। 
                                                          तो क्या ! 
                                            मंज़िल  तो अपनी  एक ही है। 
                                             खुदा  कहो  उसे या परमात्मा ,
                                              उसी  की दी हुई  है  यह आत्मा। 
                                               हमारी  जीवन -शक्ति  तो एक ही है। 
                                               गीता  हो या क़ुरान ,
                                                बाइबल  हो या गुरु-ग्रन्थ साहिब। 
                                                चाहे कोई भी  धर्म ग्रन्थ  हो। 
                                                  शिक्षा   उसमें एक ही है. 
                                                  इंसान हो  इंसान  से प्यार करो. 
                                                    है  सन्देश  भी एक ही ,
                                                    मानवता /इंसानियत  का  पालन करो। 
                                                     हाँ  !     वास्तव में   धर्म  है  यही। 

kisaan (KAVITA)

                                         किसान  (कविता)  


                                    बंजर  धरती पर  टिकी  है ,
                                    दो  हसरत  भरी  निगाहें। 
                                    तो कभी  आसमान  की और ,
                                    देखती  उम्मीद  भरी निगाहें। 
                                     की  शायद  कोई  कतरा  सा ,
                                     बादलों  से होकर ज़मीन पर गिर जाए। 
                                     बस  कुछ  बूंदें !
                                      जिससे   इस धरती की  प्यास मिट जाये.
                                       बादल  आये  भी ,
                                        मगर  नियति की  हवा ने  उन्हें  उड़ा  दिया.
                                        और फिर   तेजस्वी  सूरज अंगारे बरसाने  लगा।
                                         बादल  ने तो क्या बरसना  था।
                                         उसकी  बेबस  ,बेज़ार आँखों  से  टपक पड़ी ,
                                         आंसुओं की  चंद    बूंदें।
                                         निर्बल ,निस्तेज  काठ  से बदन  से टपक पड़ी,
                                          पसीने की बूंदें।
                                         ना  बादल  बरसा ,
                                          ना  खेत लहलहाए।
                                          बंजर  धरती पर  लेकिन टिकी  है ,
                                          अब भी  वह  दो निगाहें।
                                       

शनिवार, 5 जुलाई 2014

anyay (kavita)

                                    अन्याय   (कविता) 

                                                     
                                                कुछ   नहीं   कहती   यह धरती ,
                                                 जब हम  इसे  खोदते है। 
                                                 इसके  जल  से  हम  अपनी  
                                                 और   सब प्राणियों  की प्यास बुझते हैं. 
                                                 खेती  करके  अनाज  उगाते   हैं ,
                                                  और  सब प्राणियों  का पेट भरते  हैं. 
                                                 भारी  से भारी  प्राणियों  और हमारा व्           
                                                 हमारे  पापो  का बोझ  भी  वह  उठाती है। 
                                                 अपनी  संतानो  के  लिए  यह माँ ,
                                                    कितना  कष्ट  सहती है। 
                                                 मगर  इसे  सबसे  अधिक  कष्ट ,
                                                 तब   होता  है। 
                                                    इसका  दिल  खून के  आंसू  रोता  है.  
                                                  जब  इसका   कलेजा  चीर कर ,
                                                    इससे  एटम  बम  बनाया जाता है। 
                                                    हर तरफ  करुणामय  चीत्कार ,
                                                     इसका परिणाम होता है. 
                                                    समस्त  प्राणी -जगत  का अंत ,
                                                     प्रकृति  क अंत ,
                                                     मनुष्य  जाति  का अंत ,
                                                       या यूँ  कहो ,मानवता का अंत 
                                                      हो जाता है।  
                                                       इस  भयानक विस्फोटों  ,
                                                       इस दर्दीली  चीखों  में   क्या सुनाई देती है 
                                                       धरती माता  की  सिसकियों  की  आहत  ?
                                                        

बुधवार, 2 जुलाई 2014

hey vasundhara ! hum tere rini hain . (kavita)

                      हे   वसुंधरा  !  हम  तेरे ऋणी  हैं  (कविता) 

                                
                              हे   वसुंधरा  ! हे  माता ! 
                               तुम   हमें  कितना  देती हो ,
                             मगर बदले में  कुछ नहीं लेती  हो। 
                              तुम कितनी  महान हो। 

                              तुम  हमें  देती हो  ज़मीन ,
                               जिसपर  प्रारंभ  करते हैं हम 
                              अपनी  जीवन-यात्रा। 
                               तुमने ही  दिया हमें आधार ,
                               आत्म-विश्वास ,आत्म-निर्भरता ,
                               तुमने  ही हमें  सिखाई। 
                              तुम्ही  हमारी  प्रथम गुरु हो। 


                               तुमने  दिया   हमें  आकाश ,
                               हमने अपने होंसलों , उम्मीदों  को 
                                पंख  लगाये ,
                                परवाज़ बनकर उड़  चला मन ,
                                अपने क्षितिज  को पाने ,
                                 यह  निडरता ,यह  साहस ,
                                  तुम्हारी ही तो   देन  है। 
                                   क्योंकि तुम  हमारा विश्वास हो।  

                                   तुमने  दिए हमें  अक्षुण जल-संसाधन ,
                                   कुंएं ,तालाब , नदियां व् सागर ,
                                   जल रूप  में  मिला जीवन हमें ,
                                    तरलता ,   सघनता , वाष्प ,
                                    आँखों  ने    पायी  तो  मनुष्य 
                                   होने का  भाव तुमने  जगाया। 
                                   तुम हमारी  प्रेरणा हो। 

                                    तुमने  दिए  हमें   विभिन्न
                                      वनस्पतियों के भंडार ,
                                       पेड़ -पौधे , वन ,
                                     जिनसे पाया हमने ,भोजन व् 
                                      अौषधियाँ    बेशुमार। 
                                      कई तरह के स्वादों से परिचय ,
                                       करवाया तुमने। 
                                      तुम  अन्नपूर्णा  हो. 

                                     तुमने  दी हमें  पवन ,
                                    चंचल,  शीतल ,निर्मल ,
                                     श्वासों  को  मिला  हमारे सम्बल। 
                                      माता  ! तुम   हमारी  ही नहीं ,
                                       सभी  प्राणी -जगत की तुम  प्राण हो. 

                                      तुमने  ही दिए हमें चाँद और  सूरज ,
                                     तुम्हारी  यह दो   उज्जवल  आँखें ,
                                     शीतलता व्  ऊर्जा  समरसता  से  
                                      हम प्राणियों  को प्राप्त होती है। 
                                       निष्पक्षता  का पाठ  तुम हमें  पद्धति हो। 


                                       तुमने  हमें दिए पहाड़। 
                                        जो है सशक्तता व् सुरक्षा की पहचान। 
                                        और दिए तुमने विभिन्न  रंगीले मौसम ,
                                        वर्षा,  वसंत, शीत , या ग्रीष्म ,
                                           हर हाल में   जीने की कला  ,
                                        तुम हमें सिखाती हो। 


                                          माता  !  हमपर  है  तुम्हारे  कितने 
                                         उपकार! 
                                           भूल भी सकता  है  कैसे यह संसार !
                                            निस्वार्थ भाव से ,स्वेच्छा से , तुम अपना 
                                            सर्वस्व लुटाती  हो।  
                                             और  बदले  में  हमसे कुछ भी नहीं ,
                                              मांगती हो।  
                                             हे!  माता  ! हम  अति-निकृष्ट प्राणी ,
                                            तुम्हें दे भी क्या सकते  हैं.?
                                             अपितु  हम मनुष्यों व् अन्य प्राणियों का बोझ भी
                                              तुम  सहजता  से उठती हो।
                                             तुम्हारी सज्जनता  और तुम्हारी सहनशीलता  का
                                               कोई  जवाब नहीं।
                                              हे जननी ! हम तुम्हारे लिए कर भी  क्या सकते हैं। 
                                             हम तो स्वयं  तुमपर निर्भर हैं ,
                                            मगर    तेरे चरणो  में   अपना  जीवन- अर्पण 
                                              तो कर सकते हैं. .         
                                              हम तो  ऋणी  हैं तुम्हारे ,
                                              सौ  जनम लेकर भी  यह ऋण नहीं 
                                                चूका     नहीं सकते. 
                                               भला  माता का ऋण  कोई   चुका सकता है। 
                                                  हे वसुन्धरे ! तुम  हमारी  माता हो. 
                                        
                            
                                   
                           
                         
                           

मंगलवार, 1 जुलाई 2014

prabhu ! tum sakha ho ( kavita)

                             प्रभु !  तुम सखा हो  (कविता) 


                                      प्रभु ! तुम सखा  हो ,
                                      सुख -दुःख  में साथ  निभाते हो।
                                     प्रभु ! तुम परम हितैषी हो ,
                                     सही -गलत का अंतर  समझते हो।
                                     प्रभु ! तुम हमराज़ हो ,
                                    हर राज़  हमारे छुपाते हो।
                                    प्रभु !  तुम हमदर्द हो ,
                                   हमें  दर्द   में   राहत देते हो।
                                    प्रभु !  तुम मार्ग-दर्शक हो ,
                                   सत्य-मार्ग  हमें दिखाते हो।
                                    प्रभु ! तुम हमारे गुरु भी हो ,
                                    जीवन -शिक्षा  हमें देते हो।
                                   प्रभु ! तुम ही हो परम-पिता परमात्मा ,
                                    अपनी  शरणागति रखते हो।
                                   हमारी आत्मा रुपी  दीप प्रज्वलित है तुमसे ,
                                   भक्ति -मुक्ति का मार्ग तुम्हीं दिखाते हो.    
                                     
                              

muktak

                                    मुक्तक 



                       १,       प्रभु  !  हम   हैं  पापी  ,तुम हो बख्शनहार ,
                                 हम हैं  मिटटी के पुतले तुम हो प्राणाधार ,
                                 तुम्हारी दया-करुणा  की कोई सीमा  नहीं,
                                 तुम  हो सर्वशक्तिमान पारब्रह्म निराकार।

                       २,        सतगुरु  !   तेरी महिमा कही  न जाये ,
                                 वेद ,पुराण ,ग्रन्थ  सब  लिख-लिख हारे ,
                                 तुम ही  हो  महान  इस  सारे  जगत   में ,
                                  हम  दीनन   के तुम  ही हो  रखवारे।



                       ३,        समस्त  धरती  को कागज़ किया,
                                  सातों  सागरों की स्याही  बनायीं ,
                                  सभी  वृक्षों की  कलम  तैयार  की ,
                                  तब भी  प्रभु की महिमा कहीं न गयी।
                     
                          ४,      प्रभु  ! तुम  हो  चन्दन  हम हैं    पानी ,
                                   हम मिटटी के पुतले ,तुम हमारी वाणी ,
                                   तुम हो ज्ञान का सागर , हम मूरख प्राणी ,
                                   हम में तुम ,औ तुम में हम है  हे   प्रभु! ,
                                   मिट जायेगा  एक दिन  सारा अंतर ,
                                यह  है  संत-महात्माओं  की सच्ची वाणी।