शनिवार, 14 जून 2014

PITA (KAVITA)

                            पितृ -दिवस पर  विशेष 

                                         पिता   (कविता )

                            



                                                 पिता   हैं  एक  वृक्ष , 
                                                 छत्र -छाया  में  जिसकी ,
                                                 सुकून  पाएं  हम। 

                                                  पिता   हैं एक आधार ,
                                                  सम्बल  पाकर  जिनका ,
                                                  सुरक्षित रहें हम। 

                                                  पिता  हैं  एक  शक्ति -पुंज ,
                                                   संचरित  होकर उनसे ,
                                                   बलवान बने हम। 

                                                  पिता  हैं  प्रेरणा भी ,
                                                   धारण कर  उनका  मार्ग ,
                                                   जीवन  को सफल करे हम। 

                                                   पिता हैं ज्ञान - संस्कार भी ,
                                                    आदर्शों पर उनके चलकर ,
                                                    मानव  कहलाये  हम। 

                                                    पिता  हैं  हमारे  सबसे अच्छे मित्र ,
                                                    हमराज़, हमदर्द ,हमराह  भी ,
                                                    मार्ग -दर्शन पाकर जिनकी ,
                                                    संघर्षों से  विजय पाएं हम। 

                                                     पिता  की   अंगुली  पकड़ ही तो ,
                                                       हमने  चलना सीखा। 
                                                     पिता की  आँखों से ही  दुनिया को ,
                                                       हमने  देखना सीखा।  
                                                      महसूस कर त्याग -बलिदान उनका ,
                                                      क्यों न   उनके समक्ष  शीश  झुकाएं हम। 

                                                     पिता है  तो  सब कुछ है ,
                                                      जीवन है ,और जीवन का आनंद है। 
                                                       पिता नहीं  तो कुछ भी  नहीं। 
                                                        पिता का  मूल्य  उनसे  पूछो ,
                                                        जिनके  पिता नहीं. 
                                                         क्योंकि  पिता  हैं  बच्चों  के लिए अनमोल। 
                                                         दुनिया  की कोई  दौलत नहीं. 
                                                          तो   क्यों  न  आज के   शुभ दिन ,
                                                           अपने पिता  को शत-शत नमन करे हम. 
                                              

                                                          

गुरुवार, 12 जून 2014

are barkha rani ! ab to aa jaa (kavita)

                                 आषाढ़  माह  पर  विशेष 

                                       अरे बरखा रानी  !  अब तो  आ जा (कविता) 

                                     
                                             अरे ! बरखा रानी ! 
                                             अब   तो  आ भी जा।  
                                             व्याकुल  हो रहे हैं हम ,
                                            तेरे बिन ,अब तो दरस  दिखा जा। ....   
                                      
                                  १,       उमड़ -घुमड़ कर ,
                                            गरज -बरस कर ,
                                           जब  बादल यह  छाएंगे। 
                                           काले - कजरारे तेरे  नैनो से ,
                                           तेरा  संदेशा लेकर  आएंगे। 
                                           इसी  आस  पर  ही  हम तकते है आसमान को। 
                                           के कहीं से  तो  तू दिख जा। 
                                            अरे  बरखा रानी। ....... 

                                   २,        प्यासी   है धरती ,
                                               प्यासा  है  अम्बर। 
                                               प्यासा  है  जड़-चेतन ,
                                             प्यासे है जलचर -नभचर। 
                                             हम  मनुष्य  भी  प्यास से त्रस्त हैं। 
                                             अपनी ठंडी -ठंडी फुहारों से  सबकी प्यास बुझा जा। 
                                               अरे बरखा रानी। ....... 

                                      ३,     तेरी  बूंदों  की  टप- टप ,टिप-टिप को ,
                                               सुनने  को यह कान  तरस गए। 
                                               तू तो  ना  बरसी अब तलक ,
                                               मगर  ये  नयन  हमारे  बरस  गए।  
                                               तेरे  इंतज़ार मैं गुज़रते  हैं  दिन-रात ,
                                                अब  तो झलक  दिखला जा। 
                                                अरे बरखा रानी  …… 
                   
                                      ४,       तुझे  छूकर  बहती  है  जब ,
                                                  यह  ठंडी -ठंडी मस्त हवाएँ। 
                                                   हाय  !  कितनी  सुहानी  लगती हैं ,
                                                  यह  महकी -महकी मदमस्त फ़िज़ाएं। 
                                                   मन -मयूर  नाच उठता है इनकी मस्ती में ,
                                                   आ! तू भी  हमारे संग  आकर झूम जा। 
                                                   अरे बरखा रानी। …… 

                                       ५,         सुख  चुके  हैं सभी  जलाशय ,
                                                   नदियां ,सरोवर व् कुंएं। 
                                                   खेत -खलिहान सूखे ,
                                                    बाग़-बगीचे  सूखे ,
                                                    फूलों -कलिओं के मुख भी हैं मुरझाये। 
                                                    फिर भी  तू क्यों  देर लगाये। 
                                                     इन्हें मन -भर पानी दे जा। 
                                                      अरे बरखा रानी  -…। 
                            
                                        ६,            तेरी  रेशम सी  बूंदें ,
                                                        जब  धरती पर  पड़ती हैं। 
                                                       सुन ऐ  मानिनी ! 
                                                      एक सोंधी सी प्यारी सी महक ,
                                                        मिटटी से  उठती है। 
                                                        इस   वसुंधरा पर   हरियाली की 
                                                        धानी  चुनर  ओढ़ा जा।  
                                                       अरे बरखा रानी। …। 
                                                       
                                                 
                                          ७,          सुन ओ  बरखा दीवानी ,
                                                        तू तो  है  प्रकृति  की  परम दुलारी। 
                                                         मौसमो की  तू  सहचरी ,
                                                        सारा  जगत है तेरा  पुजारी। 
                                                         ओ  जीवनदायिनी !
                                                          इस सृष्टि   को जीवन  दे जा।  
                                                           अरे बरखा  रानी। …। 
                                                                 
                                              
                                        ८,               हाय !  यह सूरज कैसी  आग बरसाए ,
                                                           हमसे  अब यह  गर्मी सही ना जाये। 
                                                         उसपर  ज़ालिम !  बिजली  नखरे दिखाए। 
                                                         यूँ लगे है  अब बस  यह जान निकली जाये। 
                                                          तन-मन को प्रफुलित  करने को ,
                                                           इस रूह को  सुकून देने को। 
                                                            अब तो बस  आ ही जा। 
                                                           अरे बरखा रानी। …… 
                                                          
                                             

                                              

                                              

                                                  
                                              

गुरुवार, 5 जून 2014

yeh prakriti kuch kehti hai ..... (kavita)

                           विश्व  पर्यावरण  दिवस पर विशेष 



                            यह   प्रकृति  कुछ  कहना चाहती है ....   (कविता) 

                                         यह प्रकृति  कुछ कहना चाहती  है ,
                                        अपने  दिल का भेद खोलना चाहती है ,
                                        भेजती रही है हवाओं  द्वारा अपना संदेशा। 
                                        ज़रा सुनो तो  !  जो  वह  कहना चाहती है।  


                                        उसका  अरमान ,उसकी चाहत  है क्या ?
                                       सिवा  आदर के वो कुछ चाहती  है  क्या ?
                                       बस  थोड़ा  सा प्यार ,थोड़ा सा ख्याल ,
                                       यही  तो  मात्र मांग  है  इसकी ,
                                       और  भला  वह हमसे मांगती है क्या ?  

                                  
                                       यह चंचल  नदियां इसका लहराता आँचल ,
                                        है काले केश यह  काली घटाओं सा बादल ,
                                        हरे -भरे  वृक्ष ,पेड़ -पौधे और वनस्पतियां ,
                                        हरियाली सी साड़ी में लगती है क्या कमाल। 
                                        इसका रूप -श्रृंगार हमारी  खुशहाली  नहीं है क्या? … 
 
                         
                                        है  ताज इसका  यह  हिमालय पर्वत ,
                                        उसकी शक्ति-हिम्मत शेष सभी पर्वत ,
                                        अक्षुण रहे यह तठस्थता व् मजबूती ,
                                         क्योंकि  इसका गर्व   है यह  सभी पर्वत। 
                                          इसका  यह गौरव हमारी  सुरक्षा नहीं है क्या ?  ----


                                          यह  रंगीन  बदलते  हुए  मौसम ,
                                           शीत ,वसंत  ,ग्रीष्म औ सावन ,
                                           हमारे  जीवन सा परिवर्तन शील यह ,
                                           और  सुख-दुःख जैसे  रात- दिन। 
                                          जिनसे मिलता है नित कोई पैगाम  नया , क्या ? ---

                                          
                                             इस प्रकृति पर ही  यदि निर्भरता है हमारी ,
                                             सच मानो  तो  यही माता  भी है  हमारी ,
                                              हमारे  अस्तित्व की परिभाषा अपूर्ण है इसके बिना ,
                                             यही  जीवनदायिनी व यही मुक्तिदायिनी है हमारी। 
                                              अपने  ही मूल  से  नहीं हो रहे हम अनजान  क्या ?…

                                              हमें  समझाना ही होगा  ,अब तक  जो ना समझ पाये ,
                                              हमारी माता की भाषा/अभिलाषा को क्यों न समझ पाये ,
                                               दिया ही दिया उसने अब तक अपना सर्वस्व ,कभी लिया नहीं ,
                                               इसके एहसानों , उपकारों  का  मोल  क्यों ना चूका पाये।  
                                               आधुनिकता/ उद्योगीकरण ने हमें कृतघ्न  नहीं बना दिया क्या ?… 
                                          
                                          
                                                 क्यों हो गए हम लालची ,कृतघ्न व् कठोर ,
                                                 क्यों मात्र दे रहे निज सुख -ऐश्वर्य पर ज़ोर ,
                                                 एक हमारा ही नहीं ,उसकी और भी संतानो का है उसपर हक़ ,
                                                 ज़रा  देखें  तो अपना गिरेबान और  करें कुछ  गौर। 
                                                 आखिर हम इंसान  है दानव तो नहीं ,
                                                  सर्वसमर्थ है बदल नहीं  सकते अपनी  जीवन-शैली को क्या ?… 

                                                  तो  आओ  मिलकर हम यह  कस्में  उठायें ,
                                                  अपनी  प्रकृति -माँ के निमित रस्में   बनायें ,
                                                  करें   प्रकृति  की रक्षा व् उसकी संभाल ,
                                                   पर्यावरण /   पशु -पक्षियों की देखभाल ,
                                                   ताकि   वसुंधरा  खुशहाली  के  नग्में  गाये।  
                                                   इस तरह  एक स्वर्ग  ज़मीं  पर  उतार   नहीं सकते  क्या ?… 
                                       

बुधवार, 4 जून 2014

DOHE BHAKTI KE

                                         दोहे  

                               

     १ ,             बांह  मेरी गहि के हे मेरे सतगुरु ,कीजै भवसागर से पार,
                     करूँ मैं  कोटि-कोटि वंदना दीजो  मम निज स्नेह -दुलार।


     २,             देखा  जबसे सुन्दर  रूप मेरे प्रभु का ,  जगत  लगे मुझे बड़ा कुरूप ,
                      इनके  स्नेह  की शीतल  छाया मिले तो क्यों सताए  कष्टों की धुप।



       ३,            प्रभु  यह जग है  मिथ्या ,एक तुम ही  हो बस शाश्वत ,
                       तुम्हारी  महिमा मानते आये वेद-पुराण व  भागवत।


      ४,             प्रभु ! यह जग है  चार दिन की चांदनी ,फिर अँधेरी रात ,
                      हुआ मेरे जीवन में उजियारा जबसे हुई तुमसे मुलाक़ात।


      ५,             हो जिसमें स्वारथ व् चतुराई ,सच्ची होगी भला कैसे जग की प्रीति ?,
                       भोले -भाले से मेरे सतगुरु  की  सारे जग से सच्ची व् शुद्ध है प्रीति।

   
     ६ ,              माया   का फैलाकर  फंदा यह जग करे  मन को सदा  भ्रमित ,
                      सतगुरु न होते तो कौन देता हम नादानों को सहारा नित-नित।


       ७,             हम   कौन हैं ? क्या है ? और क्या है हमारी  डगर ? ,
                       है वही सर्व -ज्ञाता  ,हर  हालात पर उनकी है नज़र ,
                       अपना  जीवन  ,मन -प्राण  तुम्हें  सौंप कर हे प्रभु ! ,
                        हो गए  हम आनंदित ,मिट  गयी साडी चिंता -फ़िक्र।


        ८ ,           मुझे  तो  सरोकार  है बस अपने सतगुरु से ,
                       इस जगत  से  मुझे भला क्या है लेना-देना ,
                       वह  है हमराज़ ,हमदर्द ,परम मित्र  मेरे ,
                       झूठे ,स्वार्थी  रिश्तों का   मुझे क्या करना।