मंगलवार, 22 अप्रैल 2014

kyon ruthe ho mohan... (bhajan)

                         क्यों  रूठे  हो मोहन। … (भजन) 

                                      


                                
                                    क्यों   रूठे  हो  मोहन  मुझसे ,
                                    कोई कारण  यदि जान पाऊँ। 
                                   हाथ   जोडूं ,चरण पकडूँ तेरे ,
                                   तू  जैसा कहे वैसे तुझे मनायुं। 
        
                                 
                                  मझधार  में   छोड़कर  मुझे ,
                                 तुमने   कर दिया  अकेला। 
                                 ना  ही   कोई  हमराज़ है ,
                                 ना हमदर्द ना साथी-सुहेला। 
                                 अब   तेरा दर छोड़कर कहाँ जायुं।   

                                
                                भूल   हो गयी मुझे  बड़ी ,
                                ना याद रहा तेरा वायदा ,
                                मूरख थी  नादान  थी मैं ,
                                न समझ सकी माया का इरादा। 
                                जाल  में फंसी मीन की तरह अब  छटपटायुं। । 

                            
                                 कन्हैया  !  तुम तो  बड़े दयालु  हो ,
                                 हो तुम  जगत  के  पालनहार ,
                                 तुम्हारे सिवा हम  भाग्यहीन को , 
                                 कौन   देगा प्यार और  दुलार। 
                                अब  माफ़ भी  कर दो मैं तेरे समक्ष गिड़गिड़ायूँ। … 

                                 
                                कहने  की  कोई  ज़रूरत नहीं ,
                                तुम सब कुछ जानते हो। 
                                 तुम   हो  अंतर्यामी ,प्रभु !
                                 अंतर की  गति पहचानते हो। 
                                 मैं  कैसे  तुझे  दिल खोल के दिखलायुं। … 

                           
                                सौभाग्य  जगा दो मेरे  दीन बंधू !
                                करके   मुझपर असीम उपकार।
                                पार लगा  दो  इस भवसागर से ,
                                मेरी जीवन नैया  के  ओ  खेवनहार ! 
                                अब  छोड़ भी दो ज़िद अपनी , मैं  गुहार लगायुं। । 
                      

रविवार, 6 अप्रैल 2014

tijarat (gazal)

                          तिजारत  (  ग़ज़ल ) 

                       
                     कद्र   तुम    दिलवालों   की    क्या   करोगे ,
                    सौदागर  हो तुम  प्यार को  गरज़ से तोलोगे। 
                    जब तक निभ गयी निभा दी गयी  दोस्ती ,
                    रास  न  आया साथ  तो  मुंह फेर लोगे ,
                    एक तिजारत ही तो कि थी ,कब दिल को  लगाया ,
                    ना  हुआ  मुनाफा , तो  दिल कहीं  और  जोड़ लोगे। 
                    इस दुनिया-ऐ-फानी  में  पानी  है सारे रिश्ते ,
                    जो  भा गया प्याला उसी  में समा  जाओगे। 
                   यह भी  ना सोचा कि क्या गुज़रेगी शीशा-ऐ-दिल पर,
                   शीशा ही तो  है टूट गया तो टूट गया ,क्या  करोगे। 
                   इतनी फुर्सत कहाँ कि  दूर करें गीले-शिकवे ,
                   कोई  भरता  रहे आहें,तुम अपनी राह पकड़ोगे। 
                  अरे  छोड़ो भी  अनु ,क्या दिल को आज़ार लगा रखा है !
                 जो ना समझ सके ज़ज़बात तो नुक्ताचीनी से  क्या लोगे। 

car ka yashogaan ( hasy-vyangy kavirta )

                       कार का यशोगान (  हास्य- व्यंग्य रचना) 


                          चंचला , चपला ,  रंग -रंगीली ,
                                  द्रुत  गति  गामिनी  कार ,
                          मात्र  धनिक वर्ग ही नहीं ,
                                   अब हर वर्ग  कि चहेती कार। 
                          वोह  ज़माना गया जब  ,
                                  गऊ  खड़ी  होती थी द्वार ,
                          अब मुख्य द्वार  कि शोभा  बढ़ाये ,
                                   चतुर्थ चक्र वाहिनी  कार। 
                           हसरत  भरी निगाह से  देखा करे ,
                                      आते -जाते  मुसाफिर ,
                            रोक   कर  अपने  क़दमों  को ,
                                       अपने अनुमान लगाएं फिर।  
                           कौन सा  मॉडल है ? ,
                                       किस कंपनी कि  है भाई !
                           टाटा , मारुती , हौंडा ,
                                       या फिर  हुंडई। 
                             क्या रंग है , क्या  बनावट है ,
                                       कितनी  ज़बरदस्त  है  भई !
                             लाखों  कि  या करोड़ों  कि ,
                                        होती  है यह  मनमोहिनी ,
                             तभी  तो अपने  नाज़  उठवाती है ,
                                        यह   नाज़नीन  गामिनी। 
                             ठोक  जाये  गर  इसे सड़क पर ,
                                       तो मालिक  का चढ़ जाता है पारा। 
                             खुद लग जाये  चोट मगर 
                                       इस पर  खरोंच  नहीं गवारा। 
                               होती  है   यह  मालिक कि जान ,
                                       और सिर्फ  जान ही नहीं, 
                                    यह  है उसकी  आन ,बान ,शान। 
                               दौड़ती  है जब  सड़क पर  ,
                                              अपने पुरे   वेग से , 
                                मुसाफिरों  कि दिल भी ,
                                             धड़कता  है पुरे वेग से। 
                                 रास्ता  छोड़ कर  किनारे  
                                               हो  जाते  है  मानिनी  के लिए ,
                                कभी  डर  से ,कभी आदर से ,
                                                 इस अभिमानी  के लिए।  
                                क्योंकि  पता  है ,
                                                   यदि  ना छोड़ा मार्ग तो ,
                                   यह क्या करेगी। 
                                   हार्न  बजा-बजा कर पागल  ,
                                            कर देगी ,वर्ना 'उड़ा'  देगी। 
                                    उड़ाने  को तो  माहिर है ,
                                             यह नटखट ,
                                     फागुन से पहले ही  होली खेले ,
                                             यह कीचड़  कि ,लाज न इसे  आये। 
                                     खुद गन्दी  होकर   खुद को  तो 
                                                 महंगे  सर्फ़ से धुलवाए। 
                                     मगर  हम कहाँ जाये ! 
                                                 इसके सितम के मारे ,
                                     हम  कपड़ों  से दाग   छुड़ा -छुड़ा के मर जाएँ। 
                                               सुना   है हमने  अपने  बड़े -बूढ़ों से ,
                                        वाहन  का शौक  है  सदियों पुराना।
                                                 चौसंठ  करोड़  देवी-देवताओं में ,
                                        हर कोई था   अपने  -२  वाहन का दीवाना।
                                          मगर  अब जब देखते होंगे ,
                                                      इस  भाग्य -शालिनी को ,
                                           तो ज़रूर सोच रहे होंगे ,
                                                      यार कितने  advance है  यह मृत्युलोक वाले ,
                                           इनके पास है  सुंदर ,चम-चमाती चौपाया ,
                                                    और हमारे  पास वही  पुराने ,
                                             मोटे भेंसे ,  शेर ,  चूहे ,  मोर , या  बैल   चौपाया।
                                                       यार !  हमें भी  अब बदलना  होगा ,
                                              छोड़ो  यह  फैशन  पुराना ,
                                                      और नए से नाता   जोड़ो।
                                              जायो  सेवकों ,सिपाहियों ,
                                                         शीघ्र ही हमारे लिए ,
                                               हौंडा सिटी  बुक  करवायो।
                                                इस तरह  मृत्यु  लोक कि देखा-देखी ,
                                                स्वर्ग लोक  में  भी  आ गया इन्केलाब।
                                                   इस  चंचल ,चतुर  ,चपला ,
                                                  द्रुत  गति गामिनी कि  सब  जय जय कार करो
                                                            जनाब !
                                                

शुक्रवार, 4 अप्रैल 2014

jay ho computer devta (hasy-vyangy kavita)

                         जय  हो कंप्यूटर  देवता  !   (  हास्य-व्यंग्य  कविता) 


                जबसे   हमारे  घर  पधारे  हैं  आप ,
                हमारी तो पूरी दुनिया ही बन गए  आप, 
               गर बन गए  आप ही दुनिया तो और कहाँ जाएँ ?
               आप को  छोड़  कर  अब और कहाँ दिल  लगाएं ?
               दिल लगा है आपसे कुछ ऐसा ,कि कुछ मत पूछिए ,
               आप ही इश्क़ है  आप ही इबादत ,औरों को छोड़िये। 
               अब क्यों  मरते हैं हम आप पर वजह तो  पूछिए ,
              आप है ज्ञान का भण्डार और साहित्य -संगीत का संगम ,
              आप से ही तो  मिलता  है हमें  सारे  जहाँ का इल्म। 
              अब छोड़  के  ऐसे में आपका  दर  बताइये कहाँ जाएँ ,
             हर शय प्यारी लगे  आपके पहलु में और कहीं समय क्यों गंवाएं। 
             आपका  सुंदर मुखड़ा   देख  के  फंस  गए हम  आपके net में ,
             facebook , linkedin, google जैसे social network में। 
             चार दिवारी  के बाहर  भी  एक  संसार ,हमें नहीं कोई सरोकार ,
             भाड़  में  जाये  ! यहाँ एक हम है और एक आप हैं सरकार !
              सरकार ! आपकी बदौलत ही तो आया है हमारे जीवनमें इन्केलाब ,
              uploud ,downloud ,like ,cooments वैगेरह यह आप ही हैं जनाब !
              भूल चुके थे  अपनी  पहचान ,तो आपने ही पहचान दिलवायी ,
              बनवाके एक अदद profile ,हमारी आपने life बना डाली। 
               कैसी होती है दोस्ती और दोस्ती के उसूल ,हमें पता न था। 
              ना किसी कि   सालगिरह  न जनम दिन कुछ भी पता ना था 
             माबदौलत !  आपकी  मेहरबानी  से यह क़ाबलियत  हममें आ गयी ,
             आपकी सोहबत हुआ ऐसा असर कि  हममें अकाल आ गयी। 
             कंप्यूटर जी !  आपने ही तो  हमें हमारे फन के कद्र दान दिलवाये , 
             सुनने को जो तैयार ना होता था एक शायरी ,तो ग़ज़ल को like दिलवाये। 
             अब जब आपने  किये हम पर इतने उपकार ,तो क्यों ना आप प्यारे लगें ,
              देखिये कंप्यूटर जी ! दुनिया कहे आपको बला तो क्या आप मत सुनना  ,
               है  यह आपका  भी दीवाना , तो आप ध्यान मत  देना ,
               चाहे नेता -हो या अभिनेता ,या  पूरी जनता  ,
                इन सब का  बहुत मुश्किल है  आपसे दाम छुड़ाना।  
                जय हो  कंप्यूटर देवता ! आप अपनी कृपा यूँ ही  बरसाए रखना।