बुधवार, 26 मार्च 2014

meri kalam (kavita)

                                    मेरी  कलम  (कविता) 


                                  तू   जब भी  आती  है  ,
                                  मेरे   हाथों  में ,
                                मेरी उँगलियों  में ,
                                  समां सी जाती है। 
                              कभी   जज़बातों  की 
                                 नदी सी बन ,
                              उत्तर  आती  है ,
                                सफ़ेद  ,सादे  कागज़ पर। 
                              तो कभी  आँखों से निकल कर ,
                                 दर्द  के लिबास  में ,
                               आंसुओं   के साथ  बह जाती है ,
                                किसी झरने सी। 
                                  किसी पागल नदी सी तू ,
                                 जो अपने  उन्माद में ,
                                  तोड़-फोड़ कर सब किनारे ,
                                   अविरल सी  बह  जाना चाहती है। 
                                    मेरी   पीड़ा ,  कुंठा,  संताप ,
                                     को  लफ़्ज़ों  का जामा  पहनाकर ,
                                    तू   घुटन  के हर  पहाड़  को ,
                                       तोड़ डालना चाहती है। 
                                    तू   है  बिलकुल आज़ाद ,
                                        समय  का तुझपर कोई  बंधन नहीं। 
                                     ऐसा प्रयत्न  भी  वोह करने कि ,
                                        सोच भी नहीं सकता। 
                                      समाज भी तुझपर पहरा नहीं  लगा सकता ,
                                         और ना कभी लगा पाया  .  
                                       तू है  निरंकुश ,
                                         तू है  स्पष्टवादी ,
                                         सत्य   हो जिसका  अधिकार ,
                                           उसे  आगे बढ़ने  से क्या रोक कभी 
                                         पाया है कोई ?
                                          सच  बतायूं !  तेरे  पहलु में 
                                          आकर   मैं भूल जाती हूँ सब। 
                                         क्या लोक-व्यवहार , 
                                           क्या दैनिक  क्रिया-कलाप ,
                                           और क्या रिश्ते -नाते ,
                                           सब कुछ भूल जाती  हूँ। 
                                           और  हो भी क्यों  ना ऐसा ,
                                            मुझे तेरा  मजबूत साथ  जो मिला ऐसा। 
                                            तू आई मेरे जीवन में  जबसे ,
                                            मुझे  ज़िंदगी जीने का कोई  मकसद मिला। 
                                             तुन ही तो मुझे  एक रचनाकार  
                                             बनने  का सौभाग्य प्रदान  किया। 
                                             तू है मेरी ख़ुशी ,
                                            मेरा आनंद ,
                                           मेरा गम भी ,
                                            मेरा  आत्म-विश्वास है तू ,
                                            है तू मेरा स्वाभिमान भी। 
                                             तू ही मेरी प्रेरणा। 
                                            मेरी  ग़ज़ल,
                                            मेरी कविता, 
                                            है मेरी आप बीती ,
                                            मेरे  ह्रदय  में  उठते  संवेगों को 
                                            भवनाओं   को,
                                           मेरे ज़ेहन  में   हर घडी  तूफ़ान  
                                            मचाने वाले  विचारों को ,
                                             कशमकश को  सही दिशा देने वाली ,
                                               मेरी  प्रिये  सहचरी है ,
                                            तू मेरी कलम !

मंगलवार, 25 मार्च 2014

chunav ka mousam hai aya ! ( hasy-vyangy kavita)

               चुनाव  का मौसम  है  आया !  (  हास्य-व्यंग्य कविता) 

                     
                       चुनाव  का मौसम   है  आया ,
                       शरारत  करने  का मन ललचाया ,
                       नेताजी  कि कुर्सी का। … 

                       आगे  कुर्सी ,पीछे कुर्सी ,
                       चारों  ओर दिखे कुर्सी ही कुर्सी ,
                        देखो  तमाशा  कुर्सी का। ....... 

                       नेता  जी जब सोने  जाएँ ,
                       करवटों  में रात  गुज़र जाये,
                       नींद  भी आने  ना दे नशा कुर्सी का। ……      

 
                     गर   आ भी जाये  भूल से नींद ,
                     तो भी  रहती  है  यह उम्मीद ,
                      काश !   सपना  आ जाये  कुर्सी का। …… 

                     ५ साल तो  अकड़ के  में  घूमें ,
                      ऐशो-आराम  कि मस्ती  में झूमें ,
                     अब  तलवे चटवाए लालच कुर्सी का। ....... 

                     बैठी मनमोहिनी मंच पर मुस्काये ,
                     चाहे   नेता  परस्पर लड़-मर जाये ,
                      मगर  ज़ालिम को  तरस  ना आये ,
                      यही तो  अनोखा style  है  कुर्सी का। …। 

                      आखिर बेचारी  कुर्सी  भी क्या करे ? 
                      किसको  छोड़े ,किसका  वरण करे ,
                      आशिक़ों  के झुंड में  फंसा है  दिल  कुर्सी का। ....        
                 
                      
                     

शुक्रवार, 14 मार्च 2014

bijli ke nakhre ( electricity problem ) hasy-vyang kavita

                       उफ़ !  यह बिजली  के नखरे  (हास्य-व्यंग्य कविता) 


                                     पल भर  के लिए  ,
                                             यह जब चली  जाये। 
                                    यूँ  लगे  तन  से  ,
                                              यूँ   जान  चली जाये। 
                                    चिराग   सारे  उम्मीद के ,
                                              जो  बुझा जाये ,
                                   घर में  तो  क्या ,
                                          ज़िंदगी  में भी अँधेरा छा जाये। 
                                    गुलिस्तां  से जैसे  बहारें  ,
                                            रूठ   जाया करे ,
                                     यह भी  हमसे  यूँ ही  
                                           रूठ  जाया  करे। 
                                     क्यों  रूठी  है , किस बात  पर रूठी है ,
                                          हमारी तो कुछ  समझ में ना   आये। 
                                     इंतज़ार  हम क्या करते है ,
                                          यूँ समझो  अँधेरे  में तीर छोड़ते हैं। 
                                      इसी दौरान  कभी खुदा  से दुआ ,
                                           तो कभी इसे मनाया करते हैं। 
                                      दीवानगी  में  हम  दोस्तों !
                                          जाने  क्या-क्या करते  हैं। 
                                      तरह -तरह  के बहाने  इसके 
                                            मज़बूरी  में  सहते  हैं। 
                                      क्या   करें  ,इसके चले  जाने से 
                                             हमारे  सारे  काम  जाते हैं। 
                                       यूँ लगता  है  कभी-कभी  ,
                                               हम  हैं  चाभी  के  खिलौने ,
                                       बस इसके चलाने  से चलते -रुकते हैं। 
                                               हमारी  ज़िंदगी   है  यह  आखिरकार ,
                                        हमारे  home -appliance  कि भी जान  .       
                                                        इसी में   है अटकी। 
                                        इतनी दीवानगी ! उफ़!  
                                                 यूँ लगे  जैसे  यह कोई मेहबूबा  हो कोई ,
                                         जिसकी आदत  है  बार-बार रूठके  जाने की।  
                                              और रूठ के  कभी ना आने  की।  
                                          या कभी यूँ  लगे  बड़ी देर  हो गयी  ,
                                                अभी तक ना आयी ,
                                            ''कही दिल तो ना लगा बैठी'' ,
                                                   या  कहीं  अपनी आँखें  चार कर  बैठी है। 
                                              कुछ  हमारा  ख्याल किया होता ,
                                                     तो क्या  हमें इससे कोई शिकायत होती ? 
                                                ख़ुशी  के चंद  लम्हें  भी मिल जाते तो ,
                                                       तो ''मैडम ! '' बड़ी इनायत होती। 
                                                  यह हमारी  दीवानगी  कि हद  है ,
                                                             या  इश्क़  कि  इंतेहा कह  लीजिये। 
                                                   लिख डाला  हमने  यूँ ही यह '' प्रेम-काव्य '',
                                                             कृपया  इसे पढ़ लीजिये।  
                                                     
                       

शुक्रवार, 7 मार्च 2014

suno nari ! ( kavita)

                               सुनो   नारी !   (  कविता) 

                      कहाँ   नहीं है  शैतान ,
                       किसी -किस से बचोगी तुम ? 
                      घर ,समाज  या देश ,
                      कहीं भी  महफूज़  नहीं हो तुम। 
                     भरोसे कि नहीं दुनिया ,
                        कोई रिश्ता  है भरोसे वाला? 
                     सज्जन ,सुशील ,सुशिक्षित   ,
                         दिखने  वाला भी  दुष्ट हो सकता  है। 
                       चेहरा  हो सकता है जाना-पहचाना ,
                        मगर   फिर भी अजनबी  हो सकता  है। 
                      अपना -सा  जितना भी  लगे ,
                       पल  में  पराया  हो सकता है। 
                     क्या  किसी को अपना  समझ सकती हो तुम?
                       जिसे  है तुमने  अपने खून से सींचा ,
                        नज़रें  तो   उसकी भी बदल सकती हैं। 
                      रिश्तों  का वास्ता   क्या दे सकती हो तुम ?
                         आज के   मानव  में,
                     दिल नहीं,
                   ज़मीर नहीं ,
                    दीन -ईमान  नहीं।  
                    जज़बात  नहीं तो 
                      दर्द  भी कहाँ होगा !
                      करुणा नहीं,
                     प्रेम  भी कहाँ होगा ?
                      सही मायने  में  वोह मानव है ही नहीं। 
                       मानव  कि तो उन्होने  खाल पहन रखी  है ,
                      असल में  वोह  खूंखार  भेड़िये हैं। 
                     क्या  ऐसे   निर्दयी   पशु  के  समक्ष  ,
                        अपने   अश्क़  बहाओगी तुम? 
                       तुम्हारी आहों का,  तुम्हारी  विनती  का ,
                      इनपर कोई असर नहीं  होगा। 
                       मत करो इनसे याचना। 
                       तुम्हारे  आक्रोश ,शिकायत ,
                        से भी कुछ नहीं  होगा। 
                        कौन करेगा तुम्हारी रक्षा?
                         यह  पुलिस  व  कानून -व्यवस्था ,
                         या   यह  सियासतदार !
                         यह भी तो   मर्द  ही है न !  
                          क्या    यह देंगे  तुन्हें इन्साफ ? 
                         तुम्हें   खुद ही  अपने-आप को पहचानना होगा। 
                          अपनी   और अपनी  कौम कि  रक्षा भी ,
                           तुम्हें खुद ही करनी होगी। 
                         तुम्हें  अपने अंदर  कि शक्ति  को जगाना   होगा। 
                             हे नारी !   सुनो !
                            तुम्हें  अब दुर्गा  बनना  होगा। 

                        

गुरुवार, 6 मार्च 2014

HAM HINDOSTANI ( VYANG KAVITA)

                         हम हिन्दोस्तानीयों का दिल  ( व्यंग्य कविता) 


                                 हम    हिन्दोस्तानी   बड़े   भावुक   होते हैं  जी ! , 
                                 हमारे  भी   सीने   में    है  एक धड़कता  हुआ दिल।  
                                 सुबह  अखबार  में   जब मिलती  है  कोई  हादसे कि खबर ,
                                  तो    एक  ''  आह ''  से भर  जाता है   यह   दिल। 
                                  सड़क पर पड़े  घायल  इंसा  को कर  देंगे  नज़र-अंदाज़, 
                                  तो क्या हुआ  !  ''बेचारा ''   उसे  कह  तो देता है  दिल। 
                                  किसी  लड़की  को  कोई छेड़े  तो  कन्नी  काट लेते हैं ,
                                  मगर  बलात्कार की  वारदात से  काँप  जायेगा  दिल। 
                                   क्रिकेट   में  जीत कर आयें  खिलाड़ी  तो  सर आँखों पर ,
                                   हार   जाएँ  तो  उन्हें   कोसने  से  बाज़  नहींआएगा यह दिल। 
                                   हम  थोड़े  मासूम भी  है तभी  तो  बहक जाते  ''उनके'' वायदों से ,
                                   मगर जब खुलती है हमारी आँखें ,तो डर  जाता  है ''उनका  दिल''। 
                                   हंगामें  करना ,  पुतले  फूंकना , धरने  देना  और   आगजनी ,
                                   कुछ  तो  करना  है ना !  तो  गरमा-गरम  मुद्दे  ढूढता  है यह दिल। 
                                    हम   इन्केलाब  लाना तो चाहते है    मगर  क्या'' इस तरह''?  
                                    हम  हिन्दोस्तानी बनते हैं बड़े दिलवाले ,  क्या  है  हमारे  पास दिल ? 

बुधवार, 5 मार्च 2014

aahvaan ( kavita)

                               आह्वान  (कविता)  

                                  
                       
                         जिन्हें   है   हिन्द  पर  नाज़  ,   
                                                                                            
                         जिन्हें   हैं  इसकी  फ़िक्र ,
                        और   जो करते हैं  इससे  बेइंतेहा  मुहोबत। 
                        सुनले   वोह मेरा आह्वान !
                       कि देश के  व्  अपने  बीच  कि  हर  दिवार  को गिरा  दें। 
                        जातिवाद ,क्षेत्रवाद ,भाषावाद ,  
                        और धर्म   कि तमाम  ऊँची -ऊँची 
                          दीवारों  को   तोड़कर   ,उन्हें फांदकर। 
                          उंच -नीच , आमिर-गरीब ,  लिंग-भेद ,
                        रंग -भेद   कि गहरी खायी  को  पाट  कर। 
                        अपने दुःख -सुख  व् निजी स्वार्थ  से उठकर। 
                        आगे आयें    और  सुने  ,
                       अपने कान लगाकर ,
                        अपने  देश  कि  धड़कनो  को ,
                        इसकी नब्ज़  को टटोलें ,
                        जीवित  है अभी ,
                        कुछ  श्वास  बाकि है  अभी ,
                        अभी  कर  सकते  है  हैम इसे  पुनर्जीवित। 
                       अपने  बलिदान  से। 
                       अपनी  देशभक्ति  और 
                        अपनी  एकता   के 
                       शंख नाद  से  लौटा  सकते  है  इसकी चेतना। 
                       इसके  निष्प्राण  होते  तन   पर 
                      जान  फूंक  सकते  हैं हम  .  
                       हमारा  लहू  ला  सकता  है  
                       इसकी धमनियों  में संचार। 
                       इसके बुझी हुई  आँखों  के  चिरागों  को ,
                       हमारा  आत्मविश्वास   ही  
                       प्रज्वलित  कर सकता  है 
                       हमारा जोश ,हमारी उमंग  से  ही  तो 
                      यह पुनः  उठकर  खड़ा हो सकता है। 
                       फिर  देरी  कि बात कि ,और क्यों ?
                       यह किकर्तव्यविमूढ़   सा मन  क्यों हो  ? 
                      आओ  ! हम  सब मिल-जुल  कर ,
                      अपनी जान से भी  प्यारे  हिन्द  -देश को  ,
                        विकास के सबसे ऊँचे  शिखर पर  ले जाएँ। 
                        शांति ,भाईचारे ,  सर्व -धर्म -सम्मान ,
                         कि  भावना जन-जन  में  जगाएं। 
                          खून  चूसने वाली  ज़हरीली दीमकों ,खटमलों  
                        से निजात दिलवाएं। 
                            हमारा कुछ  फ़र्ज़  है इसके प्रति ,
                           यह हम  भी याद रखें ,
                             और    औरों   को भी  याद दिलवाएं। 
                              यह हमारा  गौरव है ,
                              हमारी  आन-बाण-शान है ,
                              फिर क्यों  ना  इस पर  अपना 
                                तन-मन-धन कुर्बान करें। 
                                 बड़ी फ़िक्र  है  गर हमें अपने  हिन्द की 
                                 तो बेहतर है  इसके लिए  कुछ करें।