मंगलवार, 23 दिसंबर 2014

तेरी याद में ...... (कविता)

              अमर  गायक  स्व. मुहम्मद रफ़ी साहब के  जन्म दिवस  पर विशेष 

                                      

                     

                 तेरी  याद  में। …(  कविता) 

                             तेरी याद  में खोयी है वीणा तेरी ,
                             और सितार  का है मन उदास।
                             हारमोनियम ,तानपुरा ,तबला ,
                            सभी  को है तेरी उँगलियों की आस। 

                            
                             वह स्पर्श,वह  एहसास तेरा ,
                             भुलाये नहीं  भूलता  हमें। 
                             वह  संगत साज़ों की ,
                             वह  रंगत  जज़्बातों की ,
                             वह  स्वर-लहरिओं का जादू ,
                             नहीं भूलता  हमें।  
                             इनमें कुछ बात थी  खास।  


                            कभी   आसमान  सी ऊँची ,
                            कभी  सागर सी गहरी ,
                           कब ही   नदी  सी चंचल ,
                           और कभी  सहज ठहरी। 
                           उस तान में डूब जाने का  ,
                           अब भी होता है आभास।

                           वह  तेरी शहद से मीठी आवाज़,
                           और  आवाज़  में कशिश व् जादू ,
                            वह हुस्न  तेरी अदाएगी  का,
                           और दिलकश अंदाज़ का जादू ,
                            सुनकर  लगता है   जिसे अब भी ,
                             तू है हमारे  आस-पास। 


                           तेरी  हर ख़ुशी ,हर गम  में ,
                           तेरी ज़िंदगी के हर गाम  में ,
                           हम रहे तेरे सहयोगी ,
                            मगर अब तेरे बिना ता -उम्र ,
                             के  बनगए हैं  रोगी। 
                           अब कौन बिठाये हमें अपने पास। 


                           हर  एक शय ,हर  पल ,
                           तेरा  इंतज़ार है अब भी ,
                           मालूम   है  तू नहीं आएगा ,
                           मगर फिर भी। 
                           जाने क्यों  हमें तेरे आने की है आस। 


                           बड़ा   याद  आये तेरा  मुस्काना ,
                            प्यार से  हमें देखकर ,
                           हाय ! भुलाये नहीं भूलता  ,तेरा दुलारना ,
                             हमें  बाँहों में लेकर। 
                            खुद हमारे तन से धूल   झाड़ना ,
                           पोछना ,  करीने से रखना ,
                            ढककर  ,संभालकर ,
                            कौन   करे  अब हमारी संभाल ?
                            तेरी वियोग अनाथ  हो गए तेरे साज़। 


                           हमारा जीवन  हुआ था  सार्थक ,
                           तेरे सानिध्य  में  आकर ,
                           तुझसे  ही  मिला हमें सम्मान ,
                           बेशुमार प्यार ,तुझे  पाकर। 
                           ओ हमराही ,ओ हमजोली ,
                            हम तेरे  सच्चे दोस्त  थे खास। 

                           
                            यूँ तो  तेरे  प्रेमी ,तेरे आशिक़ ,  तेरे पुजारी ,
                             पहले भी थे  और अब भी है और रहेंगे। 
                              तुझे  हद से ज़यदा  प्यार करते हैं ,
                             और  ता -क़यामत  तक करते रहेंगे। 
                              मगर अपने कद्रदानों  में  हमें ना भूलना ,
                             तुझे  ऐ   आवाज़  के जादूगर , ऐ  स्वर -सम्राट ,
                             हम जीवन -भर ना  भूलेंगे। 
                             हमारे नज़र में   तुम   हमेशा  रहोगे  खासम -ख़ास।    
                             
                                 
                               
                                       

रविवार, 21 दिसंबर 2014

हमें गर तुम्हारा सहारा न मिलता (भजन )

                                       भजन 

                    हमें  गर  तुम्हारा  सहारा  न मिलता  (भजन )

                     

                    

                                 हमें   गर तुम्हारा  सहारा  ना मिलता। । ,
                                 तो हम  बेसहारों  का क्या हाल होता।     
                                मेरे   सतगुरु  ! तेरी  रहमत  ना होती ,
                               तूफान  में कश्ती को किनारा ना मिलता      


                               ओ मालिक ओ करतार ओ दाता  हमारे,.। . 
                               हमारे हमनवां , तुम हमसफ़र   हमारे ,. । 
                              भटका  ही करते  चौरासी के चक्कर में ,
                             हमारी रूह  को  रहबर तुमसा ना मिलता। 


                             इस  कुदरत के हसीं  नज़ारे  है  तुम्हारे। ,
                             यह चाँद-सूरज और सितारे भी तुम्हारे।  
                            तरसती ही रहती  यह धरती  सदियों ,
                            गर इसे  तुझसा तारणहार न मिलता। 

                          
                            देकर   भक्ति -दान  हमपर किया उपकार। 
                           अपनी कृपा से  तूमने लुटाया अमूल्य प्यार। ,
                           नाचा ही करते सदा हम  माया के इशारों पर , 
                           गर  हमें  तुमसा  हिफ़ाज़तगार  ना मिलता।  

गुरुवार, 18 दिसंबर 2014

kash ! tum na jate school (kavita)

                            पेशावर  के बाल-हत्याकांड मैं शहीद  हुए  नन्हे शहीदों  की माओं की व्यथा
                                                           

                                      

                                काश ! तुम ना जाते स्कूल (कविता)


                                                 ऐ  मेरे लाल  !
                                                 मेरे कलेजे  के टुकड़े ! 
                                                 काश !   तुम ना जाते  स्कूल। 
                                                 लौट  आते कैसे भी ,
                                                 किसी भी  कारण से ,
                                               कहते   माँ  ! मैं कुछ गया  हूँ भूल। 
                                                झूठ  बोलकर , बहाना बनाकर ,
                                                या   कोई ज़िद पकड़कर ,कह देते ,
                                                 माँ ! आज मुझे नहीं जाना  स्कूल !
                                                 तुम्हारा  तो मन नहीं था ,
                                                और तुमने मुझसे कहा  भी था। 
                                                 मगर तुमनेजिद क्यों नहीं की  
                                                 क्यों मेरा  कहा मान तुम चले गए स्कूल। 
                                                  काश ! तुम ज़िद करते ,
                                                  रोते -बिलखते , 
                                                   कोई भी बहाना  करते ,
                                                    तो मैं  तुम्हें ना भेजती स्कूल। 
                                                     मगर   क्या करूँ मैं ,
                                                     बड़ी बेबस थी  मैं  ,
                                                      तुम्हारी तालीम में  कोई हर्ज़ा  ना रहे ,
                                                      कामयाबी  की  रफ़्तार  से तू पीछे ना रहे। 
                                                      मेरे बच्चे ! तभी भेजा मैने तुम्हें स्कूल। 
                                                      मगर   मैं गलत थी ,
                                                     अनहोनी  से अनजान थी ,
                                                     वरना  मेरे लाल  ! मैं तुम्हें ना भेजती स्कूल। 
                                                      काश ! मुझे  पता होता ,
                                                     कुछ ज़रा  सा भी अंदेशा  होता। 
                                                      शिक्षा का  मंदिर नहीं ,
                                                      अधर्मियों ,आतंकियों  का डेरा   बनने वाला है स्कूल। 
                                                      तो मेरी  गोद  यूँ  सुनी   ना होती ,
                                                      मेरी आँखें भी  अश्कों  से भरी ना होती ,
                                                      ना ही  उम्र का पश्चाताप  होता ,
                                                      की  मैने क्यों  भेजा आपने लाडले  को स्कूल। 
                                                      आज सुभह ही तो नहला-धुला कर ,
                                                       सजा-संवार कर काला  टिका  लगाकर ,
                                                      बड़े   लाड से ,मनुहार से  तुन्हें भेजा था स्कूल। 
                                                       चॉकलेट -टॉफी का  लालच देकर ,
                                                       बढ़िया से लंच  का वायदा कर,
                                                        तुम्हारे   पिता तुम्हें छोड़ने गए थे स्कूल। 
                                                        मगर हाय  मेरा  भाग्य लूटा ,
                                                         मेरे घर -संसार को  किसने  लूटा ,
                                                         कर दिया किसने मेरे जीवन में  अन्धेरा। 
                                                         हँसता  -खेलता  गया  था तू ,
                                                        फिर ताबूत में  क्यों लौटा तू।  
                                                         किस   वहशी ,हत्यारे ,  दानव ने  गोलिओं से ,
                                                         छलनी  किया मेरे  कलेजे  के टुकड़े को। 
                                                          मेरे  भोले -भले,मासूम  से नूर-ऐ- चश्म को 
                                                          जिसने भी बेदर्दी   से बुझाया  ,
                                                          उसे   खुदा  जहन्नुम   रसीद  करे।  
                                                         यह एक दुखी , संतप्त  ,माँ की  बददुआ  है. 
                                                          और यदि  इन सियासत दारों  ने 
                                                         हम माओं  साथ  नहीं किया इन्साफ ,
                                                         नहीं  करेंगे हम उन्हें अपने लाडलों का   खून माफ़। 
                                                          और ना ही कोई  माँ  अपने नौनिहालों  को भेजेगी स्कूल।  
                                                           हाय  !  क्या ही अच्छा होता ,
                                                           मैं ना भेजती  तुम्हें स्कूल।      
                                                 

 




                              

बुधवार, 17 दिसंबर 2014

sun ae pakistan (kavita)

                         सुन  ऐ पाकिस्तान ! (कविता)    

                          

                             मिटा डाला  तूने खुद  ही अपने  हाथों  ,
                             अपने वतन के  फूलों / मुस्तकबिल को। 
                             यह  राह  तो  तूने  खुद है  चुनी।  
                    
                             हम  तो  करते  रहे  आगाह  तुझे  ,
                             डराया ,धमकाया ,समझाया तुझे ,
                              मगर तूने हमारी एक ना सुनी। 

                         
                             हम तो  बरसो  से भुगत  रहे हैं. 
                             तेरी  लगायी आग मैं   जल रहे हैं ,
                            आज तेरी  खुशियां है भुनी। 


                             अमन और प्यार  की  तू सिर्फ बातें करता है ,
                             मगर  धोखे  से पीठ पीछे छुरा घोंपता है। 
                             यह सबक है तेरा गर तूने हमारी ना मानी। 


                            तू है  तो  भारत माँ की बिगड़ी हुई  संतान ही। 
                            अलग होकर भी जो करता रहा है परेशान ही। 
                             तेरी  नियत में   नहीं शराफत औ कद्र्दानी। 


                              सुन रे  पाकिस्तान  ! अब तो हो जा ख़बरदार ,
                              ज़हन में बिठा  ले मासूमो की चीख औ पुकार। 
                              थाम ले  हमारा  दामन और छोड़ दे मनमानी। 

                           
                              गर   तू साथ दे सच्चे मन से हमारा ,
                               हर मसला  हल   कर लेंगे। 
                              मिटाकर दहशतगर्दी  जहाँ से ,
                              अमन,प्यार व् भाईचारा कायम करेंगे
                               ना चलने देंगे  आतंकवादियों की नाफरमानी।  
                             
                               

                                                 

                                   

सोमवार, 15 दिसंबर 2014

yahi saty hai ,tumhein badalna hoga !.......... ( kavita )

                   तुम्हें बदलना होगा ! .......  (  कविता) 

                         

                             यह  कठोर  सत्य  है , 
                             तुझे  स्वीकारना  होगा। 
                             जग  में  होती शक्ति की पूजा ,
                             तुझे  अब शक्ति  बनना होगा। 
                              हे   नारी ! तुझे  बदलना  होगा। …। 



                             तुझे  गर घूँघट  नहीं गवारा ,
                              तो  लिबास  में शालीनता हो। 
                             आँखों  में  ओजस्वी   तेज और 
                             मुख  पर भाव गंभीरता का  हो। 
                             रानी  लक्ष्मी बाई की  तरह  ही 
                             दुनिया के  जंग-ऐ -मैदान में उतारना होगा। 
                             ऐ नारी। ……। 

                            
                                लज्जा ,संकोच व् मर्यादा  का ,
                               क्या केवल  तूने उठाया है  बीड़ा। 
                               जो है  पापी ,तेरे अपराधी,   ,
                               वही क्यों   ना सहे  अब पीड़ा। 
                              इन दरिंदों का सर कुचलना होगा। 
                              ऐ  नारी। ……। 

                          तेरे जीवन  पर अधिकार  है ,सिर्फ तेरा ,
                          नर   के  समान ही बराबर स्थान है तेरा।
                          घुट-घुट  के जीना  छोड़ दे  अब तकरार कर ,
                          फिर  देख  यह सारा संसार  है  तेरा। 
                         आत्म -विश्वास की लौ को  ओर बढ़ाना  होगा। 
                            ऐ  नारी। …… 
                     
                         रिश्तों  की औ मानवता की मर्यादा,
                         भूल  चुके  है  जो  हैवान। 
                         धरती  पर  भारी  बोझ  के समान ,ये ,
                         हैं  तेरी  शक्ति से अनजान। 
                         इनका समूल  मिटाने को हे दुर्गे !
                          तुझे  महाकाली  बनना होगा। 
                         ऐ  नारी। …… 
                           
                           
                            
                               

सोमवार, 1 दिसंबर 2014

gam-e-yaar ( gazal)

                                गम- ऐ -यार   (   ग़ज़ल) 

                      
                     अश्क़ों   से हो गयी  है  मुहोबत  इस कदर ,
                     ज़ख्म  नया ढूढ़ते  है  एहतराम  के लिए। 

                     दिल  का क्या है यह तो टुटा करे है यूँही ,
                     सर्द  आहें  हैं  चाक दामन  सीने  के लिए। 

                       
                   इसके बिना  तो सूने   हैं  मेरे  शामो-सहर ,
                   कोई न कोई गम तो चाहिए जीने के लिए.

                
                   रफ़ीक तो मिले नहीं इस सारे  जहाँ में ,
                   रक़ीबों का एहसान लेते हैं बहलने के लिए। 

                  
                    हाशिये  में मुस्तकबिल के  खड़ी है अनु ,
                   औ  रो रही है अब भी अपने माज़ी के लिए। 

                    ना  खुदा  है  गीला है न शिकवा जहाँ से ,
                    अब तड़पना  छोड़ दिया  तक़दीर  के लिए। 

शुक्रवार, 7 नवंबर 2014

jivan ka mulyankan (kavita )

                            जीवन का मूल्यांकन   (कविता) 

                               
                                    जो   बीत   गयी , 
                                     सो बात  गयी। 
                                  बीते हुए कल को  मुड़कर  क्या देखना। 

                                 क्या  पाया   क्या   खोया  ,
                                पाकर  भी  कभी खो दिया। 
                               शेष जो भी रह गया ,मूल्यांकन क्या करना। 

                                हाँ ! देखे तो थे कुछ सपने ,
                               क्या  वह  थे  कभी  अपने। 
                               शीशे   ही तो थे टूट गए ,टूटने पर  क्या रोना। 

                               
                                एक   धोखा  ही तो है   वह ,
                               रूठकर  चली जाती है जो। 
                              उस बेवफा  ख़ुशी  के जाने का गम क्या करना। 


                               एक गम की दौलत है  पास  अब ,
                               जी भरकर  लूटा गया  मेरा   रब। 
                               मुझे तो  इसी गम से अब उम्र-भर  निभाना। 

                           
                              क्यों पाली थी  बेशुमार  हसरतें ,
                              क्यों की  बेवजह  बेकार उम्मीदें ,
                              ना मुमकिन है  इस  जहां  में  इनका  साकार  होना. 
                               
                             
                              खिलौना  समझा  हमें सदा  उसने ,
                              कठपुतली   सा नचाया सदा  उसने ,
                              नियति है मानव -जीवन की यही ,फिर  गिला क्या करना।        

मंगलवार, 4 नवंबर 2014

AAO BACHHO (KAVITA )



                                    बाल -दिवस  पर विशेष 

                                          

                                आओ   बच्चो !  (कविता) 


                        आओ   बच्चो  ,आओ  !
                                 तुम्हें  माँ  भारती  है पुकारती।
                                 देखो   ! कितनी आशा से  ,
                                  तुम्हें  है निहारती।

                                 स्वच्छ  करना  है  तुम्हें
                                 इस धरती  का  कोना- कोना।
                                 यह  सारा नीला आकाश और
                                 धरती  का  हरा   बिछोना।
                              क्योंकि   स्वछता ही समृद्धि  है लाती।

                              स्वच्छ  करना   है तुम्हें  ,
                              यह पूरा  मानव-समाज।
                             तोड़ने  होंगे सभी सादे-गले,                                 
                              पुराने  खोखले रिवाज़।
                          क्योंकि  तोड़कर ही कोई नयी चीज़ है बनती।

                          स्वच्छ  करनी  है तुम्हें ,
                          जन -जन की  विचार धारा।
                          उच्च चरित्र,उच्च आदर्श युक्त ,
                         संस्कारो की  शीतल धारा।
                     क्योंकि उदार ह्रदय से ही संस्कृति है आती।
                 
                         तुम हो  देश का भविष्य, बच्चो !
                        तुम ही तो हो  इसके  करणधार।
                        तुम ही हो  कल के शासक और
                        संरकृति -सभ्यता के प्राण आधार।
                  माता तुम्हें तुम्हारे  कर्तव्यों  का बोध है कराती।
                     
                        बापू   के सपनो को साकार करो।
                       माँ  भारती  को अब ना निराश करो।
                      लहू  से सींचा जिस  को शहीदो ने ,
                      उस चमन  को अब गुलज़ार करो।
               बड़ी देर  माँ भारती  तम्हारी बात है जोहती।
                   आओ बच्चो। .......
     

सोमवार, 6 अक्तूबर 2014

jam abhi baqi hai ..... (gazal)

                            ज़िंदगी  का प्याला   (ग़ज़ल ) 

                       इस  जिस्त  के प्याले  में  वैसे बचा  ही क्या है ,कुछ नहीं ,
                      मगर मेरे रफीक कहते है  अभी  तो  उम्र पड़ी है  बाक़ी।
                     
                      
                       
                       तमाम अरमान  लिए दिल  जल-जल कर खाक हो गया,
                       राख में  दबी  हुई  सुलगती चिंगारी  अब   भी  है बाक़ी। 


                       आसमान  कोई नज़र नहीं आता कैसे फैलायुं  पंख ,अपने ,
                        कश्मकश  है फिर भी  उड़ने को,होंसले  अब  भी है बाक़ी। 

                       
                       क़दम मेरे थक चुके हैं  मंज़िल का निशाँ तलाशते ,
                       मगर उम्मीद  का  दामन हाथों में अब भी है बाक़ी। 


                      तक़दीर ने  लाकर खड़ा  किया  हमेशा  दोराहे पर मुझे ,
                     अपना मुस्तकबिल  संवारने का हुनर अब भी है बाक़ी 
                    
                      वक़्त का कारवां कभी किसी के रोकने से रुका है न रुकेगा ,
                      मगर हर मुश्किलात मैं अपनों का साथ अब भी है बाक़ी। 


                      खुदा  के इम्तेहान ख़त्म नहीं होते  ना मेरी हिम्मत ,
                      उस परवरदिगार पर रूह का  यकीं अब भी  है बाक़ी।   
                       
                      
                     

बुधवार, 1 अक्तूबर 2014

shardhanjali (MAHATMA GANDHI /LAL BAHADUR SHASTRI JI )

                     महात्मा गांधी जी और शास्त्री जी  को 

                            श्रद्धांजली    (कविता_) 

                          


                                    धन्य  हुई यह  भारत -भूमि ,
                                   जिसमें दो रत्नो ने लिया जन्म। 
                                 एक गांधी जी और दूसरे शास्त्री जी ,
                                 जिनको  हमारा  शत-शत नमन। 


                                  सादा   जीवन  उच्च विचार।
                                  मीठी   वाणी व् शुद्ध आचार।  
                                 प्रेम ,करुणा ,दया , विनम्रता के ,
                                 पुष्पों  से सजाया यह  चमन। 


                                 उनके आदर्श ,उनकी शिक्षायें । 
                                 मूलयवान है उनकी दीक्षायें । 
                                 गर  अपनाएं जीवन में  अपने ,
                                 जो धन्य हो जाये हमारा जीवन। 


                                 देकर लहू अपना उन्होंने। 
                                 अपना सर्वस्व भी उन्होंने। 
                                भारत -भूमि को सिंचित करके  ,
                                त्याग/बलिदान का दिया उदहारण। 


                               
                                   विश्व  के इतिहास में स्वर्णाक्षरोंसे  
                                   भारत-वासियों के  ह्रदय -पटल  पे ,
                                   लिखा  रहेगा युगों-युगों  तक उनका नाम ,
                                   जब-तक  है  यह नील -गगन।  
                                   
                                  
                              
                               

मंगलवार, 30 सितंबर 2014

kahan ho bapu ! (kavita)

                     गांधी   जयंती  पर विशेष कविता
                        
                            

                                कहाँ  हो बापू  ! 
                        हाथ  जोड़कर  करती  है  ,
                         भारतमाता ये फ़रियाद। 
                         कहाँ  हो  बापू की  मुझे ,
                         आ रही  है तुम्हारी याद। 


                          तुम  गया  जबसे  हे  बापू !,
                          मेरा भाग्य मुझसे रूठ गया। 
                         पहले  गैरों  ने लूटा  मुझको  ,
                          अब अपना ही  लूट  गया। 

                          कितनी महा-मारियों  से ग्रस्त हूँ ,
                           नाम किस-किस केगिनवायुं । 
                          मैं  बहुत दुखी हूँ  प्यारे  बापू !
                          अपने  ज़ख्म  कैसे  दिखलायुं। 

                           मेरे  अंग-भंग का गम  लेकर ,
                            तुम तो  जहाँ  से चले गये. 
                            और तुम्हारे जाने के बाद ,
                             कई अरमान दिल में रह गए। 

                             तुमने  जो देखे थे सपने ,
                             मेरे विकास व् खुशहाली के। 
                             वो तो न पुरे हुए एक भी ,
                             वक़्त गुज़ार रहीं हूँ बदहाली के. 

                             महंगाई  व् भ्रष्टाचार से ,
                             आम जनता  हो रही पस्त  
                             उस पर हिंसा ,आगजनी से ,
                             आतंक छाया है ज़बरदस्त। 

                            रह -रह कर बैचैन करती हैं ,
                             बेबस /कमज़ोर लोगों की चीखें। 
                             आलम   यह है  की हर सु  मुझे ,
                            बस उनके  अश्क़  ही  दिखें। 

                              हे बापू ! क्या कहूँ मैं  तुम्हें ,
                              मेरी बेटीओं का दर्द नहीं सहा जाता। 
                              उनके  ज़ख्म ,उनकी आहें औ  
                              उनका  फटा आँचल नहीं देखा जाता। 

                               मेरी फरियाद सुनो   बापू !
                               बस  एक बार  तो लौट  आओ। 
                                मेरे भाग्य-विधाता ,हे पिता ! 
                               बिगड़ी  मेरी  संवार  जाओ। 

                                खुद नहीं आ सकते गर तुम ,
                                तो बस इतनी कृपा ही कर दो। 
                                तुम्हारी  मातृभूमि से ही जन्में है ,
                                श्री नरेंद्र मोदी जी ,सच्चे युगपुरुष ,
                                 उनमें अपनी शक्ति का संचार कर दो। 
                                 

                                   

शनिवार, 27 सितंबर 2014

fatkaar (kavita )

                                      सड़क -हादसों  पर  विशेष  एक कविता 

                                              फटकार  

                                 
                                     उनकी  सिसकियों  की  आहट  ,
                                     तुम्हें क्या  सुनाई दी होगी ?
                                    कुचल  कर चल दिए तुम जिसे 
                                     अपनी  शानदार मोटर  तले ,
                                     उनकी  दर्द भरी  चीखें भी ,
                                      सुनाई न दी होंगी। 
                                      
                                     अमीरी  के  नशे में  डूबे ,
                                      अरे  बड़े बाप  की  औलादो !
                                      दौलत  से खरीदना चाहते हो ,
                                      तुम किसी  बेबस  की  जुबां ,
                                      बहुत बड़े  व्यवसायी हो !
                                      लौटा  सकते हो  उनका अपना ,
                                      तो लौटा दो। 
                            
                                      मोटर  तले  तुमने जिसे   ,
                                       बेदर्दी  से  कुचला। 
                                      वह भी तुम्हारी  थे  इंसान।  
                                      घर से निकले थे  पूरा करने  अपने  सपने ,
                                      थे उनके  भी कुछ  अरमान। 
                                      क्षण  भर  में   तड़प-तड़प के ,
                                      उसका  प्राण  निकला। 

                                        हाय !  तुमने  एक बार भी ना सोचा ,
                                        की तुम्हारी दीवानगी में  बर्बाद हो गया ,
                                       किसी का आशियाना। 
                                        किसी  की  लाठी ,
                                        किसी का आसरा ,
                                        किसी क सुहाग ,
                                        और किसी का आश्रय था ,
                                         वह अंजाना। 
                                        करता होगा कोई घर पर ,
                                       उसका  इंतेज़ार। 
                                        हाय  !  तुमने  ना  जाना। 

                                        
                                        अपने  से  उठकर  कभी  किसी  
                                        और के बारे मैं भी सोच लिया करो।  
                                         सड़क  पर  बेतहाशा  मोटर  दौड़ाना वालो ,
                                        कभी पैदल  यात्रिओं  का भी ख्याल 
                                         कर लिया करो। 
                                        आखिर यह  सड़क है  सबकी ,
                                          किसी के बाप की  जागीर नहीं. 
                                         सड़क -कानून  बना है  जन-जन  के हित 
                                        केलिए। 
                                         इसको   तोड़ना तुम्हारा अधिकार नहीं. 
                                        
                                        
                                         
                                                   

शुक्रवार, 26 सितंबर 2014

rang badalte insaan /girgit (KAVITA)

                रंग  बदलते  इंसान /गिरगिट  (कविता)

                    

                 जाने  किस तरह  एक इंसान ,
                 रूप  लेता  है  अपना  बदल। 
                 माहिर है वो  इस  कला  में ,
                 गिरगिट में है इतनी अक्ल !  

                 कुछ  समय पहले जो  शख्स ,
                ज़ुबान से  ज़हर रहा था उगल। 
                 अब देखो तो  उसी के मुख से ,
                 झर रहे हैं किस कदर  फूल। 


                  मौसम  की तरह से ही  जो ,
                  लेता  है अपने मिज़ाज़  बदल। 
                  है  यह प्रपंची ,छलिया  अवश्य ,
                 सदा  करता है  अपनों से ही छल। 

                 अचंभित   हो जाते होंगे तुम भी ,
                 दबाकर दांतों  तले अपनी उंगल। 
                 कैसे  समझते  होंगे  तुम हे प्रभु ! ,
                 तुम  हो भोले ,निष्कपट ,निश्छल। 

                 
               रचना   की  तुमने सम्पूर्ण सृष्टि की ,
               असंख्य जीव-जंतु , नर ,जल- थल। 
               नर को  बनाकर पृथ्वी का अधिपति ,
               उसे  दे दी  अत्यधिक बुद्धि व् बल। 

               अब  दे ही दी है  इतनी बुद्धि व् बल ,
               अब तुम  खुद ही इससे  निबटो ,
                फैला रखा  भयंकर मायाजाल कपटी ने ,
               सर्वबुद्धिशाली हो तुम इस जाल को काटो।  
                


                
                  

शनिवार, 20 सितंबर 2014

shubh janam divas mubarak ...... (kavita)

             पंचम  पातशाही  श्री  सद्गुरु  दाता दयाल श्री  गुरु महाराज के                                                                         शुभ   जनम-दिवस पर विशेष            

                शुभ जन्म  दिवस  …।  (कविता) 


                           लेकर  अवतार पृथ्वी  पर ,
                          तुमने  किया हमें निहाल। 
                          शुभ जन्म दिवस  मुबारक हो ,
                          आपको  सद्गुरु  श्री  दाता दयाल। 
                         भवसागर में  फंसी थी  जीवन-नय्या ,
                          तुमने  आकर दिया निकाल। 

                         हम  कैसे न करें तुमसे  प्यार ,
                        तुम हो  जानी-जान पिता  हमारे। 
                        दूर  हों  या पास ,कहीं भी हों ,
                         तुम सदा  रखते हो  हमारा ख्याल। 
                        

                         तुम हो  सखा  हमारे सद्गुरु !
                         हमराज़ भी ,हम राह भी। 
                          भटक न जाएँ भक्ति -पथ से ,
                        तुम करते हो सदा हमारी संभाल। 

                         
                          चारों   धाम का पुण्य  हो  ,
                         या   स्वर्ग  का ऐश्वर्य  हो ,
                         सब  कुछ  है तुम्हारे चरणो  में। 
                          भक्ति-मुक्ति -शक्ति का  ,
                           दे दो  वरदान  ,हे प्रभु ! 
                         दासन दास  पड़ा  है तुम्हारे चरणो में। 
                            करके  अपनी कृपा -वृष्टि ,
                            कर दो  हमें निहाल।     
                           लेकर। .......