शुक्रवार, 11 अक्तूबर 2013

chai ki pyali (kavita)

                              चाय की   प्याली   (   कविता) 


                                                            जिसके   बिना   है  हर सुभह  अधूरी ,
                                                            जिसके बिना  हर  शाम अधूरी ,
                                                            जिसके बिना  जिंदगी की  हर  शय  अधूरी ,                         घर में  ना   हो  घरवाली ,
                                                   या   ना हो  चीनी  और चायपति ,
                                               तो   रह गयी फिर मेहमान नवाजी  अधूरी। 
                                             मौसम  चाहे कोई हो ,
                                            कारण   चाहे कोई हो ,
                                            ख़ुशी  हो या गम हो ,
                                            पीने  वाले को बस पीने का बहाना  चाहिये. 
                                           उसी तरह  चाय प्रेमी  को बस  ,
                                             एक कप चाय का प्याला  चाहिये. 
                                             कोई मेजबान  ,खाने को  भले  ही ना पूछे ,
                                             पानी  या   कोल्ड-ड्रिक  पूछे  या ना पूछे ,
                                             मगर  वोह   चाय के लिए ज़रूर पूछे ,
                                            गर वोह ना  पूछे !  तो समझो ,
                                             वोह  मेहमान -नवाजी में  फेल। 
                                              बड़ा बेदर्द ,कंजूस और सिरफिरा  है वोह शख्स  
                                               हमारे लिए :  जो  हमें चाय को  ना पूछे ,
                                              एक कप प्याले  का ही तो   सवाल था ,
                                              कोई   दुनिया की जागीर  तो  चाही नहीं थी। 
                                                ना ही आसमान  से तारे  तोडके  लाने को कहा था. 
                                                किसी की  जिंदगी  तो मांगी नहीं थी।  
                                                भले  ही कोई  चीनी  ना  भी डाले,
                                                  बस !  एक चम्मच  अपना प्यार  ही घोले  के देदे। 
                                                   कोई  ले ले  बेशक  हमारी  सारी   धन दौलत। 
                                                  बस  एक  गरम-गरम   चाय का  कड़क प्याला देदे। 
                                                  चाय  नहीं है  ज़हर ,
                                                  है यह भी  सेहद के लिए  अच्छी चीज़। 
                                                   डोक्टर  भी अब मानते है.
                                                  चाय से   दूर  होती है हर बिमारी। 
                                                  है यह सर्वथा   लाभ करी ,
                                                   मूड ख़राब को ,तनाव  हो  ,
                                                  सर्दी-जुखाम  हो , थकान  हो ,
                                                   बुखार  हो  या सर दर्द   भारी। 
                                                    चाय  तो राम -बाण  ओषधि  हमारी। 
                                                    हम  तो क़सम  से  चाय का दामन  कभी  नहीं छोड़ेंगे। 
                                                     है   यह  हमें   जिंदगी से प्यारी। 
                                                     मर भी   जाएँ गर  तो गंगा जल के बदले ,
                                                     चाय  का एक प्याला ही  मुंह  में  डलवाएंगे। 
                                                      हम तो इसी के लिए  जियेंगे ,
                                                    और इसी के लिए मर जायेंगे। 
                                                       हमें तो   सारे जहाँ से  है  प्यारी। 
                                                       हमारी  चाय  की  प्याली।  

बुधवार, 9 अक्तूबर 2013

daag ! ( gazal)

                            दाग  (  ग़ज़ल) 


                         तू    है  मेरी  बदनसीबी  का  दाग ,
                         जो  मेरे  दामन   पर है लगा।                                                

                        तू   है  मेरी  राह  का पत्थर ,
                        जो मेरे  क़दमों  को  है रोकता। 
                         
                      तेरे  ख़यालात ,नजरिया औ ज़ज्बात ,
                      एक मकबरे  से  कम नहीं  लगता। 

                      तेरी   बातें  है ज़हर  में  डूबे   तीर ,
                      जिसने  हमें  सदा  घायल  है किया। 

                     तेरा  साथ  है  जैसे काँटों से भरा  जाल,
                    पल-पल  जो नश्तर की तरह है  चुभता। 

                   पहले  तो फ़रिश्ता   फिर  शैतान  ,  वाह !
                    किस  तरह  एक इंसान रूप है बदलता। 

                  पूरी  तरह ज़ख़्मी हुए दिल दे   उठते है सवाल, 
                  क्यों  कर कोई  किसी की नज़रों से  है  गिरता। 

                 अब  तो  खुदा से  हमारी  एक ही  गुजारिश है ,
                  या तो  मौत देदे या दे  कोई रिहाई  का    रास्ता।                                
       

AAH ( GAZAL)

                                 आहें   (   ग़ज़ल )  


                         दिल  के टूटने  की  माना  कोई  आवाज़   नहीं होती ,
                        मगर  टूट  जाते हैं  आशियाँ किसी की सर्द आहों  से.

                       किसी  को रोंद कर  क़दमो  तले  सर उठाते हैं गुमान से ,
                       कभी   उनके  भी निशाँ  मिट जाया  करते हैं राहों से।  

                       गुनाहगार  को  कब एहसास होता है अपने गुनाहों का !,
                       वक़्त आने पर मगर बच  नहीं पता  खुदा की निगाहों से। 

                       खून  का घूंट  पीते हुए जो रोते  हैं मासूम ; तन्हाईयों  में,
                       वोह  रहमतगार  रहमत  बख्शता  है अपनी पनाहों से। 
 
                        मैं  भी  खड़ी  हूँ  उसके दर पर  फैलाकर अपना  दामन ,
                        है मुझे भी  उम्मीद  की भर देगा वोह इसे अपनी चाहों से। 
                            
                      
                     

शुक्रवार, 4 अक्तूबर 2013

buddhu baksaa aur ham ( hasy-kavita)

                                  बुद्धू  बक्सा  और हम (  हास्य-कविता) 


                                            कहा तो जाता  है  इसे बुद्धू बक्सा ,
                                             मगर वास्तव  में तो  यह बड़ा सयाना  है ,
                                              अपना मायाजाल  फैला कर ,
                                           हमें  किया  इसने  दीवाना  है। 
                                              समझते   हैं  हम  जो  है  इसमें  दिखता  ,
                                                सब   झूठ है ,नाटक  है ,
                                               पर मालूम नहीं  ,ओन  करते  ही इसे ,
                                               बंद  हो जाता  बुद्धि का फाटक  है. 
                                               खुद की समस्याएँ   कोई कम है !
                                                जो  सिमर और रोली  की  समस्याओं में 
                                                  उलझे रहते हैं। 
                                                 खुद  के  दुश्मनों  का  पता नहीं   ,
                                                 क्या चालें  चलते रहते हैं ,
                                                 और हम  आर  के  और मधु  के 
                                                     दुश्मनों  को गालियाँ  निकालते हैं ,
                                                 और यहाँ  तक के  भगवान् से  प्राथना करते  हैं।  
                                                 ''हे भगवान्  ! किसी भी कीमत पर इनकी जोड़ी ना   टूटे। 
                                                  जगया ने  की गंगा  से  शादी ,
                                                 तो  आनंदी  की बड़ी  परेशानी ,
                                                 तो   हमारी  भी  आँखों  की नींद उड़ गयी। 
                                                  मधु  के भविष्य  के बारे में  की 
                                                   आर के  की  पाबो के गुरु जी  ने की। 
                                                            भविष्यवाणी 
                                                  तो भी   हमारी नींद  उड़ गयी। 
                                                        जाने कितने ही बार  हमने 
                                                       अपनी नींदे खराब की ,
                                                    कभी  साची तो ,कभी  प्रिया,
                                                    कभी  इच्छा तो कभी तपस्या ,
                                                      अनगिनित  हैं  यह  बुद्धू -बक्से के  चेनल्स और  उनके कैरेक्टर ,
                                                       ख़त्म हो   जाएगी  जिंदगी ,
                                                      पर ना कभी ख़त्म होगा  इनका चैप्टर। 
                                                      तभी तो ! 
                                                      पीडी  दर पीडी  चलता रहता  है  इसका  
                                                      सिलसिला। 
                                                       '' सास  भी  कभी  बहु थी  ''कसौटी  जिंदगी की ,या
                                                        कहानी घर घर की ,  कसम से ,  या  कुसुम ,
                                                         और  अब   पवित्र रिश्ता ,  .
                                                         यह     सब  हैं  एकता के जलवे ,
                                                         उसका   छाया  है  इस बुद्धू   बक्से  पर
                                                          साम्राज्य।
                                                             'क'   छोड़  दिया तो  क्या !
                                                            स्थापित  तो हो चूका है  ना
                                                            दर्शकों  के दिलों  में   राज्य।
                                                            सारे   चेनल्स  पर है  ''बाला जी ''
                                                                का   डंका  बजता।
                                                            हे भगवान् !
                                                              लो जी !   भगवान्  का नाम लिया तो
                                                              मंदिर  में   नहीं  ,
                                                               चेनल्स  के भगवान्  ध्यान में आ गये.
                                                                कभी  देवो-के देव  महादेव ,कभी श्री कृष्ण ,
                                                                 तो   कभी भक्ति  चेनल्स  के  गुरु देव याद आ गये. .
                                                                    रंग -रंगीले  गुरु देव !
                                                                   रामायण और  महाभारत  अब
                                                                   बच्चा- बच्चा  जानता   है,
                                                                    धर्म-ग्रंथों  ने नहीं ,
                                                                 इस   बुद्धू  बक्से  ने ही   रटाया  है.
                                                                  देश  के इतिहास  के बारे  में ,
                                                                   हमारे  संविधान  के बारे  में ,
                                                                   नहीं  जानते हमारे नोनिहाल,
                                                                   मगर  किस नेता ने  कितने  किये घोटाले ,
                                                                    वोह   सा---भी   जानते है.
                                                                    यह सब किसी   मेहरबानी से ?
                                                                     इस   मीडिया  की वजह से ,
                                                                        बनाम !
                                                                  इस बुद्धू बक्से  की  कृपा  से।
                                                                      कुछ भी  कहो ,यारों !
                                                                    है तो यह कमाल की चीज़।
                                                                     ज़रा सा  हो जाये  आँखों से  ओझल ,
                                                                     तो करते हैं बड़ा  मिस।
                                                                     भोजन  की बात  छोड़ो !
                                                                       हमारी  तो चाय  भी इसके बिना  हजम नहीं होती।
                                                                        नहीं  जुड़ते  कभी  जब इसके  उपग्रह  से  तार ,
                                                                          तो  जिंदगी  की कोई शय  अच्छी  नहीं लगती।
                                                                         लाख  कोशिश  कर ले  ,
                                                                        मगर  इससे दामन  छुड़ा  नहीं सकते।
                                                                         क्योंकि   बिना इसके  हम ,
                                                                             एक पल भी  जी नहीं  सकते।
                                                                            है   यह   ऐसी बला  ,
                                                                             चाहे  जितना हम  इए कोसते हैं।
                                                                              मगर  फिर भी  दोस्तों !
                                                                              हम इसी पर  मरते है।
                                                                              जय हो बुद्धू बक्से की !
                                                                 
                                                       

गुरुवार, 3 अक्तूबर 2013

musafir hai zindgi (gazal)

                                   मुसाफिर   है  जिंदगी  ( ग़ज़ल)  

                                  
                     
                                                                       खो जाती  हूँ   में   ख्यालों   में कहीं ,                                                                                   एक  मुसाफिर भटक जाता हो  जैसे  कहीं। 
              
                                       मंजिल   क्या मिलेगी  गर राह  ही न मिले,
                                       दामन  उलझा  आती हूँ   काँटों  में कहीं। 

                                      उफ़ !ज़हन  की कशमकश औ उलझने ,
                                      में   जी  रहीं   हूँ  घुटन  में  कहीं।    
                   
                                       आहों  से  मेरी किसी को  होती है शिकायत ,
                                       तो  और  किसी को   कोफ़्त  कहीं। 

                                       हर  सु    रहता  है खौफनाक मंज़र  मेरे जानिब ,
                                       वक़्त  गुज़रती हूँ  में   रो-रो  कर  कहीं। 

                                     में   जहाँ   जायुं   जाती  है मेरी  तन्हाई  भी वहीँ, 
                                     बदनसीबी   से गहरा  रिश्ता  है मेरी  जिंदगी का कहीं। 

                                     बांह   पकड़कर  यह  कौन  मुझे  बाहर  ले आया, 
                                     या खुदा  !   कहीं  वोह तुम्हीं  तो   नहीं।