शनिवार, 28 सितंबर 2013

safar (gazal)

                                    सफ़र  (  ग़ज़ल)  

                                ना   अपनी  ख़ुशी से आये , ना अपनी  ख़ुशी से  गए, 
                                 जिंदगी  थी  उन्हीं  की दी हुई वही चलाते गए। 
 
                              जितना  भी  दिया  ,खूब दिया उन्होंने ,
                              उनका दिया  उम्र भर खाते  गाये।  

                              फिर  भी  मांगने  की आदत  थी  हमें  ,
                             जो भी  मांगते रहे वोह देते  ही गए। 

                           मतलब परस्त  थे हम  मिलने  पर खुश हुए ,
                           ना मिला  तो  खुदगर्ज़!  शिकायत  करते गए। 

                           मौत  की ना  की परवाह ,ना ही  जहनुम की,
                          शैतान जिस तरह नचाता  रहा  ,नाचते  हम गये. 

                           जिंदगी  तो ख़त्म  हो गयी ,पर ना ख़त्म हुई हसरते ,
                           इस दौर- ऐ-जूनून में   ज़रूरतों की इन्तेहा नापते गए। 

                         उम्र  के  इस  दौराहे   पर   अब मगर हमें  यह अफ़सोस  है ,
                        दिल लगाया दुनिया-ऐ-फानी से ,क्यों उन्ही को उनसे ना मांग पाए।        

sougaat ( gazal)

                                   सौगात  (  ग़ज़ल)

     
                                      अश्कों   में   ना  डूबी  हो  जो जिंदगी ,
                                      फिर उस जिंदगी  का मज़ा क्या है। 
                       
                                     दर्द  बनकर  ना  उमड़े  जो आँखों से ,
                                      उस  ज़ज्बात  की  ज़रूरत  क्या है। 
       
                                   सर्द  आहों  से  खुश्क  हो   जाएँ  लब ,
                                    पीते  है लहू का घूंट ,वाह  क्या  बात है। 

                                    तनहाईयों   में   ना  जिसको  करार हो ,
                                    महफ़िल  में  बैठा  वह  शायर क्या है। 

                                   खुबसूरत  है  उसकी तरह उसका  गम भी ,
                                   तबस्सुम  के साथ  छलके यह  जादू क्या है. 
                          
                                  जाएँ जब  जहाँ से  कुछ तो पास  हो ,
                                   सिवा  इन सौगातों  के और क्या है। 

बुधवार, 25 सितंबर 2013

nari aur vriksh (KAVITA

                                    नारी  और  वृक्ष  (कविता) 

                                                शास्त्रों   में  है  कहा गया , 
                                                वेद-पुराणो  ने  भी  कहा ,
                                                 ऋषि -मुनि ,साधू -संतो ने भी
                                                 दोहराया  ,
                                                  इस जगत  को हर तरह से
                                                   समझाया। 
                                                   नारी   की  हो  जहाँ  पूजा ,
                                                  नारी को मिले जहाँ  सम्मान ,
                                                  वहां  स्वर्ग होता  है।
                                                  खुशियाँ  ,सुख-समृधि  वही बस्ती है।
                                                   और   जहाँ  हो   वृक्ष  आपार।
                                                    जीवन  वहीँ    साँस लेता है ,
                                                     और   बड़ा  पेड़ ,
                                                      वट-वृक्ष ,
                                                      घर के एक बड़े-बुज़ुर्ग  के सामान होता है ,
                                                       जिसकी  छत्र -छाया  में  बचपन
                                                       किलकारियां  मारता है ,
                                                        आनंद  खिलता है ,
                                                         संस्कृति ,सभ्यता ,संस्कार
                                                         फलीभूत -पुष्पित  होते हैं।
                                                          इसीलिए   नारी  का अपमान ,
                                                          और  वृक्षों   को   काटना  ,
                                                          (  जबकि  वोह हरे भरे  हो   )
                                                           दंडनिये   अपराध  है।
                                                             यह घोर  पाप है।
                                                           मगर  हाय !  यह   लोभी ,  कामी ,
                                                           दुष्ट ,अहंकारी   नर ,
                                                            ईमान  से कितना  गिर चुका  है ,
                                                             वोह   नारी ,प्रकृति  और  वृक्ष का
                                                             मूल्य  ही  नहीं  समझ पा रहा।
                                                               शास्त्रों  में तो  यह भी लिखा है ,
                                                                ''विनाश काले  विपरीत  बुध्ही ''
                                                                 तो  भविष्य  में   होने वाले  प्रलय  को
                                                                 भी   वोह  स्वयं   ही   आमंत्रित  कर रहा  है।
                                                                 यदि   नहीं समझ पा रहा   नारी , प्रकृति और वृक्ष
                                                                  की निस्वार्थ   सेवा  को ,  कोमल भावनायों को ,
                                                                  इनके त्याग  और प्रेम को ,
                                                                    तो निश्चय  ही   अपनी  बर्बादी की
                                                                   खुद हो कब्र  खोद रहा है।     
                                                              
                                                                

रविवार, 22 सितंबर 2013

Taash ke patte ( KAVITA)

                      ताश   के पत्ते  (कविता ) 

                               मनुष्य   के  सपनो   का  अस्तित्व  ही क्या है ?
                               जैसे  हो  कुछ   ताश  के  पत्ते ,
                               कितनी   ही बार   एक -एक  पत्ता  जोड़कर 
                                अपने  सपनो  का महल  बनाता  है इन्सां  ,
                                मगर   उतनी ही  बार   दुर्भाग्य  की हवा  चलती है ,
                                और  सारे  के  सारे   यूँ  बिखर जाते  है ,
                                मनुष्य   फिर प्रयास  करता  है ,
                                फिर एक-एक पत्ते  को जोड़कर  ,
                                 एक दुसरे के साथ  टिका-टिका  कर ,
                               बा-मुश्किल  उन्हें  खड़ा करता  है ,
                                 मगर  यह  क्या ! 
                              सब खिड़की -दरवाज़े बंद किये तब भी ,
                               घर की छोटी -मोटी  चीजों  की दिवार सी  बनायीं ,
                                  तभी  भी। 
                              एक  हलकी  सी हवा  ने ही  सपनो का महल  गिरा  दिया 
                                   और  पत्ते  फिर बिखर गये. 
                                 यह हवा  आखिर  आई कहाँ से !
                                 शायद   यह खुद  के ही  श्वास  थे। 
                                   कारण चाहे कुछ भी हो ,
                                सपनो  के महल ने  टूटना  था ,
                                 सो टूट गया  . 
                                  मगर  यह सिलसिला  कब तक  चलता रहेगा ?
                                   जब तक   यह  जिंदगी  है. 
                                    जब तक है   साँस में साँस। 
                                    जैसे  ही  जिंदगी  ख़त्म  हुई ,
                                      जैसे ही  श्वासों  की डोर  टूटी ,
                                     महल  तो क्या  ,
                                    यह  घर भी  अपना ना  रहा. 
                                     ताश  के पत्ते  मगर  अभी  तक  फर्श पर ,
                                      यूँ ही बिखरे  हुए पड़े रहे. 
                                     क्या   सपनो  का महल  बन सका? 

शनिवार, 21 सितंबर 2013

BAS EK KHAWAB HAI...... (GAZAL)

                                 बस एक ख्वाब है। …. (  ग़ज़ल) 

                         ऐ  खुदा !    तेरी   दुनिया में  मुहोबत  बस एक खवाब है,
                          जिसका   अफसाना   किताबों  के सिवा और कहीं नहीं। 
                       
                        ज़हन  की  कोफ़्त औ  दर्द-ऐ-दिल  को मिटाने वाले,
                         होते है क्या?  इनका ज़िक्र भी  मैने  कभी सुना नहीं। 

                        देखते  हैं अक्सर  खवाब की कोई  आया  हमें थामने,
                        मगर  जब आँख खुली तो  देखा  यहाँ तो कोई भी नहीं। 

                       तन्हाई में  रोते  हैं  अक्सर  हम छुप -छुप  कर यूँ ही ,
                        क्या करें !  हमारे  आंसुओं  के नसीब में दामन जो  नहीं। 

                      सह  लेते  इसपर भी  हर ज़ख्म  हम तेरी कुदरत  का ,
                       मगर मेरी शिकायत  है  तुझसे ,तू क्यों मेरे साथ नहीं।  
                       

शुक्रवार, 20 सितंबर 2013

bhajan

                             सतगुरु  मेरे  दिन-दयाल  (भजन)  


                                  सतगुरु  मेरे  दिन-दयाल ,
                                 दया के सागर ,
                                प्रेम के  आगार ,
                                  नमस्कार  है नमस्कार। ……। 


               १,              सतगुरु   का है  ह्रदय  विशाल, 
                               जैसे  सागर में मोती ,
                                जैसे दीपक में  ज्योति ,
                                वैसे उनमें  स्नेह-आपार ,
                                 नमस्कार  है नमस्कार…… 

               २,             सतगुरु  के  नैनो  में है जादू ,
                               देखें  वोह  जिस   और ,
                               आनंद  हो चारो  और ,
                               चरणों  में उनके  जन्नत  हज़ार ,
                              नमस्कार है नमस्कार… 

                ३,            सतगुरु  के हैं  वचन अनमोल ,
                               पञ्च-रतन  है  जिसमें, 
                                मुक्ति  का भेद  इसमें ,
                                इसे  पाकर  क्यों  न हो  मानुष -जनम- साकार ,
                              नमस्कार है नमस्कार। ……. 

                  ४ ,          सतगुरु की  महिमा  अपरम्पार ,
                                 कलम   से लिखी  न जाये,
                                  जुबान  से  कहीं न जाये ,
                                वोह   हैं  पारब्रह्म  निराकार ,
                                 नमस्कार है नमस्कार। …….  

बुधवार, 18 सितंबर 2013

ishq ( sher )

                                  इश्क   


                       तेरे  इंतज़ार  में  जागती  इन आँखों को  देखा है,
                       अश्क-ऐ- गुहर से भरी महो -अंजुम की नज़रों  ने,
                     और ज़रा सी  आहट  पर तपते फर्श  पर  उरियां पैरों से ,
                      दौड़ते   हुए देखा  है   आफताब  ने ,
     
                       तेरे  लिए  फूलों  की माला  बनाती  घायल उंगलिओं को ,
                      देखा   है बाग़  के  काँटों  ने   भी 
                     मुहोबत  में तेरी  शैदा  हुए  दिल को  मगर ,
                     देखा  नहीं  सिर्फ  तेरी  नज़रो   ने।        
                      

मंगलवार, 17 सितंबर 2013

khat (Gazal)

                                  ख़त  (  ग़ज़ल) 


                                                                        जाने  किसके  ख़त  का  रहता  है  हमें  इंतज़ार ,
                                                                       जानते हैं जबकि की कोई नहीं  जवाब देने वाला।

                                दौड़  पढ़ते  हैं  ज़रा सी  आहट  पर  हम ,
                                जैसे  कोई  पैगाम  हो  आने वाला। 

                           पूछते  फिरते हैं  रफीकों   से की ''ख़त   आया !'',
                           ज़ज्बा  होता है उनकी नज़रों में सवाल  वाला। 

                            उलझन  सी छोड़  देते हैं वोह ज़हन में हमारे, 
                            सरश्के -गम में डूब  जाता है  दिल मतवाला।

                        यह  हमारी  तकदीर का  सितम  नहीं ,तो क्या है? ,
                      की वोह नहीं है जिसकी तलब ने दीवाना बना डाला।      

                                                                             फिर  यह  सोचकर ख़त लिखकर  फाड़ देते हैं, 
                                                                      नहीं  हैं इन  के नसीब में कोई हो इन्हें पढने वाला।   

बुधवार, 11 सितंबर 2013

maa o maa ( kavita)

                             माँ ओ माँ  !   कब  मिलेगा  मुझे  इन्साफ ?

                              ( दामिनी की गुहार भारत माता 


                                        माँ  ओ  माँ ! ,
                                      क्या सुन रही है  तू ,
                                      मेरी  सिसकियों  की आहट। 
                                       क्या देख  रही  है तू ,
                                       मेरी  और  मेरे  स्वजनों की हालत ,
                                        कितना  तड़प  रही   हूँ  मैं ,
                                         क्योंकि  सर से पाव तक  छलनी हूँ मैं। 
                                        आहत   हुआ मेरा  स्वाभिमान, 
                                         टुकड़े टुकड़े  हुआ  मेरा  अरमान, 
                                         तोड़  डाला  मेरा   हर  सपना ,
                                          और मेरे  माता-पिता का भी ,
                                         जो उन्होंने मेरे लिए देखा था। 
                                        बोलो !क्या गुनाह   मैने  किया था?
                                         क्या गुनाह  उन्होंने किया था?
                                     अपनी  होनहार  बेटी  में उन्होंने  ,
                                     अपना आने वाला  कल देखा था ,
                                      मुझमें   अपना सुनहरा भविष्य                                                                                                                      उनका सहारा  बना चाहती थी
                                     जिंदगी  में कुछ बनना  चाहती थी              
                                    और इसी लिए  अपने  लक्ष्य  हेतु ,
                                     अपनी  लगन व्  मेहनत ,
                                     और अपने   माता-पिता  के प्रति  
                                    कर्तव्य  हेतु कटिबद्ध  थी मैं। 
                                    कितनी  सीधी  -सरल  मैं ,
                                  और आईने  सी साफ़ थी जिंदगी  मेरी। 
                                   कभी किसी का बुरा नहीं चाहा ,
                                   तुझे सब पता है ,   ना माँ  !
                                  फिर क्यों हुआ  मेरे साथ यह दुरा चार ?
                                    क्यों  हुआ   पशुयों  जैसा व्यवहार ?
                                  क्या बिगाड़ा  था मैंने उनका ?
                                   मेरा तो कोई दुश्मन  भी नहीं था  . 
                                  फिर यह  दुश्मन कहाँ से आये
                                  मैने तो कभी ना पहुंचाई  किसी को चोट ,
                                 फिर मेरा जिस्म और आत्मा 
                                 क्यों की गयी छलनी ?
                                क्यों माँ  !
                              अब तक तो कोई गम
                                नहीं  था जिंदगी में ,
                                खुदा   को भी बहुत चाहा ,
                              कोई कसर ना छोड़ी  उसकी बंदगी  में।                                                                                                            इसीलिए सुभह से महके हुए                                                                                                                          गुलज़ार सी   यह जिंदगी। 
                               मगर  शाम ढलते  ही  
                              यह मेरी गुलज़ार  सी जिंदगी  
                                बर्बाद हो गयी ,
                               और ना इंसानों  से ,
                                ना ही  खुदा  से  ,
                              मेरी   गुहार भी सुनी ना गयी। 
                            व्यर्थ  हो गयी  सारी  बन्दगी।  
                              नोच -खसोट के ,
                              तोड़ -ताड़ के ,
                               नष्ट -भ्रष्ट   करके  ,
                               छलनी   करके ,
                                 तार -तार  कर मेरा दामन ,                       
                                 चीथड़े  करके  मुझे  सड़क पर यूँ फेंका। 
                               इतनी बेदर्दी ,इतनी बेकद्र                                                                                                                            जैसे मै   कोई इंसान नहीं  ,कोई वस्तु हूँ। 
                          जग तो यह  सारा तब  मेरे हाल पर रोया था. 
                          मेरे   कफ़न  को अपने आंसुओं  से  धोया था. 
                      क्या तब माँ  !  तेरा कलेजा  नहीं फटा था. ?
                   मुझे  देखकर  तेरी ममता ज़रूर रोई होगी। 
                        मगर जानती हूँ मैं ,
                       मेरे  दर्द  से  तू भी कहाँ अनजान   होगी ,
                      मेरी तरह तू भी मजबूर होगी ,लाचार होगी। 
                     तभी तो  अब तक  ना दिलवा पाई  मुझे इन्साफ। 
                      अरे ! जो तेरे ना हुए ,वोह मेरे क्या होंगे। 
                        सुन माँ ! क्या तेरी  सभी बेटियाँ ,
                        यूँ ही  लाचार रहेंगी, मेरी तरह। 
                           कब तक! आखिर  कबतक    !
                          यह जंगल राज सहेंगी  ?
                           कब   इन जंगली  कुत्तों से ,भेडियों से ,
                         अपने आत्म-सम्मान ,लाज ,
                           और जीवन  रक्षा  कर पाएंगी ?      
                          माँ !  हम भी तो इंसान हैं !
                           कानून  और पुलिस -प्रशासन  के   हाथों का 
                          खिलोना कब तक बनी रहेंगी ?
                            कब मिलेगा  मुझे इन्साफ ?
                         कब मिलेगा  हमें इन्साफ ?     
                                       

sada ( GAZAL)

                             सदा   (  ग़ज़ल)


                    लगता   नहीं  है  दिल  मेरा  इस जहाँ में ,       
                   आवाज़  दे कर  पुकार ले  अपने आशियाँ  में। 
                    दुनिया  के  दर्द-ओ-गम से  जी गया है भर,
                    और   बर्दाश्त करें ,इतना  होंसला नहीं  हम में। 
                    किस  मकसद  से भेजा था इस आतिश खाने में,
                   क्यों भेजा  था ?आग लगा आये  अपने दामन में। 
                   लाख कोशिश की  रूह  को  आज़ाद  करने की ,
                   उफ़ !कितनी घुटन है ,सीलन  है इस मकान में। 
                   रो -रो  कर उम्र  गुज़ार दी  तेरे  इंतज़ार में  मैने ,
                    जिंदगी है अब भी बाकी , अश्क भी बाकी हैं ,
                    इन    आँखों  के पैमाने  में।