सोमवार, 29 अप्रैल 2013

ek ladki ! ( kavita)

                               एक   लड़की  (कविता)

                                      हाँ !   मैं    लड़की हूँ , 
                                     तो   क्या  लड़की  होना  गुनाह है  
                                    ऐसा  तुम सोचते हो ,
                                   तुम्हारा  क्या! 
                                     तुम तो दोगले हो .
                                सदा से रहा है  तुम्हारी  ,
                                  कथनी और करनी में फर्क .
                                तुम   दर्शाते   हो  मेरे   लिए  नफरत .
                                 करते हो मेरी उपेक्षा और अपमान  भी  .
                               तभी   तो रोकते  हो  मुझे  तुम,
                                 जन्म    लेने से .
                               मैं    तो अभिशाप  हूँ जैसे तुम्हारे लिये. 
                              और   जो   नवरात्रों   में   देवी पूजा  करते हों ,
                              व्रत   रखते  हो  . 
                              छोटी -छोटी कन्याओं  को बुलाकर  खीर पूरी खिलाना ,
                              तोहफे देना ,
                                क्या है यह ?
                                बस  !  कुछ  दिन की  आव-भगत  !
                               उसके  बाद… 
                               वोह माता  भी  तो लड़की ही है  .
                                उनके लिए तो भक्ति -भाव और  
                              और लड़की के लिए  नफरत .
                            क्यों? 
                                तुम मुझे   बोझ  समझते हो .
                                घर   की चार  -दिवारी  में बंद कर ,
                                 सामाजिक   मर्यादा  का वास्ता देकर ,
                              आजीवन कारावास  दे देते हो  .
                              क्यों ?
                              मुझे ही क्यों  ?  
                             भाई को क्यों  नहीं .
                              क्यों की  वोह लड़का है  ,इसीलिए!  
                               यह   कैसा पक्षपात  है ?
                              दुर्गा   माता  के गुणों  का तो  बखान  .
                              और  मेरे लिए   अबला  होने  फरमान .
                               क्यों ?
                          हाँ!      मैं    लड़की  ज़रूर  हूँ 
                          मगर मुझे  भी   जीने का अधिकार  है. 
                            मैं    क्या पहनूं 
                           और क्या ना पहनूं ,
                          मुझे  कहाँ  जाना  है ,
                           कहाँ  नहीं ,
                         क्या करना है   ,
                          क्या  नहीं .
                        मुझे सोचने  दो .
                       मुझे   मेरे सपने  देखने दो .
                         मुझे   सपने देखने  का पूरा अधिकार है. 
                       मेरे   पैरों   में   बेडियाँ   मत  डालो .
                         मगर  !
                      मगर तुम कहाँ मानते  हो .
                      मैं    सिर्फ   एक लड़की हूँ ,
                        इंसान   नहीं .
                    हर क़दम   यह एहसास   करवाते हो।
                     मैं    लड़की  हूँ  तो   क्या  सार्वजानिक  संपत्ति  हूँ!
                    भोग्या  हूँ  !  
                   नहीं !
                    मगर   तुम्हारी   तंगदिली  ,  कुत्सित  दिमाग  ने ,
                     मुझे  सदा  गलत  आंका .
                      तार  -तार  कर  मेरी  अस्मत  के   दामन  को ,
                     मुझे   भरे   चोराहे    पर   फेंका  .
                    तुम   तो     हो गए  हो  बिलकुल  ,
                    निरंकुश   ,खूंखार   दरिन्दे  की तरह  .
                   जो    आमदा रहता  है  सदा  किसी  भी  
                   खिली -अधखिली  ,मासूम  कली  को 
                  नोचने , खसोटने ,रोंदने ,और  फिर तोड़कर  फाड़कर 
                 फेंकने   में 
              तुम्हारे   अंदर   का   इंसान   मर गया  है   शायद .
               काश !  
                काश  ! तुमने  एक बार  तो सोचा   होता !
                मुझे   मात्र    शरीर  के  बजाये  एक इंसान  समझा  होता .
                 मेरे   वस्त्रों   तो टटोलने  के बजाये  मेरा  ह्रदय   टटोला  होता.  
                मुझमे   है   आत्मा  .
                 मुझमें  है   संस्कार ,सभ्यता  ,  और महान मानवीय   गुणों  का भंडार .
                  मैं   हूँ   एक  विचार .
                   मैं    मात्र   लड़की नहीं  ,
                   मैं एक  सम्पूर्ण  व्यक्तित्व   हूँ .
                   मैं  ही हूँ  वही  महान  विभूतियाँ .
                 जिन्होंने  देश -दुनिया  ,की सभ्यताओं  को  बदला .
                    मुझे   धारण   करते  गर तुम  पुरुष! 
                     तो    पूरण   पुरुष  बन गए  होते .
                    मगर   तुम तो रहे  निरे  पशु के पशु ही .
                   मुझे   बस  शरीर  माना  .
                   नहीं देखा  तुमने  मेरे  चेहरे को .
                    इन आँखों  को ,
                     और उनमें छुपे  सूनेपन को .
                    देखते गर   तो   तुम्हारा  ज़मीर चीत्कार  कर उठता .
                    तुम्हारे  भीतर  भी ज़रूर  कुछ टुटा   होता .
                   मगर  नहीं !  
                    असल  में  तुम ही बस  शरीर  हो .
                   तभी  तुम   दरिन्दे हो .
                    तुम   इंसान   रहे कहाँ  !
                    मगर मैं    एक  इंसान  हूँ .
                   मुझे  फिर भी खुद पर  नाज़ है .
                   हाँ!   मैं    लड़की हूँ !     
                     
            नोट -   एक लड़की  का   रोष  सम्पूर्ण  पुरुष समाज से                 


मंगलवार, 2 अप्रैल 2013

nashtar ( GAZAL)

                                नश्तर   (   ग़ज़ल)  

                
                               जुबान  से   उनकी  निकलते  हैं ,
                               इस  कदर  लफ़्ज़ों   के  नश्तर।
                               लहू   सा  रिसने  लगता  है  और ,
                               दिल  ज़ख्म  से  जाता  है भर .
                                रोक  सकते नहीं  इस  तूफान  को ,
                               क्या करें  हम  बेबस  हैं  मगर .
                               सी  सकते  नहीं  हम भी  लब ,
                                ख़ामोशी  की इन्तेहा  बतादें  गर ,
                               किस   तूफ़ान   को   रोकें  ,
                                और किसे  आने दें  बाहर .
                                छोटी  सी  तो जिंदगी  है यह ,
                               और वोह बैठे  हैं  गिले-शिकवे  लेकर ,
                                यह   तूफान  क्या गुजरेगा ,
                                वक़्त  जायेगा   यूँ ही गुज़र .
                                 इन नश्तरों  को रोक  दो  ,खुदाया !
                                 लहू -लुहान  हो जायेगा  मेरा जिगर .
                                 मुझ में  नहीं  है   हुनर  ,न ही आदत ,
                                 की करूँ मैं    भी  नश्तरों का पलटवार .
                                 क्या करें ! तुमने  ही तो  बनाया  है  मुझे  ,
                                 एक  परवाना  सा ,दीवाना  सा शायर .
                                 अब   तुम्ही    बनो  मेरे निगेहबान , ऐ खुदा! 
                                 गुज़र  जाने  दो  बला ,जाना  चाहे   यह जिधर .