शनिवार, 21 दिसंबर 2013

paesa yeh paesa ( vyang-kavita)

                                  पैसा  यह  पैसा  (   व्यंग -     पैसा  यह 

                                                    पैसे  में   है  भई ! बड़ी  जान। 
                                                      गरीबो  केलिए  यह मज़बूरी ,
                                                और अमीरों  केलिए शान। 
                                         पूछा  मुझसे  किसी ने  एक दिन,
                                                    ''  ऐ  दोस्त ! हमें यह बतलाओ ,
                                           होता है  यह क्यों गोल ?  या फिर  ,
                                                     कागज़  का   हमें  समझाओ '' 
                                           हमने कहा  ''भईआ ! यह तो माया है। 
                                                  गोल   हो या कागज़ कि  बनी यह ,
                                          एक चंचल  छाया है। 
                                                  गोल  है   तभी  तो हो  गतिशील ,
                                              कागज़  के हरे-भरे  नोटों के संग ,
                                                     रहे कभी  हिलमिल। 
                                              दोनों   के दोनों  में  है  कुछ  तो 
                                                        खास  बात। 
                                                इसकी झोली से   उसकी झोली में ,
                                                 उसकी  झोली  से  इसकी झोली में ,
                                                  सफ़र करे  यह लगाकर  घात। 
                                                नहीं   है  इस  माया का  कोई ,
                                                         ठौर -ठिकाना। 
                                                एक  तो मंज़िल नहीं इसकी ,
                                                        जहाँ मिले  सौभाग्य ,
                                                          माँ  लक्ष्मी  के  संकेत  मिले जहाँ ,
                                                     इसने  तो वहीँ  है  डेरा  जमाना। 
                                                        यह  है एक पहेली  ,
                                                      कोई न समझ सका  इसे आज तक। 
                                                      न ही   इसका  कोई राज़ किसी ने है  जाना।  
                                                         मिलना  तो कभी  छप्पर -फाड़ कर ,
                                                        या   खोना  तो   एक पल   में   लुटिया  डुबो  देना। 
                                                         मिलना  और खो जाना  यही तो  इसकी प्रकृति है 
                                                          कभी   तो फाका  खाना  ,
                                                             तो कभी  जीवन   में मस्ती  ही मस्ती है। 
                                                         सब इस माया कि वजह  से। 
                                                            अमीरी  और गरीबी  के  बीच  कि 
                                                                            यही तो खाई  है। 
                                                             मिल जाये यह ईमानदारी  से ,
                                                               ऐसी   तबियत  भी  कहाँ इसने पायी  है। 
                                                              अमीर  नचाये इसे ,
                                                                 और   गरीबो  को  नचाये यह  है  ऐसा। 
                                                                   यह  पैसा  है  भई  पैसा !     
                                         

शुक्रवार, 13 दिसंबर 2013

do sher

                                                    दो   शेर


                    कोई   आज भी  है  जो   रूह    बनकर  ,
                    मुझमें  समाता ज़रूर  है।
                   अकसर  चुप सा रहता  है  मगर ,
                  मुझे   देखकर   शर्माता  ज़रूर है।
                   मैं   कैसे  केह दूँ  कि  मुझसे
                  ख़फ़ा  है  वोह   शख्स।
                 आज  भी  वक़्त निकाल कर ,
                  रेत   पर मेरा  नाम  लिखता  ,
                 और   फिर मिटाता  ज़रूर  है।


                इश्क़   वोह   खेल   नहीं  जो  ,
               कमज़ोर  दिलवाले  खेल सकें।
                रूह  तक कांप  उठती   है   ,
                  सदमें  सहते  -सहते।
           

सोमवार, 9 दिसंबर 2013

manushyta ka shringaar karo ( kavita)

                                मनुष्यता   का श्रृंगार  करो।   (कविता)


                                      हे   मनुष्य !
                                     यह  प्राथना  है  तुमसे ,
                                    इस सम्पूर्ण  सृष्टि  की।
                                   तुम  अपना  पुनर्निर्माण  करो।
                                   अपनी  मानव जाति  के लिए,
                                    मेरी अन्य   संतानो  के लिए ,
                                    एक बार  पुनर्विचार करो।
                                     एक बार   फिर  उठो !
                                     निकलो  अपनी  बुराईयों  ,गुनाहों
                                    के दलदल  से।
                                    काम-क्रोध ,मद-लोभ ,  हिंसा ,
                                     ईर्ष्या  ,द्वेष ,झूठ ,मिथ्याभिमान ,
                                     असंतोष ,अकर्मण्यता  आदि को  त्याग दो।
                                      जो तुमने  स्वयं  निर्मित किये  ,
                                      यह  मकड़जाल।
                                     तोड़ सकते हो  स्वयं  ही ,
                                      कर सकते हो   इन्हें   समूल नष्ट।
                                       मुझे  ज्ञात  है ,  विशवास  है  तुमपर।
                                      कर सकते हो  तुम  .
                                      और तुम करोगे।
                                       मेरी खातिर  ,
                                      अपनी माँ   कि खातिर,
                                       करोगे  अपना दामन साफ़।
                                       इन   सभी  कलुषताओं   से।
                                       और  पुनः   श्रृंगार  करो ,
                                       दया, ममता,  प्रेम,  भाई चारे , संतोष,
                                          सत्य ,  समानता , निष्काम-भाव ,परोपकार ,
                                           आदि  सभी   दिव्य  आभूषणो  से   स्वयं को ,
                                         अलंकृत  करो।
                                        तत्पश्चात   तुम   नज़र  आओगे ,
                                        एक सज्जन पुरुष ,
                                          एक दिव्य-आत्मा ,
                                          इसके परिणाम   सवरूप   तुम्हारी दिव्यता  से
                                              तुम्हारे  आलौकिक प्रकाश से  प्रकाशित होगा ,
                                           इस जग का कोना-कोना।
                                             तुम्हें   तुम्हारी  मनुष्यता  कि दुहाई  है।
                                           तुम्हें  मानव-धर्म  कि पताका  फहरानी है।
                                            तुम्हें  अपने राष्ट  को पुनः  सम्मान दिलवाना  है।
                                             और इसीलिए   मैं   तुमसे   निवेदन  करती हूँ।
                                             मानव  हो तुम , हो तुम मनु  कि संतान।
                                             अपनी  मनुष्यता  का   श्रृंगार  करो।                    

गुरुवार, 5 दिसंबर 2013

agyat shishu ( kavita)

                               अज्ञात  शिशु    (   कविता)  


    ऐ   नन्हे   से    शिशु ! ,
    बता तू कौन  है ? 
    मेरे   प्रश्नो   पर  
   क्यों हो रहा  मौन है ? 
    है तो तू   निश्चय  ही  
     हम  मनुष्यों  के ह्रदय  में ,
   पशु -पक्षी ,जिव-जंतु ,वन  ,नदियां ,
     पर्वत  और  सारे वलय में। 
     यह  सारी    क़ायनात   तेरा खिलौना ही तो है ,
    यह  सारा  आकाश  तेरा   बिछौना  ही तो है। 
                               जिस पर बैठा  तू  खेलता  है  नए-नए खेल। 
                                हम   प्राणियों  के  जीवन   और  उस जीवन में 
                                 भाग्यों  का  बनना -बिगड़ना  और 
                              अंत में  इस जीवन का मृत्यु  से मेल। 
                                तोड़कर  फिर जोड़ना ,
                                जोड़कर  फिर तोड़  देना  ,
                                 हमारे ह्रदय को ,
                                 हमारे   सपनो को ,
                                अच्छा  लगता है  ना  !  
                                तुझे  यह रोमांचक खेल। 
                                प्रकृति  कि   हर ऋतू ,
                                 दिन  ,माह, और वर्ष ,
                                 यह समय  है  तेरे  इशारों  पर। 
                                तेरे   नन्हे   से हाथों  में   यह सारा,
                                 दुनिया  का कारोबार है। 
                                 हम  तो है  मूढ़  ,अज्ञानी ,
                                 हम  में इतनी  समझ कहाँ है !
                                तेरे  रूप  को समझने  कि  हम   में ,
                                   सामर्थ्य   कहाँ है ! 
                                तू है  आनादि  ,अनंत ,  निराकार ,
                                  तेरा   अस्तित्व   इस  दुनिया   के  ज़र्रे-ज़र्रे  में 
                                       रवां   है।       


                        

शुक्रवार, 11 अक्तूबर 2013

chai ki pyali (kavita)

                              चाय की   प्याली   (   कविता) 


                                                            जिसके   बिना   है  हर सुभह  अधूरी ,
                                                            जिसके बिना  हर  शाम अधूरी ,
                                                            जिसके बिना  जिंदगी की  हर  शय  अधूरी ,                         घर में  ना   हो  घरवाली ,
                                                   या   ना हो  चीनी  और चायपति ,
                                               तो   रह गयी फिर मेहमान नवाजी  अधूरी। 
                                             मौसम  चाहे कोई हो ,
                                            कारण   चाहे कोई हो ,
                                            ख़ुशी  हो या गम हो ,
                                            पीने  वाले को बस पीने का बहाना  चाहिये. 
                                           उसी तरह  चाय प्रेमी  को बस  ,
                                             एक कप चाय का प्याला  चाहिये. 
                                             कोई मेजबान  ,खाने को  भले  ही ना पूछे ,
                                             पानी  या   कोल्ड-ड्रिक  पूछे  या ना पूछे ,
                                             मगर  वोह   चाय के लिए ज़रूर पूछे ,
                                            गर वोह ना  पूछे !  तो समझो ,
                                             वोह  मेहमान -नवाजी में  फेल। 
                                              बड़ा बेदर्द ,कंजूस और सिरफिरा  है वोह शख्स  
                                               हमारे लिए :  जो  हमें चाय को  ना पूछे ,
                                              एक कप प्याले  का ही तो   सवाल था ,
                                              कोई   दुनिया की जागीर  तो  चाही नहीं थी। 
                                                ना ही आसमान  से तारे  तोडके  लाने को कहा था. 
                                                किसी की  जिंदगी  तो मांगी नहीं थी।  
                                                भले  ही कोई  चीनी  ना  भी डाले,
                                                  बस !  एक चम्मच  अपना प्यार  ही घोले  के देदे। 
                                                   कोई  ले ले  बेशक  हमारी  सारी   धन दौलत। 
                                                  बस  एक  गरम-गरम   चाय का  कड़क प्याला देदे। 
                                                  चाय  नहीं है  ज़हर ,
                                                  है यह भी  सेहद के लिए  अच्छी चीज़। 
                                                   डोक्टर  भी अब मानते है.
                                                  चाय से   दूर  होती है हर बिमारी। 
                                                  है यह सर्वथा   लाभ करी ,
                                                   मूड ख़राब को ,तनाव  हो  ,
                                                  सर्दी-जुखाम  हो , थकान  हो ,
                                                   बुखार  हो  या सर दर्द   भारी। 
                                                    चाय  तो राम -बाण  ओषधि  हमारी। 
                                                    हम  तो क़सम  से  चाय का दामन  कभी  नहीं छोड़ेंगे। 
                                                     है   यह  हमें   जिंदगी से प्यारी। 
                                                     मर भी   जाएँ गर  तो गंगा जल के बदले ,
                                                     चाय  का एक प्याला ही  मुंह  में  डलवाएंगे। 
                                                      हम तो इसी के लिए  जियेंगे ,
                                                    और इसी के लिए मर जायेंगे। 
                                                       हमें तो   सारे जहाँ से  है  प्यारी। 
                                                       हमारी  चाय  की  प्याली।  

बुधवार, 9 अक्तूबर 2013

daag ! ( gazal)

                            दाग  (  ग़ज़ल) 


                         तू    है  मेरी  बदनसीबी  का  दाग ,
                         जो  मेरे  दामन   पर है लगा।                                                

                        तू   है  मेरी  राह  का पत्थर ,
                        जो मेरे  क़दमों  को  है रोकता। 
                         
                      तेरे  ख़यालात ,नजरिया औ ज़ज्बात ,
                      एक मकबरे  से  कम नहीं  लगता। 

                      तेरी   बातें  है ज़हर  में  डूबे   तीर ,
                      जिसने  हमें  सदा  घायल  है किया। 

                     तेरा  साथ  है  जैसे काँटों से भरा  जाल,
                    पल-पल  जो नश्तर की तरह है  चुभता। 

                   पहले  तो फ़रिश्ता   फिर  शैतान  ,  वाह !
                    किस  तरह  एक इंसान रूप है बदलता। 

                  पूरी  तरह ज़ख़्मी हुए दिल दे   उठते है सवाल, 
                  क्यों  कर कोई  किसी की नज़रों से  है  गिरता। 

                 अब  तो  खुदा से  हमारी  एक ही  गुजारिश है ,
                  या तो  मौत देदे या दे  कोई रिहाई  का    रास्ता।                                
       

AAH ( GAZAL)

                                 आहें   (   ग़ज़ल )  


                         दिल  के टूटने  की  माना  कोई  आवाज़   नहीं होती ,
                        मगर  टूट  जाते हैं  आशियाँ किसी की सर्द आहों  से.

                       किसी  को रोंद कर  क़दमो  तले  सर उठाते हैं गुमान से ,
                       कभी   उनके  भी निशाँ  मिट जाया  करते हैं राहों से।  

                       गुनाहगार  को  कब एहसास होता है अपने गुनाहों का !,
                       वक़्त आने पर मगर बच  नहीं पता  खुदा की निगाहों से। 

                       खून  का घूंट  पीते हुए जो रोते  हैं मासूम ; तन्हाईयों  में,
                       वोह  रहमतगार  रहमत  बख्शता  है अपनी पनाहों से। 
                        मैं  भी  खड़ी  हूँ  उसके दर पर  फैलाकर अपना  दामन ,
                        है मुझे भी  उम्मीद  की भर देगा वोह इसे अपनी चाहों से। 
                            
                      
                     

शुक्रवार, 4 अक्तूबर 2013

buddhu baksaa aur ham ( hasy-kavita)

                                  बुद्धू  बक्सा  और हम (  हास्य-कविता) 


                                            कहा तो जाता  है  इसे बुद्धू बक्सा ,
                                             मगर वास्तव  में तो  यह बड़ा सयाना  है ,
                                              अपना मायाजाल  फैला कर ,
                                           हमें  किया  इसने  दीवाना  है। 
                                              समझते   हैं  हम  जो  है  इसमें  दिखता  ,
                                                सब   झूठ है ,नाटक  है ,
                                               पर मालूम नहीं  ,ओन  करते  ही इसे ,
                                               बंद  हो जाता  बुद्धि का फाटक  है. 
                                               खुद की समस्याएँ   कोई कम है !
                                                जो  सिमर और रोली  की  समस्याओं में 
                                                  उलझे रहते हैं। 
                                                 खुद  के  दुश्मनों  का  पता नहीं   ,
                                                 क्या चालें  चलते रहते हैं ,
                                                 और हम  आर  के  और मधु  के 
                                                     दुश्मनों  को गालियाँ  निकालते हैं ,
                                                 और यहाँ  तक के  भगवान् से  प्राथना करते  हैं।  
                                                 ''हे भगवान्  ! किसी भी कीमत पर इनकी जोड़ी ना   टूटे। 
                                                  जगया ने  की गंगा  से  शादी ,
                                                 तो  आनंदी  की बड़ी  परेशानी ,
                                                 तो   हमारी  भी  आँखों  की नींद उड़ गयी। 
                                                  मधु  के भविष्य  के बारे में  की 
                                                   आर के  की  पाबो के गुरु जी  ने की। 
                                                            भविष्यवाणी 
                                                  तो भी   हमारी नींद  उड़ गयी। 
                                                        जाने कितने ही बार  हमने 
                                                       अपनी नींदे खराब की ,
                                                    कभी  साची तो ,कभी  प्रिया,
                                                    कभी  इच्छा तो कभी तपस्या ,
                                                      अनगिनित  हैं  यह  बुद्धू -बक्से के  चेनल्स और  उनके कैरेक्टर ,
                                                       ख़त्म हो   जाएगी  जिंदगी ,
                                                      पर ना कभी ख़त्म होगा  इनका चैप्टर। 
                                                      तभी तो ! 
                                                      पीडी  दर पीडी  चलता रहता  है  इसका  
                                                      सिलसिला। 
                                                       '' सास  भी  कभी  बहु थी  ''कसौटी  जिंदगी की ,या
                                                        कहानी घर घर की ,  कसम से ,  या  कुसुम ,
                                                         और  अब   पवित्र रिश्ता ,  .
                                                         यह     सब  हैं  एकता के जलवे ,
                                                         उसका   छाया  है  इस बुद्धू   बक्से  पर
                                                          साम्राज्य।
                                                             'क'   छोड़  दिया तो  क्या !
                                                            स्थापित  तो हो चूका है  ना
                                                            दर्शकों  के दिलों  में   राज्य।
                                                            सारे   चेनल्स  पर है  ''बाला जी ''
                                                                का   डंका  बजता।
                                                            हे भगवान् !
                                                              लो जी !   भगवान्  का नाम लिया तो
                                                              मंदिर  में   नहीं  ,
                                                               चेनल्स  के भगवान्  ध्यान में आ गये.
                                                                कभी  देवो-के देव  महादेव ,कभी श्री कृष्ण ,
                                                                 तो   कभी भक्ति  चेनल्स  के  गुरु देव याद आ गये. .
                                                                    रंग -रंगीले  गुरु देव !
                                                                   रामायण और  महाभारत  अब
                                                                   बच्चा- बच्चा  जानता   है,
                                                                    धर्म-ग्रंथों  ने नहीं ,
                                                                 इस   बुद्धू  बक्से  ने ही   रटाया  है.
                                                                  देश  के इतिहास  के बारे  में ,
                                                                   हमारे  संविधान  के बारे  में ,
                                                                   नहीं  जानते हमारे नोनिहाल,
                                                                   मगर  किस नेता ने  कितने  किये घोटाले ,
                                                                    वोह   सा---भी   जानते है.
                                                                    यह सब किसी   मेहरबानी से ?
                                                                     इस   मीडिया  की वजह से ,
                                                                        बनाम !
                                                                  इस बुद्धू बक्से  की  कृपा  से।
                                                                      कुछ भी  कहो ,यारों !
                                                                    है तो यह कमाल की चीज़।
                                                                     ज़रा सा  हो जाये  आँखों से  ओझल ,
                                                                     तो करते हैं बड़ा  मिस।
                                                                     भोजन  की बात  छोड़ो !
                                                                       हमारी  तो चाय  भी इसके बिना  हजम नहीं होती।
                                                                        नहीं  जुड़ते  कभी  जब इसके  उपग्रह  से  तार ,
                                                                          तो  जिंदगी  की कोई शय  अच्छी  नहीं लगती।
                                                                         लाख  कोशिश  कर ले  ,
                                                                        मगर  इससे दामन  छुड़ा  नहीं सकते।
                                                                         क्योंकि   बिना इसके  हम ,
                                                                             एक पल भी  जी नहीं  सकते।
                                                                            है   यह   ऐसी बला  ,
                                                                             चाहे  जितना हम  इए कोसते हैं।
                                                                              मगर  फिर भी  दोस्तों !
                                                                              हम इसी पर  मरते है।
                                                                              जय हो बुद्धू बक्से की !
                                                                 
                                                       

गुरुवार, 3 अक्तूबर 2013

musafir hai zindgi (gazal)

                                   मुसाफिर   है  जिंदगी  ( ग़ज़ल)  

                                  
                     
                                                                       खो जाती  हूँ   में   ख्यालों   में कहीं ,                                                                                   एक  मुसाफिर भटक जाता हो  जैसे  कहीं। 
              
                                       मंजिल   क्या मिलेगी  गर राह  ही न मिले,
                                       दामन  उलझा  आती हूँ   काँटों  में कहीं। 

                                      उफ़ !ज़हन  की कशमकश औ उलझने ,
                                      में   जी  रहीं   हूँ  घुटन  में  कहीं।    
                   
                                       आहों  से  मेरी किसी को  होती है शिकायत ,
                                       तो  और  किसी को   कोफ़्त  कहीं। 

                                       हर  सु    रहता  है खौफनाक मंज़र  मेरे जानिब ,
                                       वक़्त  गुज़रती हूँ  में   रो-रो  कर  कहीं। 

                                     में   जहाँ   जायुं   जाती  है मेरी  तन्हाई  भी वहीँ, 
                                     बदनसीबी   से गहरा  रिश्ता  है मेरी  जिंदगी का कहीं। 

                                     बांह   पकड़कर  यह  कौन  मुझे  बाहर  ले आया, 
                                     या खुदा  !   कहीं  वोह तुम्हीं  तो   नहीं।  

शनिवार, 28 सितंबर 2013

safar (gazal)

                                    सफ़र  (  ग़ज़ल)  

                                ना   अपनी  ख़ुशी से आये , ना अपनी  ख़ुशी से  गए, 
                                 जिंदगी  थी  उन्हीं  की दी हुई वही चलाते गए। 
 
                              जितना  भी  दिया  ,खूब दिया उन्होंने ,
                              उनका दिया  उम्र भर खाते  गाये।  

                              फिर  भी  मांगने  की आदत  थी  हमें  ,
                             जो भी  मांगते रहे वोह देते  ही गए। 

                           मतलब परस्त  थे हम  मिलने  पर खुश हुए ,
                           ना मिला  तो  खुदगर्ज़!  शिकायत  करते गए। 

                           मौत  की ना  की परवाह ,ना ही  जहनुम की,
                          शैतान जिस तरह नचाता  रहा  ,नाचते  हम गये. 

                           जिंदगी  तो ख़त्म  हो गयी ,पर ना ख़त्म हुई हसरते ,
                           इस दौर- ऐ-जूनून में   ज़रूरतों की इन्तेहा नापते गए। 

                         उम्र  के  इस  दौराहे   पर   अब मगर हमें  यह अफ़सोस  है ,
                        दिल लगाया दुनिया-ऐ-फानी से ,क्यों उन्ही को उनसे ना मांग पाए।        

sougaat ( gazal)

                                   सौगात  (  ग़ज़ल)

     
                                      अश्कों   में   ना  डूबी  हो  जो जिंदगी ,
                                      फिर उस जिंदगी  का मज़ा क्या है। 
                       
                                     दर्द  बनकर  ना  उमड़े  जो आँखों से ,
                                      उस  ज़ज्बात  की  ज़रूरत  क्या है। 
       
                                   सर्द  आहों  से  खुश्क  हो   जाएँ  लब ,
                                    पीते  है लहू का घूंट ,वाह  क्या  बात है। 

                                    तनहाईयों   में   ना  जिसको  करार हो ,
                                    महफ़िल  में  बैठा  वह  शायर क्या है। 

                                   खुबसूरत  है  उसकी तरह उसका  गम भी ,
                                   तबस्सुम  के साथ  छलके यह  जादू क्या है. 
                          
                                  जाएँ जब  जहाँ से  कुछ तो पास  हो ,
                                   सिवा  इन सौगातों  के और क्या है। 

बुधवार, 25 सितंबर 2013

nari aur vriksh (KAVITA

                                    नारी  और  वृक्ष  (कविता) 

                                                शास्त्रों   में  है  कहा गया , 
                                                वेद-पुराणो  ने  भी  कहा ,
                                                 ऋषि -मुनि ,साधू -संतो ने भी
                                                 दोहराया  ,
                                                  इस जगत  को हर तरह से
                                                   समझाया। 
                                                   नारी   की  हो  जहाँ  पूजा ,
                                                  नारी को मिले जहाँ  सम्मान ,
                                                  वहां  स्वर्ग होता  है।
                                                  खुशियाँ  ,सुख-समृधि  वही बस्ती है।
                                                   और   जहाँ  हो   वृक्ष  आपार।
                                                    जीवन  वहीँ    साँस लेता है ,
                                                     और   बड़ा  पेड़ ,
                                                      वट-वृक्ष ,
                                                      घर के एक बड़े-बुज़ुर्ग  के सामान होता है ,
                                                       जिसकी  छत्र -छाया  में  बचपन
                                                       किलकारियां  मारता है ,
                                                        आनंद  खिलता है ,
                                                         संस्कृति ,सभ्यता ,संस्कार
                                                         फलीभूत -पुष्पित  होते हैं।
                                                          इसीलिए   नारी  का अपमान ,
                                                          और  वृक्षों   को   काटना  ,
                                                          (  जबकि  वोह हरे भरे  हो   )
                                                           दंडनिये   अपराध  है।
                                                             यह घोर  पाप है।
                                                           मगर  हाय !  यह   लोभी ,  कामी ,
                                                           दुष्ट ,अहंकारी   नर ,
                                                            ईमान  से कितना  गिर चुका  है ,
                                                             वोह   नारी ,प्रकृति  और  वृक्ष का
                                                             मूल्य  ही  नहीं  समझ पा रहा।
                                                               शास्त्रों  में तो  यह भी लिखा है ,
                                                                ''विनाश काले  विपरीत  बुध्ही ''
                                                                 तो  भविष्य  में   होने वाले  प्रलय  को
                                                                 भी   वोह  स्वयं   ही   आमंत्रित  कर रहा  है।
                                                                 यदि   नहीं समझ पा रहा   नारी , प्रकृति और वृक्ष
                                                                  की निस्वार्थ   सेवा  को ,  कोमल भावनायों को ,
                                                                  इनके त्याग  और प्रेम को ,
                                                                    तो निश्चय  ही   अपनी  बर्बादी की
                                                                   खुद हो कब्र  खोद रहा है।     
                                                              
                                                                

रविवार, 22 सितंबर 2013

Taash ke patte ( KAVITA)

                      ताश   के पत्ते  (कविता ) 

                               मनुष्य   के  सपनो   का  अस्तित्व  ही क्या है ?
                               जैसे  हो  कुछ   ताश  के  पत्ते ,
                               कितनी   ही बार   एक -एक  पत्ता  जोड़कर 
                                अपने  सपनो  का महल  बनाता  है इन्सां  ,
                                मगर   उतनी ही  बार   दुर्भाग्य  की हवा  चलती है ,
                                और  सारे  के  सारे   यूँ  बिखर जाते  है ,
                                मनुष्य   फिर प्रयास  करता  है ,
                                फिर एक-एक पत्ते  को जोड़कर  ,
                                 एक दुसरे के साथ  टिका-टिका  कर ,
                               बा-मुश्किल  उन्हें  खड़ा करता  है ,
                                 मगर  यह  क्या ! 
                              सब खिड़की -दरवाज़े बंद किये तब भी ,
                               घर की छोटी -मोटी  चीजों  की दिवार सी  बनायीं ,
                                  तभी  भी। 
                              एक  हलकी  सी हवा  ने ही  सपनो का महल  गिरा  दिया 
                                   और  पत्ते  फिर बिखर गये. 
                                 यह हवा  आखिर  आई कहाँ से !
                                 शायद   यह खुद  के ही  श्वास  थे। 
                                   कारण चाहे कुछ भी हो ,
                                सपनो  के महल ने  टूटना  था ,
                                 सो टूट गया  . 
                                  मगर  यह सिलसिला  कब तक  चलता रहेगा ?
                                   जब तक   यह  जिंदगी  है. 
                                    जब तक है   साँस में साँस। 
                                    जैसे  ही  जिंदगी  ख़त्म  हुई ,
                                      जैसे ही  श्वासों  की डोर  टूटी ,
                                     महल  तो क्या  ,
                                    यह  घर भी  अपना ना  रहा. 
                                     ताश  के पत्ते  मगर  अभी  तक  फर्श पर ,
                                      यूँ ही बिखरे  हुए पड़े रहे. 
                                     क्या   सपनो  का महल  बन सका? 

शनिवार, 21 सितंबर 2013

BAS EK KHAWAB HAI...... (GAZAL)

                                 बस एक ख्वाब है। …. (  ग़ज़ल) 

                         ऐ  खुदा !    तेरी   दुनिया में  मुहोबत  बस एक खवाब है,
                          जिसका   अफसाना   किताबों  के सिवा और कहीं नहीं। 
                       
                        ज़हन  की  कोफ़्त औ  दर्द-ऐ-दिल  को मिटाने वाले,
                         होते है क्या?  इनका ज़िक्र भी  मैने  कभी सुना नहीं। 

                        देखते  हैं अक्सर  खवाब की कोई  आया  हमें थामने,
                        मगर  जब आँख खुली तो  देखा  यहाँ तो कोई भी नहीं। 

                       तन्हाई में  रोते  हैं  अक्सर  हम छुप -छुप  कर यूँ ही ,
                        क्या करें !  हमारे  आंसुओं  के नसीब में दामन जो  नहीं। 

                      सह  लेते  इसपर भी  हर ज़ख्म  हम तेरी कुदरत  का ,
                       मगर मेरी शिकायत  है  तुझसे ,तू क्यों मेरे साथ नहीं।