शनिवार, 29 दिसंबर 2012

sab thik hai ( KAVITA )

                             सब  ठीक  है !  (  कविता)

                                           देश   की  नय्या  डोल  रही  है ,
                                            अराजकता  सर चढ़  के बोल रही है ,
                                          महंगाई  ने डाला गले में फंदा,
                                          भरष्टाचार ,काला  बाजारी ,घुस खोरी ,
                                           बईमानी  फल फुल रही है। 
                                          जाति -वाद,क्षेत्र वाद।भाषा वाद  का शोर 
                                           है  चारो ओर ,
                                           एकता  की आवाज़ कौन सुने !
                                             बकती रहती है।
                                             कोई बात नहीं  !
                                               सब ठीक है।
                                            आतंक वाद   की दहशत गर्दी ,
                                             ह्त्या ,आगजनी ,गोली बारी, और अपहरण 
                                           तो   रोज़ की बात है ,
                                             संसद  भवन  में  नेतायों  का  कुर्सियां  तोडना ,
                                          क्या नयी बात है?
                                             और कुछ  नहीं  हो रहा ,
                                           कोई   इन्कलाब  नहीं आ रहा ,
                                           मगर रोज़ नए नए  वायेदे ,तश्तरी  में  सजाकर  
                                            हमें मिलते  हैं ,
                                             क्या यह कोई कम बात है! 
                                            हर  सुभह  का अखबार  है  नयी सुर्ख़ियों से  भरा .
                                            नए नए  अपराधों  से है  यह सजा हुआ।
                                            इसे कहते हैं  विभिनता  में एकता .
                                          कहाँ देखोगे  दुनिया वालो !
                                          ऐसी  मिसाल तुम !
                                           वेह्शी  ,दरिदे  , भेडिये ,
                                         बलात्कारी  खुले  और बेखौफ  
                                           घूमते है .
                                         जब चाहे  किसी भी  नारी को ,
                                          बहिन ,बहू ,बेटी और माँ  को  ,
                                          बनाले  अपना  निशाना .
                                         ऐसी आज़ादी और कहाँ !  
                                          भले ही हो जाये  हर एक दामन तार तार ,
                                          मगर   सब ठीक है। 
                                           डोल  रही है  देश की  नय्या ,
                                           मगर   डूबी तो नहीं  ना !  
                                            चल  रहा  है  राम  भरोसे ,
                                            सब ठीक  है।                        

बुधवार, 26 दिसंबर 2012

mere vatan ki betiyan ( kavita)

                     मेरे वतन की बेटियां   (  कविता)

                                                                                    तमाम  उम्र  खौफ  के  साये में ,
                                                                                    क्यों  जीती  हैं मेरे वतन की   बेटियां?
                                                                                    कोख  में  आते  ही  पहले  क्यों 
                                                                                   मार दी  जाती  हैं  बेटियां .?
                                                                                   दुनिया बदसूरत  ही  सही लेकिन ,
                                                                                  जनम लेने को तरसती हैं बेटियां .
                                                                                 जिंदगी और मौत  के लिए ,हाय !
                             माँ-बाप के एहसान तले बेटियां .
                            जिंदगी  मिल भी  गयी  तो ,
                           जहाँ   से क्या पाती हैं   बेटियां .?
                           फ़र्ज़, समझौते ,लाज  -शर्म  की 
                           देहलीज  पर रोक दी जाती  बेटियां .
                         अपनी  ज़ात ,वजूद  और   आज़ादी 
                          केलिए   ज़द्दो-ज़हद करती हैं बे                                                               अपनों के ,अपने समाज के
                         अपने ही देशके  द्वारा
                        कटघरे  में  खड़ी  की जाती हैं बेटियां .
                        कसूर   चाहे  किसी का भी  हो ,
                         गुनाहगार  ठहराई  जाती हैं लेकिन  बेटियां .
                        घर  ,दफ्तर ,स्कूल ,कालेज या कोई  सार्वजानिक स्थल ,
                          हर जगह  अपमानित  होती हैं  बेटियां।
                         किस्से  मांगे  मदद ,कौन करे  हिफाज़त ,
                          भरोसा   करना  है मुश्किल .
                         रिश्ते  बदल जाते हैं,
                         नज़रें  बदल जाती हैं ,
                         रंग बदलती   गिरगिटों  से ठगी  जाती हैं  बेटियां।
                         हर एक  आहट  पर  डरी  सहमी सी ,
                          अपने  आँचल  को   दानवों  से  बचाती हुई ,
                        फिर भी   आसमान  छूना  चाहती हैं बेटियां .
                         अपने स्वाभिमान के लिए
                       पूर्ण आत्म- विशवास    के साथ ,
                        आत्म - निर्भर  बनना चाहती  हैं बेटियां।
                          पुरुष  समाज  में अपना  एक अहम् और
                         समानता  का दर्ज़ा  चाहती हैं  ,
                        इससे ज़ायेदा  और क्या चाहती हैं ,
                           मेरे वतन की बेटियां।
                       बंद  करो  अब यह  पक्षपात ,
                        अन्याय ,व्यभिचार और बलात्कार .
                        बदलो   समाज की परिपाटी ,
                       के  सुखी ,सुरक्षित  और  खुशहाल  हो हर
                       माँ ,बहिन ,बहू  और बेटी .
                       के  इन्साफ  चाहती  हैं  मेरे  वतन की बेटियां।  
                      अपने  जीवन  को   अपनी  मर्ज़ी  से  जीने  के लिए
                       आज़ादी  चाहती  हैं  .
                        खुली  हवा में  साँस  लेने  दो इन्हें ,
                        यह   नन्ही सी चिड़िया हैं ,तितलियाँ  हैं  यह रंग बिरंगी ,
                        मेरे वतन की  जान है , इज्ज़त ,हैं और  शोभा  हैं ,
                        मेरे वतन  की  प्यारी  सी बेटियां।
                           

शनिवार, 22 दिसंबर 2012

jaag damini jaag ! kavita

                             जाग  दामिनी   जाग !

                                      जाग   दामिनी  जाग !
                                         अपने  आत्मबल  से .  
                                   तेरे   साथ  जागी  है आज ,
                                       हर बेटी  भारत की ,
                                   अपने  आत्मविश्वास से .
                                   माएँ ,  बहने , बहुएं और बच्चियां .
                                   पुकार  रही हैं  बड़ी आस से।
                                   कह रही हैं  तुझे ,की  आ !  
                                  हमें   लड़ना  है ,
                                 इस पुरुष   समाज से ,
                                  इस   सत्ता  से ,
                                अपने  आत्म-सम्मान  के लिए .
                                 जूझना   होगा ,
                                अपने  अस्तित्व  के लिए ,
                                     अस्मिता  और  सतीत्व  के लिए।
                                 तुम्हें  अपने  नाम  सार्थक  करना  होगा ,
                                      हिसाब   मांगना  होगा  हर दर्द का इनसे।
                                   अब  बर्दाश्त  नहीं करेंगे हम ,
                                     तू अगर  साथ दे  तो  तुफानो से   टकरायेंगे ,
                                    किसी से   नहीं  डरेंगे हम .
                                  हम हैं  नारी  तो क्या !
                                     कोमल  है  मगर कमज़ोर  नहीं हैं।
                                  हम सरस्वती  हैं  और लक्ष्मी  भी ,
                                       मगर हम  महाकाली  और दुर्गा भी हैं।
                                  नहीं जियेंगे  अब घुट -घुट के ,
                                  उठ  ! के  तुझे  उठाना  होगा।
                                  मत रो  यूँ मुंह  अपना  छुपा के ,
                                   तुम्हें  अंधेरों  से उबरना होगा। 
                                   शर्म सार  होए  वोह ,हम क्यों ?
                                    खून के आंसू  रोयेंगे  अब वोह  ,हम क्यों ?
                                    जीवन   अब  उनका बर्बाद  होगा ,
                                     अपना  जीवन  हारकर,  मौत   को गले  लगाये तू क्यों?
                                     अब   आ गया  है वक़्त ,
                                      अपने  उपर  होरहे  हर अन्याय  का,
                                       अत्याचार  और  बलात्कार  का,
                                      मुंह  तोड़ जवाद देना होगा।
                                        हम  हैं   शक्ति -स्वरूपा ,
                                        हमें  ही इन  रावणों का  संहार करना होगा। 
                                       हम हैं नारी ,मगर भोग्य नहीं .
                                        हम हैं  इंसान ,कोई खिलौना  नहीं।
                                         हम हैं   पुरुषों से  सबसे श्रेष्ठ  ,
                                         यह एहसास   उन्हें करना होगा।
                                         हमने   जलाई  है  इसीलिए  अब आन्दोलन  की मशाल .
                                         चल  पढ़ी  हैं  हम भारत की नारियां  आत्म रक्षा , स्वाभिमान ,
                                          आत्म निर्भरता  और   स्वतंत्रता  कि   राह पर .
                                         तुम्हें भी   दामिनी  ! हमारे साथ चलना  होगा। 
                                        जाग   दामिनी  जाग ! 
                                       कितुम्हें अब जागना होगा।               
                                                

मंगलवार, 11 दिसंबर 2012

waah taj ( kavita)

                                वाह   ताज !    (कविता)  

                                                                                भारत  की आन ,
                                                                                मुहोबत   की शान ,
                                                                               दुनिया  की जान है  है  यह   ताज .        
                                                                                             
                   इतिहास   की धरोहर ,
                   संस्कृतियों   का सरोवर ,
                    सभ्यता   की   पहचान  है  यह ताज।
                   कुदरत का  करिश्मा,
                  कायनात   का नगमा  ,
                  अमरता   का वरदान है यह ताज  .
                   पवित्रता  का द्योतक ,
                   शुद्धता  का स्त्रोतक ,
                    सौन्दर्य  का प्रतिमान  है यह ताज .
                   अनगिनित  मजदूरों के  ,
                   बुध्हिजीवियों व् पारखियों   के 
                   अथक  परिश्रम का फल  है यह ताज .  
                    अंत   में   हम ,
                    ह्रदय  से नमन ,
                    करते है   तुझे   ऐ ताज !
                    जब तक रहे यह  जहाँन  ,
                                                                               तेरी  अमर रहे  दास्ताँ ,
                                                                               हर  दिल  पुकारता  रहे  ,वाह ताज! वाह ताज !

aadhikaar ( KAVITA)

                                  अधिकार  (  कविता)

                                                                                          मैने   दिया   तुम्हें   अपना  समर्पण ,
                      परन्तु  तुम  इसे मेरी  कमजोरी   समझ                                                                                                                  
                      मैने   किया  अपने   आँचल  से ,
                     तुम्हारे   पथ का बुहारन,
                      तुम   इसे मेरी  दासता    समझ बैठे .
                       मैने   की  तुम्हारी प्रतीक्षा ,
                      परदेश   जाने  पर ,
                     और   तुम्हारे  वियोग  में 
                     बहुत रोई .
                     तुम इसे   मेरा पागलपन   समझ बैठे .
                     मैने  धरा  हर गुनाह  तुम्हारा ,
                      अपने सर ,
                     मगर   तुम इसे  अपना अधिकार  समझ बैठे .
                     मैने हर कष्ट  सहे ,
                     परिवार   और समाज                                                                       जो भी  मुझे दिए।
                    और तुम   इसे मेरी  विवशता   समझ बैठे .
                    यह   मेरा  सम्मान  था  तुम्हारे प्रति ,
                                                                                          जो तुम मुझे   ना दे सके ,
                                                                                          क्योंकि   तु म ही हो  पुरुष 
                                                                                          पृथ्वी   पर  सम्मान के   पात्र ,
                                                                                           मैं   स्त्री   नहीं !
                                                                                          क्या   तुम्हारा  ही अधिकार है   ,
                                                                                          समस्त  पृथ्वी  पर  ?
                                                                                             मेरा   नहीं !
                                                                                           तुम्हें   तो  भेजा  था  इश्वर  ने  
                                                                                         मेरे  पालन   और सरंक्षण   हेतु .
                                                                                         मगर   तुम   तो  खुद  को  ही  ,
                                                                                         सच  में  ही मेरा  स्वामी  समझ बैठे .   

सोमवार, 10 दिसंबर 2012

HAY KALIK (KAVITA)

                                         हे  कल्कि      ! 

                                                    हे  कल्कि !
                                                   हे   तारण हार !
                                                  अतिशीघ्र   आओ ,
                                                      और  इस धरा  के दुःख दूर करो .
                                                 हे   देव  !  
                                                       मजबूर ,मासूम व् निर्दोष  प्राणियों की 
                                                         रक्षा करो .
                                                       अपने   अस्र्त्रों -शस्त्रों से  
                                                          दुष्टों   का संहार करो .
                                                       कलयुग   के दंश  से   ,
                                                      हमें  बचाओ  प्रभु !
                                                   तुम   एक बार   आकर  तो देखो ,
                                                   दुनिया   कितनी बदल गयी है .
                                                  व्यभिचार ,  बलात्कार ,  गुंडा गर्दी ,  बदमाशी ,
                                                      से   हर नारी   त्रस्त  है .
                                                   युवतियां ,कन्यायें,  बच्चियां   तो क्या  ,
                                                    शिशु  तक   हो रहे हैं    इंसानी  भेडिओं  की
                                                           हवस    का शिकार .
                                                    और   बुज़ुर्ग  महिलायों  पर भी   रहती है  कु दृष्टि।
                                                    ऐसी   हेवानियत  देख कर भी  जाने  कैसे   बची  है सृष्टि .
                                                      संस्कारों ,   शालीनता  ,शर्म -लिहाज़ ,
                                                        आचार -व्यवहार ,शिष्टता ,  आदि  सब
                                                        पुराने   व्   दकियानूसी  हो  गए।
                                                          क्या  बतायुं   हे  दाता !
                                                         नयी पीडी   के  यह  युवा  आधुनिकता  में
                                                        कितने अंधे हो गए .
                                                        माता -पिता , और बुजुर्गों   के   प्रति  यह
                                                            आदर   और सम्मान भूल गए।
                                                         नंगे-पन  पे उतारू  होकर  शर्म लिहाज़  तज  गए।
                                                           उफ़ ! जाने कैसे इन आँखों  का पानी मर गया।
                                                           तुम्हें देखो  प्रभु !  आज का युवा कितना पथ भ्रष्ट हो गया,.
                                                            महंगाई  ,कालाबाजारी ,  हत्या ,अपहरण ,
                                                                 और आतंकवाद   ने भी   जीना  दुश्वार  किया,
                                                             इधर   राजनीती  में रस्सा-कशी ,और उधर
                                                                  बईमानी  ,मिलावट  और  धोखा-गडी  ने   आम-जनता  को
                                                                 परेशान किया।
                                                                    अमीर  हो रहे   और अमीर  ,
                                                                    गरीब  हो रहे  और गरीब ,
                                                                   और बेचारे मध्यं वर्गीय   अधर में  लटके  हुए।
                                                                   यह महंगी  शिक्षा ,क्या देती है शिक्षा ?
                                                                      दुकाने   है डीग्रियों  की ,
                                                                       और कहीं   मैडल  है  सजा हुए।
                                                                      हालात  बहुत ख़राब है  भगवान् ,
                                                                      कैसे   बयाँ करूँ में सब ?
                                                                      तुम आ जाओ  बस एक बार  ,
                                                                       बनके राम,कृष्ण  या नरसिंह  अवतार
                                                                        धारण  कर ,
                                                                     और   संहार करो  आज के रावणों  ,कंसों ,और हिरन्यकश्पों का
                                                                         और   मुक्त करो धरा को  पापियों  के बोझ से .
                                                                         तुम्हारी पृथ्वी  हे  प्रभु !
                                                                          होरही  है प्रदुषण से   त्रस्त .
                                                                          यह बेकसूर ,मासूम,  बेजुबान प्रकृति ,
                                                                           जिव-जंतु   हो रहे  है  पस्त .
                                                                             क्योंकि  यह भी  तो हो रहे हैं  आज के लालची   मानव की 
                                                                             तृष्णा   के  शिकार .
                                                                              अब तुम आ जाओ बस !
                                                                                 याद   है   तुम्हें !
                                                                               तुमने   वायदा किया था  .
                                                                                   नहीं   है तो  मैं  याद करवा दूँ !
                                                                               तुमने  त्रेता   युग  में  भी ,
                                                                               और  तुमने   द्वापर   में भी ,
                                                                                यह   वायदा किया  था की
                                                                             ''   जब-जब  धरती  पर पाप  बढ़ेंगे ,
                                                                                 असुर  बेकसूर जिव-जंतु और इंसानों  का जीवन
                                                                                 दुश्वार करेंगे ,
                                                                                 तब तुम आयोगे ,
                                                                                 इस धरती  को पापियों  से मुखत करवाने आयोगे''
                                                                                 गीता और   रामायण में   दर्ज है  अब  भी
                                                                                    तुम्हारा   वोह  वक्तव्य .
                                                                                      तो   हे    कल्कि !
                                                                                          अब समय आ गया  है !
                                                                                         इससे पहले की यह पृथ्वी   अपना
                                                                           सब्र का बांध तोड़  के  अपना प्रलयंकारी  रूप  धारण करे 
                                                                                    तुम  अतिशीघ्र   आओ .
                                                                                    और   इस पृथ्वी को  संभाल लो।
                                                                                        तुम   आ जाओ ,
                                                                                   बस ! एक बार अ जाओ .
                                                                                             
                          

                  

रविवार, 9 दिसंबर 2012

niyati / fans (KAVITA)

                                   नियति की  फांस 

                               यह रिश्ता    है  या  गुलदस्ता  ,
                               मगर फूलों   के साथ -साथ ,
                                ज़हरीले व  तीखे  काँटों  से  भरा।
                                दोस्ती  और दुश्मनी   दोनों  ही 
                                 भावों   को   समेटे हुए। 
                                 किसी  के लिए  तो  यह  
                                  समझोता होगा। 
                                 और किसी के लिए  होगा 
                                  आराध्य .
                                 मगर   हमारे लिए  है   बोझ .
                                  समझोता  इसे समझने  वाले  निभाने  की 
                                  महज  कोशिशें  करतें  जाते  है ता उम्र .
                                  अराध्य  समझने  वाले भी  निभा  लेते है 
                                  एक तरफ़ा  हो भले ही .
                                  उनमें होगा  जिगर ,
                                   इनमें होगा  सब्र ,
                                  हम में  नहीं है। 
                                  हमारे  लिए तो  है  यह  असह्य  बोझ .
                                   हमारे लिए है  यह फांस .
                                    हम तो नहीं  निभा सकते  इसे  एक पल के लिय भी .
                                     सारी उम्र की तो बात ही छोड़ा। 
                                     यह तो है  हमारे   नज़र में  एक अनचाही  वस्तु ,
                                     जिसे नियति  ने   जाने-अनजाने  
                                    हमारे   हवाले  कर दिया .
                                     जिससे   छुटकारा   पाने  की  हम   रोज़ जी  तोड़ 
                                    कोशिशें   करते हैं 
                                      सोचते रहते  है   कैसे इससे दामन अपना छुड़ाया  जाये।
                                       किसी   नदी  ,कुएं ,त्तालब या  समुन्द्र  में डुबो  दें ,
                                      ताकि यह गल   जाये।
                                       किसी आग में फेंकदें  ,की यह जल जाये।
                                      किसी पहाड़  या खाई   में   फेंक दें 
                                       की  किसी शीशे की  तरह टूट जाये .
                                      कहीं  दो गज ज़मीं  के अंदर  गाड़  दें .
                                       की यह नष्ट हो जाये। 
                                       तस्वीर होती  तो फाड़  देते .
                                       शीशा  गर होता तो  तोड़ देते। 
                                        कोई   गली या शहर ,  गॉव  या  देश  होता तो 
                                        छोड़ देते। 
                                        हम   क्या करें  इसका ?
                                         कैसे इसको खुद से अलग करें ?
                                         जो धोखे  से ही सही ,
                                         हमें   मिल गया है 
                                          जिसने  दीमक बनके  हमारे  दिल ,दिमाग, 
                                          हमारा सारा वजूद  को नष्ट  कर दिया है।
                                            हाय  यह  मज़बूरी है !
                                            यह कैसा दुर्भाग्य है ?
                                            हमें भी  झेलना  पड़ेगा  इसे ,
                                           झूठ मुठ  के हँसते हुए या  ,
                                          खून के   आंसू   रोते  हुए ,
                                          क्योंकि  कुदरत  से मिली  हुई  यही 
                                        नियति  है   हमारी।                                  
                                    

hey maya- nagari ( film -jagat)

                                                     भारतीय  सिनेमा   के 100 वर्ष  के उपलक्ष पर        

                                        हे माया नगरी !         

                                                           तेरा   वर्चस्व  है अपार ,
                                                           तुमने   बसाया  है  ,
                                                          जहाँ   में  सपनो का  संसार .
                                                         कुछ   सच तो कुछ  कल्पना ,
                                                        श्वेत  पट   में   की  गयी  हो  ज्यों
                                                       रंगीन   सुंदर अल्पना।
                                                       फेंके  जब तू   अपने सम्मोहन  का   जाल .
                                                       या   फैलाये   जगमगाती  ,झिलमिलाती ,
                                                      जादू भरी  रौशनी   शमा   सी  तू ,
                                                        न जाने   कहाँ  कहाँ  से उड़ -उड़ कर  आये
                                                        तुझ पर  मंडराने कोई  दीवाना  सा ,परवाना सा ,
                                                       कलाप्रेमी  कलाकार .
                                                        होम   कर जो  जीवन ,मान सम्मान, और अपना  वजूद ,
                                                         समझता   है खुद को भाग्यवान .
                                                         तभी तो   तेरी मुहोबत में  छोड़  देता  है ,                                                                                                     घर-परिवार ,  समाज  व्  खानदान .
                                                         तूने   भी तब  खूब अपनी  वफ़ा निभाई ,
                                                            इस  प्यार  व् समर्पण   के बदले  तूने  भी 
                                                           उसे   उसकी  कामयाबी  की मंजिल दिलवाई .
                                                            दुनिया  व् देश भर  की जनता के दिलों  में ,
                                                            अमिट    जगह  बनवाई .
                                                             मगर  तेरी  खुबसूरत   तस्वीर  का  यह  एक पहलु है ,
                                                             दूसरा   पहलु  तेरा  कुछ और है .
                                                            जो   दीखता  है  परदे  पर वही नहीं ,
                                                            तेरा   वास्तविक  रूप तो कुछ और भी ह                                                                                                    मेरी नज़र में  तू  सिर्फ  महबूबा  ही नहीं ,
                                                                     तू सिर्फ  जलती हुई शमा ही नहीं ,
                                                                     न ही है  तू सिर्फ  मदमाती  ,खुबू भरी  हवा  ,
                                                                      तू है मेरी नज़र में   एक   विशाल  दरखत .
                                                                      सुंदर ,फलदार  और मजबूत .
                                                                       जिसकी   शाखों  पर  हर  रोज़  नए -नए फुल  और पत्ते                                                                                    खिलते है ,
                                                                       जिसकी   ताजगी व् खूबसूरती और खुशबू  से  महकता  है
                                                                        समस्त   संसार .
                                                                        जब तक   है वोह  तेरी  शाखों से जुड़े हुए ,
                                                                        तब तक  है वोह  पल्लवित  और पुष्पित .
                                                                        मगर   जब   चलेगा  बदकिस्मती  का तेज़ झोंका ,
                                                                         शाख से  अलग होकर  उड़ जायेंगे  यह जाने कहाँ .
                                                                          धूल  में  मिल जायेंगे ,
                                                                           क़दमों  तले मसले जायेंगे ,
                                                                            या   गुमनामी की  दमघोटू  काल  कोठरी में
                                                                            घुट -घुट  के मर जायेंगे .
                                                                            मगर तुझे क्या ?
                                                                          तू तो पेड़  है ,
                                                                             तू भाग्यवान  है ,
                                                                             तू अह भी मजबूत  है ,
                                                                             अपने  एक -एक फुल-पत्तों  के नसीब  का ठेका
                                                                               तूने थोड़े  ना  लेकर रखा  है .
                                                                               किस को  ज़मीं खा गयी ,
                                                                                 किसको आसमा निगल  गया  ,
                                                                                 और  कोई तो न ज़मीं  का रहा ना अस्मा का।
                                                                                   वोह क्षितिज पर अटक गया .
                                                                                  उम्मीदों  की क्षितिज  पर .
                                                                                   मगर   क्षितिज  पर   अटका फुल  किस                                                                                      काम     का !
                                                                                   तेरे लिए   डूबता  हुआ   सूरज किस काम का।
                                                                                   दुनिया   चदते हुए सूरज को सलाम करती है ,
                                                                                    और तू भी  बढती  हुई  धारायों   का स्वागत  करती है ,
                                                                                     क्योंकि   जो रुक गया  वोह  समझो  नाला  बन गया ,
                                                                                     खड़ा हुआ नाला  गन्दा हो जाता है .
                                                                                      और गन्दा नाला  किसको  पसंद होता   है ?
                                                                                       इस   समाज  को भी तो बिलकुल पसंद नहीं .
                                                                                        तू भी तो  है  समाज का   हिस्सा .
                                                                                          समाज है तेरा  या तू समाज का आईना .
                                                                                         तू है  सपनो  की सौदागर ,
                                                                                          हे   माय नगरी !
                                                                                            जैसी  भी   है  मगर हमें   है प्यारी .
                                                                                           तू है  हमारे  देश   का अमूल्य नगीना।  
                                                                                            कैसे  भूल सकते  है तेरा  उपकार  ,
                                                                                           तूने दिए  अनगिनत ,अमूल्य ,व    अमर                                                                                                हीरे -जवाहरात ,
                                                                                           रत्न    नगीने .
                                                                                              तुझमें   है  एक   कमी ,
                                                                                             तो क्या हुआ !
                                                                                             चाँद   में भी तो दाग होता  है ,
                                                                                              मगर फिर भी  वोह सुहाना व् प्यारा लगता है .
                                                                                              इसी तरह  तू भी  हामी   प्यारी है .
                                                                                               हे  कला नगरी  !
                                                                                                तुझे   तेरा   100 वां  जन्मदिवस ,
                                                                                               ढेर  सारी  शुभ कामनायों   के साथ ,
                             
                                                                     बहुत -बहुत मुबारक।