बुधवार, 19 जुलाई 2017

मगरमच्छ के आंसू (कविता)

                                                       मगरमच्छ  के आंसू (कविता)

                                                      बड़ी देर कर दी नेता जी ,
                                                      आपने आने में.
                                                      सब कुछ खत्म हो गया ,
                                                      दो आंसू बचे हैं बस ,
                                                      हमारी आँखों के पैमाने में.
                                                     
                                                      अब तुम क्यों  आये हो ?
                                                      हमारे दर्द पर अपने दो ,
                                                      मगरमच्छ के आंसू बहाने आये हो.

                                                     ओह्हो ! समझ में आ गया ,
                                                     तुम क्यों आये हो.
                                                     तुम जले हुए घरों का धुंआ ,
                                                     देखने आये हो.
                                                     या  इस बाकि बचे जल रहे घरों की
                                                     आंच पर
                                                     अपनी गन्दी राजनीति की रोटियां ,
                                                     सेकने  आये हो.
                                                     या  जले हुए हमारे ज़ख्मों पर नमक,
                                                     और घी डालने आये हो.

                                                     फिर भी तुम्हें देखने का शौक है ,
                                                     या कोई रस्म  अदाएगी ,
                                                     महज औपचारिकता हेतु ,
                                                     तो देख लो .
                                                     इन घरों में क्या -क्या जला है ,
                                                   
                                                    इस आग में जली है ,
                                                     माताओं की आस.
                                                     किसी बिरहन की प्यास,
                                                      किसी लकड़ी के घोड़े की काठी ,
                                                       किसी  बूढ़े पिता की लाठी.
                                                       और किसी बहिन की राखी.

                                                       चूल्हे टूटे  पड़े हैं,
                                                       किताबे , जली हुई हैं,
                                                       खिलोने टूटे पड़े हैं,
                                                       कहीं  कुछ कपडे जले हुए पड़े हैं,
                                                       कहीं फटे हुए पड़े हैं,
                                                       कहीं दुपट्टे तार -तार हुए पड़े हैं.
                                                        यहाँ  मान -मर्यादा का ,
                                                        सपनो का ,
                                                        आशाओं का ,
                                                          अरमानो का ,
                                                         खून हुआ है.
                                                         यहाँ मानवता का खून हुआ है.
                                                      
                                                         तुम इन खून से सनी लाशों पर ,
                                                         अपने दो मगरमछी आंसू बहाने  आये हो.
                                                         मानवता के शत्रु ,वेह्शी ,दरिन्दे ,
                                                          तो सब कुछ बर्बाद करके चले गए.
                                                         तुम अब क्या अपने वोट बैंक के लिए ,
                                                         वोट  खरीदने आये हो ?
                                                         बेसहारा ,मजबूर , शौक -संतप्त बचे हुए ,
                                                         लोगों  के गम चंद रुपयों से खरीदने आये हो.
                                                         
                                                         बेशक तुम एक कुशल व्यापारी हो ,
                                                         जो जनता की जिंदगियों को  रुपयों -पैसों से ,
                                                         तौलने  आये  आये हो.
                                                      
                                                         तुम बहुत  शानदार अभिनेता भी हो ,
                                                         लोगों की बेबसी पर नकली आंसू बहाना ,
                                                         तुम्हारी कुशल  नाटकीयता में शामिल है.
                                                         ऐसे नकली आंसुओं को मगरमच्छ के
                                                            आंसू ही तो कहा जायेगा.
                                        
                                                      
                                                       
                                                                                                         
                                                   
                                                   

बुधवार, 21 जून 2017

कैसे -कैसे रिश्ते ( कविता)

                                   कैसे -कैसे रिश्ते (कविता )

                                  कैसे -कैसे ये दुनिया में रिश्ते ,
                                 कैसा इन रिश्तों का ताना-बाना .
                                किसी में  निश्छल ,निस्वार्थ   प्रेम
                               किसी में बस मतलब का याराना .


                               कहीं  अजनबी भी अपने से ,
                              तो कहीं  अपने भी अजनबी .
                              मरहम लगाये इन्हीं में कोई,
                             और इन्हीं में ज़ख्म दे जाये कभी .



                             जीवन के सफ़र में जुड़ते है रिश्तेऐसे ,
                              रेल की लम्बी यात्रा की तरह .
                              मिलना -बिछुड़ना जैसे लगा रहता है ,
                             जीवन  में भी हमारे  इसी तरह .


                              इस सफ़र में मिलते है भिन्न -भिन्न ,
                              प्रकृति  के  कितनी संख्या में यात्री ,
                              कोई दिलदार ,तो कोई खुश्क ,
                              कोई साथ छोड़ने वाला .तो कोई बनता  सहयात्री .


                             साथ  सफ़र करते हैं, वोह सहयात्री ,
                             तो क्या एक-दूजे को पहचानते है ?
                             क्षणिक भेंट  क्या ता उम्र भी वोह ,
                            एक-दूजे को क्या जान पाते हैं?


                           अपने होकर भी जो  गैर रह जाते हैं,
                           नहीं पढ़ पाते मन की अनकही भाषा .
                          और  कोई  गैर होकर भी पढ़ जाते है ,
                           हमारे जीवन की पूर्ण परिभाषा .


                          यह है  रिश्तों का ताना -बाना  मित्रों !,
                         कुछ धर्म से तो कुछ जन्म से जुड़ा.
                          कुछ कर्म से तो कुछ  व्यवहार से ,
                          तो कोई मात्र समझौते  से  जुड़ा .


                          भले कैसे भी हो  दुनिया के रिश्ते ,
                          मगर इनमें भावना  ज़रूरी है ,
                          चाहे कितने  भी मतभेद हो परस्पर ,
                         मगर आपसी लगाव बहुत ज़रूरी है. 


                         प्यार ,आत्मीयता जैसी ईश्वर के साथ,
                         काश इंसानों में भी वैसे ही हो जाये .
                         प्रकृति के साथ  तारतम्य सब जीवों का जैसे ,
                         परस्पर एक दूजे के साथ हो  जाये .

                          
                          क्या ही अच्छा हो  यदि  खोखले रिश्तों का ताना -बाना ,
                          प्यार,करुणा ,साहचर्य ,दया ,और ममता  से भर जाये. 
                          हर रिश्ता हम इंसानों के  मध्य का मजबूत हो जाये.
                          काश  ! निस्वार्थ-स्नेह-सूत्र से बंधा होता रिश्तों का ताना -बाना .
                         
                        
                         
                         
                         


                              
                             

                            
                            
                              



सोमवार, 27 मार्च 2017

लौट आओ गोरैया ..(कविता)

                              लौट आओ  गोरैया ....! (कविता) 

                            

                                  लौट आओ ना  गौरैया !  तुम्हें देखने को 
                                  तरस  गए  हैं  मेरे  व्याकुल  नयन .
                                  कानों  ने भी तो  बड़े दिनों से  नहीं सूने ,
                                  तुम्हारे  मीठे -मीठे रसीले  बैन .


                                   अब  आ भी  जाओ  ना  की  तुम्हारे  बिना,
                                    सुनी -सुनी  है कब से  अटरिया  मेरी   .
                                   आंगन  भी  सूना   है  सुन चिड़िया !
                                    सामने आये  तो लूंगी  बलैया  तेरी .
                     
                                  
                                   रूठ  गयी  है  क्या  ?  या कहीं खो गयी ?
                                  जो दिखती नहीं  घर की छत व्  मुंडेरों पर.
                                  खिडकियों पर ,दरवाज़ों पर  नहींदिखती ,
                                   ना ही दिखती है गलियारे व् चौबारों पर.
                                 

                                   रोज़ ही दीवारों पर रखती हूँ दाना-पानी ,
                                   तू देख  तो सही आकर  अब भी  रखा है. 
                                    तेरे लिए  तो  आज  मैने  खीर -पूड़ी ,
                                     और  हलवा  भी  तेरे  लिए  रखा है. 


                                    अब आ भीजा   न मेरी  नन्ही  सहेली ! 
                                     मत कर आनाकानी ,और न ही सता. 
                                     आकर चुग ले  अपना  दाना-पानी ,
                                      जो  तेरे लिए  बड़े प्यार से मैंने रखा. 



                                     तू तो  मेरी अपनी सी थी , ओ चिडिया !,
                                     ची ची  करके  हर सुभह मुझे  जगाती  थी.
                                     दाना-पानी खत्म हो जाने पर  तू   ,
                                    चोंच से खाली बर्तन को टक -टकाती  थी .


                                    हाय ! बहुत याद  आता  है मुझे चहचहाना .
                                    सारे  घर -आँगन में  यहाँ -वहां फुदकना, 
                                    दानों के ढेर से दाना चुगना ,और पानी पीना ,
                                    तेरा सांवला -सलोना रूप लगता था लुभावना .


                                    कहाँ  है  तेरा  घोंसला  ,ओ नन्ही  गोरैया !
                                    और  तेरे नन्हे -नन्हे  बच्चे है  कहाँ ?
                                    बहुत वर्षों  से  नहीं देखा  तेरा घर-संसार ,
                                    बता  तूने अपना  बसेरा  बसा लिया है कहाँ ?



                                    तू क्या गयी ,के मेरे घर की रौनक चली गयी ,
                                    यूँलगे अपने परिवार की प्यारी सदस्य कहीं चली गयी.
                                    अब  आ भी  जा मेरी प्रिय सहेली ,यूँ हठ मत कर ,
                                    अब बता भी  दे ना !   क्यों  तू रूठ के  चली  गयी ?


                                  देख  ! चाहे कुछ भी हो  तू ज़यदा देर रूठी नहीं रह सकती ,
                                   कभी तो तुझे लौट  के  जल्दी आना  होगा .
                                  तेरी -मेरी   गहरी दोस्ती को  तुझे हर हाल में निभाना होगा.
                                    लौट  आओ  गोरैया ! के तुम्हें  आना होगा.   ....
                                    
                                       


                                      

रविवार, 19 मार्च 2017

इंसान बन (कविता)

                                             होश  में आ ..!  (कविता) 

                                               ( नशे के गुलाम  युवाओं  के लिए )

 

                                                            ऐ नौजवान! जीवन   बार -बार  नहीं  मिलता ,
                                                            यह मनुष्य -जन्म भी बार-बार नहीं मिलता .
                                                           खो  दिया जाए   गर  बेशकीमती  हीरे  सा जीवन,
                                                           तो लाख चौरासी योनियों के बाद ही है मिलता .
                                                          फिर क्यों  तू  इसे  नशे  में बर्बाद कर रहा...

                                                         तू  देश का कर्णधार है  भविष्य  है तू इसका,
                                                         नाव है गर यह और  तो तू माझी है इसका ,
                                                        कुछ फ़र्ज़ है तेरे इसके प्रति और जिम्मेवारी ,
                                                         एक ज़िम्मेदार  नागरिक  है  तू  इसका .
                                                         तू तो अपने देश के फ़र्ज़ भी  भूल  रहा...

                                                     
                                                         अपने  माता-पिता  की और  गौर से देख,
                                                          देख सकता है तो तू इनकी आँखों में देख ,
                                                          तुझे जन्म दिया ,पालन -पोषण किया ,
                                                           देखे थे जो सपने तेरे लिए ,उनके टुकड़े देख.
                                                           इनके प्रति  अपना  उत्तरदायित्व है तू भूल रहा ...


                                                           यूँ  नशे का गुलाम मत बन ,कर्मयोगी बन,
                                                            देश  के विकास  में  तू  इसका सहयोगी बन,
                                                            करके  सद्कर्म,  सद्चरित्र और  संस्कारी हो ,
                                                            और माता-पिता के चरणों का  अनुरागी बन.
                                                             नयी  सदी का चदता सूरज  तुझे  निहार रहा ...

                                                      
                                                             नशे की लत ने ना कभी किसी का भला किया है,
                                                             इसने तो  मुल्कों / घरो को  सदा बर्बाद किया है.
                                                             डस लीया  इसने  कई  माता- पिता की  संताने को ,
                                                             जो भी  इस ज़हरीले नाग की गिरफ्त में आया है.
                                                              देख यह  तेरा  जीवन भी  यह बेदर्दी से मिटा रहा ,,,,


                                                               नशे में डूबेरहने से कभी कोईगम गलत नहीं होता.
                                                               इसके  दुस्वप्न से  कभी किसी का भला नहीं होता,
                                                               इंसान है तो डट कर हालातों का  सामना  कर,
                                                               हकीक़त से मुँह मोड़ने से  भी कभी वोह नहीं छुपता .
                                                               यह जाता हुआ वक्त तुझे  ललकार रहा ...

                 
                                                                जाने  क्यों यह भूल गया तू ओ भटके हुए नौजवान!,
                                                                जिस धरती पर तूने जन्म लिया उसका एहसां मान,
                                                                यह है कई  महान गुरुओं ,संतो व् वीरों की  धरती ,
                                                                जिन्होंने इस पर अपना तन-मन -धन किया कुर्बान .
                                                                गौर से सुन  इन महापुरुषों  लहू तुझे पुकार  रहा..
                                                                 
                                                              
                                                           
                                            
                                                       

                         

मंगलवार, 28 फ़रवरी 2017

विद्या (कविता)

                                                         विद्या को  ना मलिन करो.. (कविता)
                                

                           जगत पिता  ब्रहमा  के कर कमलों  से ,
                           वीणावादिनी  की वीणा के स्वरों  से ,
                           निकली है सरिता सी  निर्मल, म्रदुल विद्या .
                           बहती  आ  रही है  सदियों से  यह ,
                           सरल,  मगर बेहद गंभीर यह ,
                            ज्ञान-ध्यान व् विज्ञान की  अजस्र विद्या .
                            रंग-भेद ,जाति-पांति और सम्प्रदाय ,
                            सारे  बन्धनों को तोड़  यह जाए ,
                           होती है  स्वतंत्र ,निष्पक्ष स्वभाव  की विद्या .
                            राह में  हो  चाहे  जितनी  दुर्गम घाटियाँ ,
                            भ्रष्टाचार ,बईमानी ,कुटिल राजनीतियाँ ,
                            सारी  बुराईयों को अपने संग बहा ले जाए विद्या .
                            समय  व् हालातों  के  कारण  ,
                            बदलते हुए साम्राज्यों के कारण ,
                           टूटी बेशक मगर  लुप्त नहीं हुई  जीवनदायिनी विद्या .
                           ज्ञान ,विज्ञानं व्  कला ,
                            साहित्य ,  वाणिज्य  ,चिकित्सा ,
                            या युद्ध-कला .
                            ऐसे अनेक  धाराओं  में  बंट गयी  विद्या.
                             भारत -भूमि  के विकास  में,
                             जन-जन के  उद्धार में .
                              सदा सहयोगिनी  रही है और रहेगी  यह  विद्या .
                              इस सरिता  सी निर्मल धारा  में,
                              इस  अथाह तल की  गहरायी में,
                               जो जितना  डूबा  उसी को   प्राप्त  हुई  यह विद्या .
                               जो हो जिज्ञासु प्रवृति  का ,
                                जिसमें भाव हो  पूर्ण  समर्पण का ,
                                उसी  सच्चे  मानव  को समर्पित होती है विद्या.
                                सांसारिक ज्ञान ,आकाशीय ज्ञान,
                                आत्म ज्ञान  ,ब्रह्म ज्ञान ,
                                 सभी  से परिपूर्ण  करती है यह विद्या.
                                  मानवता  का   पाठ पढ़ाकर ,
                                  अन्य  प्राणियों व् प्रकृति से प्रेम बढाकर ,
                                  मनुष्य को  संत बनाती  है  यह संस्कारी  विद्या .
                                  मेरी  विनम्र प्रार्थना  है  तुमसे,
                                  आज  के  भटके हुए  युवाओं से ,
                                  तुम  इस सरिता  रुपी विद्या  को ना  मलिन करो.
                                  ना घोलो  ज़हर  मेरे वतन  में ,
                                  गद्दारी ,व्  अलगाववादीता का ,
                                 इसके  शिक्षा -संस्थानों  रुपी मंदिरों को  ना   दूषित  करो.
                               
                                  

                                  


                            

रविवार, 18 दिसंबर 2016

मर्यादा (कविता)

                                 मर्यादा  (   कविता ) 

                                आज  की   आधुनिक  बालाओ  ने  ,
                               जबसे   सर  से  चूनर  हटा दिया .
                               समाज  ने  मर्यादा का  भी  तब से ,
                               नामो -निशान   इसका मिटा  दिया .


                                पाश्चात्य  रंग  में  रंगी  यह  तितलियाँ .
                                पहनती  हैं  आधे -अधूरे   लिबास  .
                               अपनी  संस्कृति /सभ्यता की अवहेलना करें ,
                               कहाँ  रह   गयी  इनमें  शर्म और लिहाज़ .

                              
                              न  नमस्कार ,ना प्रणाम  न  आदाब ,
                              इन्हें  लगता  है चरण-वंदना  भी  आजाब .
                             अंग्रेजी  के hai , helloऔर bye कहती है ,
                              अभिवादन का यही दस्तूर  है  इनका  जनाब .


                               कहती  है  यह खुद  को  आधुनिक  नारी ,
                                शिक्षित ,स्वतंत्र  और  प्रगति शील .
                                मगर  अधिकारों  के साथ  कर्तव्यों को न समझे ,
                                ऐसी  है  स्वार्थी  और   दम्भी  यह बुध्धिशील .


                                क्या इसे  कहते हैं   आधुनिकता ?
                                के संस्कार  और शिक्षा  में  कोई सामजस्य  नहीं.
                                जुड़ना  तो चाहती  है  देश  के विकास के   साथ,
                                 मगर उसकी  सभ्यता /संस्कृति  के  प्रति  आदर नहीं.


                                इतिहास  गवाह  है  की  भारतीय महान  नारियों ने ,
                                सदा  अपनी शालीनता  और सादगी  से  सम्मान  पाया,
                                 समाज  की मर्यादाओं  का  ध्यान  में रखकर  भी ,
                                 खुद  को देश  की विकास की मुख्य-धारा  में  शामिल किया.


                                  लज्जा  है नारी  का  आभूषण और  स्वाभिमान है  घूँघट ,
                                  आत्म-विश्वास और  आत्म-सम्मान है उसका अस्त्र .
                                   अपनी  देवीय शक्ति  को पहचानो  हे  नारायणी !
                                   अपनी  आत्म-शक्ति  को बनाओ  तुम  शस्त्र .


                                   याद रखो  हे  आधुनिक  बालाओ  !
                                   तुम्हीं  ने   समाज  में  मर्यादा रखनी है. 
                                   घूँघट  ना सही  ,कोई पर्दा  भी  ना सही   मगर ,
                                    आँखों  में  ,आचरण  में तो   शर्म  रखनी  है.


                                    तुम  रहोगी  मर्यादा  में  तभी तो ,
                                    पुरुषों  को  भी  मर्यादा   में  रहना  सीखा  पाओगी .
                                     खुद के  साथ-साथ  अपनी  जाति को   भी ,
                                     समाज  में  उच्च स्थान  दिलवा पाओगी .